Mastaram.Net

100% Free Hindi Sex Stories - Sex Kahaniyan

भाई से चुदवाने के लिए बहन ने अपनी झाट निकाली

सुनील छोटे से गांव का रहने वाला है. गाँव में बस उसके माँ बाप और बहन ही थे गांव में घोर गरीबी के चलते उसे 15 साल की ही उम्र अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ कर मायानगरी शहर मुंबई आना पड़ा. मुंबई आते ही उसे एक कारखाने में नौकरी मिल गयी. उसने तुरंत ही अपनी लगन एवं इमानदारी का इनाम पाया और उसकी तरक्की सिर्फ एक साल में ही सुपरवाइजर में हो गयी.

अब उसे ज्यादा वेतन मिलने लगा था. अब वो अपने गाँव अपने माँ बाप और बहन से मुलाक़ात करने एवं उन्हें यहाँ लाने की सोच रहा था. तभी एक दिन उसके पास उसकी बहन का फोन आया कि उसके माँ बाप का एक्सिडेंट हो गया है. सुनील जल्दी से अपने गाँव के लिए छुट्टी ले कर निकला. मुंबई से गाँव जाने में उसे तीन दिन लग गए.

मगर दुर्भाग्यवश वो ज्यों ही अपने घर पहुंचा उसके अगले दिन ही उसके माँ बाप की मृत्यु हो गयी. होनी को कौन टाल सकता था. माँ बाप के गुजरने के बाद सुनील अपनी बहन को मुंबई ले जाने की सोचने लगा क्यों कि यहाँ वो बिलकुल ही अकेली रहती और गाँव में कोई खेती- बाड़ी भी नही थी जिसके लिए उसकी बहन गाँव में रहती.

पहले तो उसकी बहन अपने गाँव को छोड़ना नही चाहती थी मगर भाई के समझाने पर वो मान गयी और भाई के साथ मुंबई चली आयी. उसकी बहन का नाम सरिता है. उसकी उम्र 17-18 साल की है. गाँव में सोमेश नाम के लड़के से उसका चक्कर चला था। वो लड़का सरिता को चोद कर भाग गया था।

सुनील ने मुंबई में एक छोटा सा कमरा किराया पर ले रखा था. इसमें एक किचन और बाथरूम अटैच था. उसके जिस मकान में यह कमरा ले रखा था उसमे चारों तरफ इसी तरह के छोटे छोटे कमरे थे.

वहां पर लगभग सभी बाहरी लोग ही किराए पर रहते थे. इसलिए किसी को किसी से मतलब नही था. सुनील का कमरे में सिर्फ एक खिडकी और एक मुख्य दरवाजा था. सरिता पहली बार अपने गाँव से बाहर निकली थी.

मुंबई की भव्यता ने उसकी उसकी आँखे चुंधिया दी. जब सुनील अपनी बहन सरिता को अपने कमरे में ले कर गया तो सरिता को वह छोटा सा कमरा भी आलिशान लग रहा था. क्यों कि वो आज तक किसी पक्के मकान में नही रही थी. वो गाँव में एक छोटे से झोपड़े में अपना जीवन यापन कर रही थी. उसे उसके भाई ने अपने कमरे के बारे में बताया .

किचन और बाथरूम के बारे में बताया. यह भी बताया कि यहाँ गाँव कि तरह कोई नदी नहीं है कि जब मन करे जा कर पानी ले आये और काम करे. यहाँ पानी आने का टाइम रहता है. इसी में अपना काम कर लेना है. पहले दिन उसने अपनी बहन को बाहर ले जा कर खाना खिलाया. सरिता के लिए ये सचमुच अनोखा अनुभव था.

वो हिंदी भाषा ना तो समझ पाती थी ना ही बोल पाती थी. वो परेशान थी . लेकिन ने उसे समझाया कि वो धीरे धीरे सब समझने लगेगी.
रात में जब सोने का समय आया तो दोनों एक ही बिस्तर पर सो गए. सुनील का बिस्तर डबल था.

इसलिए दोनों को सोने में परेशानी तो नही हुई. परन्तु सुनील तो आदतानुसार किसी तरह सो गया लेकिन पहाड़ों पर रहने वाली सरिता को मुंबईकी उमस भरी रात पसंद नही आ रही थी.वो रात भर करवट लेती रही. खैर! सुबह हुई.

