शादीशुदा कॉलेज फ्रेंड की पहली गांड चुदाई

गतांग से आगे…

और वो सेक्स में कई एक्सपेरिमेंट भी नही करते। मैने उसको उसकी सुहागरात के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उस रात भी उसके पति आये और अपने और मेरे कपड़े उतार कर सीधा लन्ड खड़ा करके घुसा दिया। उसकी दर्द भी बहुत हुआ लेकिन उसके पति को इसका की अहसास तक नही हुआ।

तभी मैंने उस से मजाक करते हुए बोल दिया कि चारू तुमने अपने पति को तो कुंवारी चूत दी थी जबकि उसने तुम्हें कुछ खास मज़ा भी नही दिया था, लेकिन मैं तो तुम्हे आज पूरा मज्जा दे रहा हु तो मुझे क्या खास दोगी।

इस पर उसने बोला कि मेरे पास अलग से देने के लिए तो कुछ है ही नहीं अब तुम ही बताओ मैं क्या दु। इस बात पर मैन हस्ते हुवे अपना हाथ धीरे से उसके उसके चूतड़ों के बीच मे घुसाते हुवे गांड पर फेरते हुवे बोला कि ये दे दो।

तभी वह झटकते हुवे बोली कि छि वहां पर भी कोई करता है क्या? मैने उसको बोला कि लड़की के तो दोनों छेद ही लन्ड डालने के लिए बने होते है तो उसने पूछा कि तुम ये बात कैसे कह सकते हो??

अब मैंने उसको समझाया कि देखो लड़कियों के चूतड़ इसलिए बड़े होते है ताकि उनको दोनो तरफ से बजाया जा सके। इस पर वो डरते हुवे बोली कि सुमित तुम्हारी जो मर्जी हो वो करो लेकिन कोई प्रॉब्लम नही होनी चाहिए क्योंकि उसको वापस घर भी जाना है।

मैने उसको पूरा विश्वास दिलाया कि हम कोसिस करेंगें और अगर उसको ठीक नही लगता है तो नही करेंगे। इस बात पर उसका डर कुछ कम हुआ और वो भी सहमत हो गयी अपनी गांड मरवाने के लिए।

जैसे कि दोस्तों मैं आपको पहले भी बता चुका हूं कि लड़कियों की बड़ी सी गांड मेरी सदा से ही कमजोरी रही हैं और आज चारु जैसी हाउसवाइफ जिसकी गांड पूरे 36 इंच की थी आज मुझसे चुदवाने को तैयार थी तो मुझे खुद अपनी किस्मत पर नाज हो रहा था।।

मैंने चारू को बताया आज हम सुहागदीन मनाने जा रहे है जिसको तुम जिंदगी भर याद रखोगी। हालांकि उसके मन में अभी भी कुछ डर बाकी था लेकिन साथ ही उसे मुझ पर भी पूरा भरोसा था। अब मैने चारू को अपने ऊपर लिटा कर उसके होठों को चूमना शुरू कर दिया और साथ ही साथ मेरे दोनों हाथ उसके भारी भरकम नितम्ब को सहला रहे थे और मेरी एक उंगली उसके गांड पर भी दस्तक दे रही थीं।

मैने धीरे से उसको पूछा कि कुछ क्रीम वगेरा हैं क्या तो उसने बोला कि उसके पर्स में सन क्रीम रखी होगी। मैने वो क्रीम निकाली और अपने एक उंगली पर थोड़ी से लेकर उसकी गांड के अंदर बाहर करना शुरु किया।

हालांकि शुरू में उसको थोड़ा दर्द हुआ लेकिन थोड़ी देर बाद ही उसको इसमें मज़ा आने लगा और वह खुद भी अपनी गांड हिलाने लगी।

अब मैने उसको गर्म करने के लिए उसका एक बोबा मुह में लेकर चूसना शुरू किया और उसका निप्पल भी दांत से काटना शुरू किया तो उसके मुह से आह उह आह, मम्मी जैसी आवाजे निकलनी शुरू हो गयी। उसका एक हाथ मेरे लन्ड को सहला रहा था जिसके चलते मेरा लन्ड भी अब एकदम कड़क हो गया था।

मैंने धीरे से चारु के कान में पूछा कि क्या तुम गांड मरवाने के लिए तैयार हो तो उसने मेरी आँखों मे झाँक कर हा का जवाब दिया। अब मैने उसको पकड़ कर पलँग के किनारे कुतिया पोजीशन में खड़ा किया और खुद पलँग के नीचे खड़ा होकर अपने लन्ड को उसके चूतड़ों के बीच गांड के बीच के सेट करके रगड़ने लगा।

अब तो मेरी जान चारू भी अपने चूतड़ों को हिला कर मुझे गांड मारने के लिए आमंत्रित करने लगी। दोस्तों मेरे सामने एकदम गोरी गोरी ओर भारीभरकम गांड आज खुद चुदने को तैयार थी और मुझे अपनी किस्मत पर नाज भी हो रहा था।

मैंने चारू की गांड की गोलाइयों को अपने दोनों हाथों से कस कर पकड़ा औऱ एक जोर का धक्का उसके पिछवाड़े पर मारा तो मेरा आधा लन्ड गप से उसकी गांड में घुस गया और एक जोर की चीख चारु के मुह से निकली जो उसने तकिये पर अपने मुह ढक कर दबा दी।

