Month: July 2017

ये कैसा इंसाफ – 23

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है: ये कैसा इंसाफ – 22 उसका ध्यान फिर नैना की तरफ गया जो अनुष्का के उठकर उसके करीब आने की प्रतीक्षा कर रही थी। वो औरत दो खून कर चुकी थी और अब निश्चय ही तीसरा—या चौथा, खुद उसका भी—खून करने से हिचकने वाली नहीं थी। जब भी […]

बहन ने गोवा में दो बुढो का लंड लिया

बहन ने गोवा में दो बुढो का लंड लिया, मैंने देखा की अब वो दोनों ने मेरी बहन को अपने बीच में बिठा लिया. ऐपी ने मेरे से आई कोंटेक नहीं किया उस पल के बाद. वो दोनों ऐपी की जांघो के ऊपर हतः फेर रहे थे. और मैं खुली आँखों से ये मंजर देख रहा था. अवधेश ने अब मेरी बहन की चूत के ऊपर हाथ को रख के दबा दिया

भाभी के मुह से कामुक सिस्कारिया

भाभी के मुह से कामुक सिस्कारिया, मोम ने भाभी से बोला मेरे साथ जाने कोऔर भाभी भी झट से हाँ बोल के रेडी हो गई. फिर हम बाजार गए और काफी बातें की और मैंने ब्रेक्स का सहारा लेते हुए काफी बार उनके नर्म नर्म बूब्स को महसूस कर लिया था जिस वजह से मेरी तड़प और भी बढ़ गई

थ्रीसम सेक्स सास बहु के साथ

थ्रीसम सेक्स सास बहु के साथ, आंटी को अपना लंड पकड़ा के कहा अब इसे गिला कर दो आंटी ने लंड को थोडा चूस के गिला कर दिया फिर उसकी आगे की चमड़ी को पीछे कर दी उसने आंटी ने अपने लेग्स खोल दिए और मेरे लंड को छेद पर लगा दिया मैंने एक धक्का तो दिया लेकिन मेरे लिए यह पहला अनुभव था और मेरा लंड चूत में घुसा नहीं

दीदी ने लड़के की तरह गे चुदाई की-2

दीदी ने लड़के की तरह गे चुदाई की-2, अपनी टीशर्ट को आधी पीठ तक ऊपर खींच लिया फिर मेरे दोनों हाथों को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूचियों पर रख दिया अपनी चूचियों को मेरे हाथ से मसलने लगी और साथ ही अपनी गांड को तेज़ी से पीछे करने लगी शायद दीदी झड़ने ही वाली थी और इस समय बहुत उत्तेजना में थी पर हुआ कुछ उल्टा

कच्ची कली से फूल बन गयी

हाई दोस्तों मेरा नाम रेशम शेख है मै जौनपुर के छोटे से गांव में रहती हूँ .मेरी उम्र अब 20 साल की है हमारे गावं में बाजार से थोड़ा दूर है इसलिए हम लोग जयादातर सायकल प्रयोग करते है मै भी खूब सायकल चलाती हूँ .मेरे गांव का ही एक लड़का जिसका नाम आमिर है […]

ये कैसा इंसाफ – 22

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है: ये कैसा इंसाफ – 21 ‘ये दिल्ली में पड़ी एक बैंक डकैती में लूटे माल का हिस्सा है’—रितेश बोला—‘ये नोट ट्रेस किये जा सकते हैं। सारे हिन्दोस्तान की पुलिस को इन नोटों के सीरियल नम्बरों की खबर है। ऊपर से ये रुपया पांच सौ के एकदम नये […]

दीदी ने लड़के की तरह गे चुदाई की-1

दीदी ने लड़के की तरह गे चुदाई की-1, मैंने कोई जवाब दिये बगैर अपना लोअर और अंडरवियर कमर से नीचे सरका दिया दीदी ने लंड पर अपना हाथ रख दिया लंड में कोई हरकत नहीं हुई दीदी ने अपने हाथ से उसे सहलाना शुरू किया पर कोई रिस्पांस नहीं मिला

‘जिदगी के सफ़र में’

एक बार निखिल ने उसकी चुचियों को दबा दिया था तो उसने गालियाँ देके निखिल की गाँड़ फाड़ दी थी वो बस आती और लेट जाती या कस्टमर को लिटा के खुद उस पर कूदने लगती काम हो जाने के बाद अपने पैसे लेती और चुप चाप निकल जाती कस्टमर से ना कोई बात चीत और ना कोई सिफारिस. 

ये कैसा इंसाफ – 21

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है: ये कैसा इंसाफ – 20 ‘इसका जवाब है कि इसने ऐसा नहीं किया। इसने रात को बाल धोकर ब्यूटी पार्लर की मेहनत की ऐसी तैसी नहीं फेरी। ब्यूटी पार्लर की मेहनत की ऐसी तैसी उस तेज बारिश ने की जिसमें कि ये कत्ल के बाद ही गुप्ता […]