सुनील अपने कारखाने जाने केलिए निकलने लगा. सरिता ने उसके लिए नाश्ता बना दिया. सुनील ने सरिता को सभी जरुरी बातें समझा कर अपने कारखाने चला गया.

सरिता ने दिन भर अपने कमरे की साफ़ सफाई की एवं कमरे को व्यवस्थित किया.शाम को जब सुनील वापस आया तो अपना कमरा सजा हुआ पाया तो बहुत खुश हुआ. उसने सरिता को बाजार घुमाने लेगया और रात का खाना भी बाहर ही खाया.

सरिता अब धीरे धीरे अपने गाँव को भूलने लगी थी. अगले 3 -4 दिनों में सरिता अपने माँ बाप की यादों से बाहर निकलने लगीथी और अपने आप को मुंबई के वातावरण अनुसार ढालने की कोशिश करने लगी. सुनील सरिता पर धीरे धीरे हावी होने लगा था.

सुनील जो कहता सरिता उसे चुप चाप स्वीकारकरती थी. क्यों कि वो समझती थी कि अब उसका भरण – पोषण करने वाला सिर्फ उसका भाई ही है. सुनील भी अब सरिता का अभिभावक के तरह व्यवहार करने लगा था.

सुनील रात में सिर्फ अंडरवियर पहन कर सोता था. एक रात में उसकी नींद खुली तो वो देखता है कि उसकी बहन बैठी हुई.

सुनील – क्या हुआ? सोती क्यों नहीं?

सरिता – इतनी गरमी है यहाँ.

सुनील – तो इतने भारी भरकम कपडे क्यों पहन रखे हैं?

सरिता – मेरे पास तो यही कपडे हैं.

सुनील – गाउन नहीं है क्या?

मेरी बहन सरिता का मस्त बदन

सरिता – नहीं.

सुनील – तुमने पहले मुझे बताया क्यों नहीं? कल मै लेते आऊँगा.

अगले दिन सुनील अपनी बहन के लिए एक बिलकूल पतली सी नाइटी खरीद कर लेते आया. ताकि रात में बहन को आराम मिल सके. जब उसने अपनी बहन को वो नाइटी दिखाया तोवो बड़े ही असमंजस में पड़ गयी. उसने आज तक कभी नाइटी नही पहनी थी.

लेकिन जब सुनील ने बताया कि मुंबई में सभी औरतें नाइटी पहन कर ही सोती हैं तो उसने पूछा कि इसे पहनूं कैसे? सुनील ने कहा – अन्दर के सभी कपडे खोल दो. और सिर्फ नाइटी पहनलो.

बेचारी सरिता ने ऐसा ही किया. उसने किचन में जा कर अपनी पहले के सभी कपडे खोले और सिर्फ नाइटी पहनली. नाइटी काफी पतली थी. सरिता का जवान जिस्म अभी 18 साल का ही था.

उस पर पहाड़ी औरत का जिस्म काफी गदराया हुआ था. गोरी और जवान सरिता के मुम्में बड़े बड़े थे. गाउन का गला इतना नीचे था कि सरिता के मुम्में का निप्पल सिर्फ बाहर आने से बच रहा था.

सरिता ने गाउन को पहन कर कमरे में आयी और सुनील से कहा – देख तो,ठीक है?

सुनील ने अपनी बहन को इतने पतले से नाइटी में देखा तो उसके होश उड़ गए. सरिता का सारा जिस्म का अंदाजा इस पतले से नाइटी से साफ़ साफ़ दिख रहा था. सरिता के आधे मुम्में तो बाहर दिख रहे थे.

सुनील ने तो कभी ये सोचा भी नही था कि उसकी बहन के मुम्में इतनी गोरे और बड़े होंगे. वो बोला – अच्छी है. अब तू यही पहन कर सोना. देखना गरमी नहीं लगेगी |

उस रात सरिता सचमुच आराम से सोई. लेकिन सुनील का दिमाग बहन के बदन पर टिक गया था. वो आधी रात तक अपनी बहन के बदन के बारे में सोचता रहा. वो अपनी बहन के बदन को और भी अधिक देखना चाहने लगा.

उसने उठकर कमरे का लाईट जला दिया. उसकी बहन का गाउन उसकी जांघ तक चढ़ चुका था. जिस से सरिता की गोरी चिकनी जांघ सुनील को दिख रही थी.

सुनील ने गौर से सरिता के मुम्में की तरफ देखा. उसने देखा कि सरिता के मुम्में का निप्पल भी साफ़ साफ़ पता चल रहा है. वो और भी अधिक पागल हो गया.