उसकी घुटी हुई चीखे अभी भी मेरे कानों में पड़ रही थी लेकिन मैंने अपने लन्ड को ज्यो का त्यों ही रखा और उसके गोरे गोरे चूतड़ सहलाने लगा। फिर अपने दोनो हाथो को आगे ले जाकर उसके बोबे मसलने शुरू किए और निप्पलों को भी उंगलियों से उमेठने शूरु किया। जिस से उसको कुछ आराम मिला तभी उसने अपना बाया हाथ चूतड़ों पर ले जाकर लन्ड को छू कर देखा कि कितना अंदर गया है,

फिर मुझे धीरे से बोली कि सुमित प्लीज और आगे मत डालना और अभी इसी को आगे पीछे करो। तब मैंने उसके गोल गोल ढुंगो को पकड़ कर लन्ड को आगे पीछे करना शुरू किया। आप यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | हालांकि उसकी गांड एकदम कसी हुई थी लेकिन फिर भी मेरे लन्ड से निकली चिकनाई की बजह से लन्ड धीरे धीरे आसानी से अंदर बाहर होना शुरू हो गया।

उसके मुह से अभी भी आह, आह, ओह मम्मी जैसी सीत्कारे निकल रही थी। दोस्तो उसकी गांड की गर्मी से मेरा भी लन्ड अब अभी भी पिघल सकता था इसलिए मैंने ठान लिया कि मेरा काम खत्म होने से पहले इसकी गांड में मेरा पूरा लौड़ा डालना ही है।

इसलिये मैने धीरे से उसके दोनों चूतड़ों को अपने हाथो से कस कर पकड़ा और एक जोर का धक्का उसकी गांड पर मारा जिस से मेरा पूरा का पूरा लन्ड उसकी गांड में समा गया साथ ही साथ चारू भी गांड में उठे दर्द की वजह से एकदम रो पड़ी लेकिन उसने दर्द को सहते हुवे अपने मुह की तकिये में छुपा लिया।

अब आगे का रस्ता मेरे लिए एक दम क्लियर था इसलिए मैने धीरे धीरे से लन्ड की अंदर बाहर करना शुरू किया।। मेरी चारू अब सिसकारियां करते हुवे आह मम्मी, ओह गॉड , ओह सुमित जैसे बड़बड़ाती जा रही थी।

दोस्तो अब मुझसे मेरी चारु की भारीभरकम गांड देख कर सब्र करना बहुत मुश्किल हो गया था और मेरा लन्ड भी एकदम रॉड की तरह इसकी गांड में फिट लग रहा था।

अब मैने उसकी गांड को कसकर धक्के मारने शुरु किये तो चारू की जोरदार वाली सिसकिया आह, औह सुमित, आह मम्मी,, आउच मम्मी। आह सुमित फक में आस। आह कम ओंन सुमित। जैसी आवाज निकलनी शुरू हो गयी। अब मैने चारू की गोरी गोरी गांड पर हथेली से जोरदार वाले चाटे मारने भी शूरु कर दिए जिससे उसकी गांड एकदम लाल हो गयी थी।

मैने उसके चूतड़ों को कसके पकड़ा और जोर जोर से धक्के मारने शुरू कर दिए जिस से होटल का पलंग भी चु चु की सेक्सी आवाजे करने लगा। अब मेरा चारू की गरमागरम गांड में टिक पाना मुश्किल हो गया था इसलिए मैने जोर जोर से चारू की गांड मारनी शुरू कर दी।। मैने चारू की बताया कि मेरा पानी निकलने वाला है तो उसने बोला कि मेरी गांड में ही निकाल दो मैं इसको महसूस करना चाहती हूं।

इस पल मेने जोर जोर से कसकर धक्के मारते हुए अपने लन्ड का पुरा पानी उसकी गांड में उड़ेल दिया। अब चारू भी एकदम पस्त होकर बेड पर पड़ गयी थी और अपनी सांसो को कंट्रोल कर रही थी। अब मैं भी उसकी पीठ पर पेट के बल लेट गया और अपने हाथों से उसके नितंबों को सहलाना शुरू कर दिया। थोड़ी देर बाद ही मैंने देखा कि चारू को गहरी नींद आ गयी थी।

आज पहली बार उसकी चुदाई की तसल्ली उसके चेहरे पर साफ दिखाई दे रही थीं। मैने धीरे से से उसको सीधा सुलाने की कोसिस की तो वो किसी मासूम बच्चे के जैसे मुझसे और जोर से चिपक कर सोने लगी।

मुझे उसकी मासूमियत पर तरस आया और उसको कस के अपने गले लगा कर सुला दिया। मेरा एक हाथ अभी भी उसकी पीठ और गांड पर धीरे धीरे घूम रहा था लेकिन मेरी चारू तो अभी भी दुनिया से बेखबर होकर चैन की चुदाई वाली नींद में सो रही थी।

तो यह थी दोस्तों मेरी कॉलेज फ्रेंड की पहली गांड चुदाई की कहानी। अगली कहानी में मैं लिखूंगा की कैसे मैने उसकी चूत बजायी और उसके घर पर मेहमान बनकर जा कर भी उसको चोदा था।। आप सबके कमेन्ट और राय की इन्तिज़ार मुझे रहेगा। [email protected]