उसका लंड अपनी बहन के बदन को देख कर खड़ा हो गया. वो बाथरूम जा कर वहां से अपनी सोई हुई बहन के बदन को देख देख कर मुठ मारने लगा. मुठ मारने पर उसे कुछ शान्ति मिली. और वापस कमरे में आ कर लाईट बंद कर के सो गया.

सुबह उठा तो देखा सरिता फिर से अपने पुराने कपडे पहन कर घर का काम कर रही है. लेकिन उसके दिमाग में सरिता का बदन अभी भी घूम रहा था.
उसने कहा – सरिता, रात कैसी नींद आयी?

सरिता – कल बहुत ही अच्छी नींद आयी. गाउन पहनने से काफी आराम मिला.

सुनील – लेकिन, मैंने तो सिर्फ एक ही गाउन लाया. आगे रात को तू क्या पहनेगी?

सरिता – वही पहन लुंगी.

सुनील – नहीं, एक और लेता आऊँगा. कम से कम दो तो होने ही चाहिए.

सरिता – ठीक है, जैसी तेरी मर्जी.

सुनील शाम कारखाने से घर लौटते समय बाज़ार गया और जान बुझ कर झीनी कपड़ों वाली गाउन वो भी बिना बांह वाली खरीद कर लेता आया.
उसने शाम में अपनी बहन को वो गाउन दिया और कहा आज रात में सोते समय यही पहन लेना.

रात में सोते समय जब सरिता ने वो गाउन पहना तो उसके अन्दर सिवाय पेंटी के कुछ भी नही पहना. उसका सारा बदन उस पारदर्शी गाउन से दिख रहा था. यहाँ तक कि उसकी पेंटी भी स्पष्ट रूप से दिख रहे थे. उसका गोरा गोरा मुम्मा और निप्पल तो पूरा ही दिख रहा था. उस गाउन को पहन कर वो सुनील के सामने आयी. सुनील अपनी बहन के बदन को एकटक देखता रहा.

सरिता- देख तो कैसा है, मुझे लगता है कि कुछ पतला कपडा है.

सुनील – अरे सरिता, आजकल यही फैशन है. तू आराम से पहन.

अचानक उसकी नजारा अपनी बहन के कांख के बालों पर चली गयी. कटी हुई बांह वाली गाउन से सरिता के बगल वाले बाल बाहर निकल गए थे.
सुनील ने आश्चर्य से कहा – सरिता , तू अपने कांख के बाल नही बनाती?

सरिता – नहीं आज तक नहीं बनाया.

सुनील – अरे सरिता, आजकल ऐसे कोई नहीं रखता.

सरिता – मुझे तो बाल बनाना भी नही आता.

सुनील – ला , मै बना देता हूँ.

सरिता आजकल सुनील के किसी बात का विरोध नहीं करती थी. सुनील ने अपना शेविग बॉक्स निकाला और रेजर निकाल कर ब्लेड लगा कर तैयार किया.

उसने सरिता को कहा- अपने हाथ ऊपर कर. उसकी बहन ने अपनी हाथ को ऊपर किया और सुनील ने अपनी बहन के कांख के बाल को साफ़ करने लगा.

साफ़ करते समय वो जान बुझ कर काफी समय लगा रहा था. और हाथ से अपनी बहन के कांखको बार बार छूता था.

इस बीच इसका लंड पानी पानी हो रहा था. वो तो अच्छा था कि उसने अन्दर अंडरवियर पहन रखा था. किसी तरह से सुनील ने कांपते हाथों से अपनी बहन के कांख के बाल साफ़ किये.

बाल साफ़ करने के बाद सरिता तो सो गयी. मगर सुनील को नींद ही नहीं आ रही थी. वो अपनी बहन की बगल में लेटे हुए अँधेरे में अपने अंडरवियर को खोल कर अपने लंड से खेल रहा था.अचानक उसे कब नींद आ गयी.

उसे ख़याल भी नहीं रहा और उसका अंडरवियर खुला हुआ ही रह गया. सुबह होने पर रोज़ कि तरह सरिता पहले उठी तो वो अपने भाई को नंगा सोया हुआ देख कर चौक गयी. वो सुनील के लंड को देखकर आश्चर्यचकित हो गयी.

उसे पता नहीं था कि उसके भाई का लंड अब जवान हो गया है और उस पर बाल भी हो गए है. वो समझ गयी कि उसका भाई अब जवान हो गया है.

उसके लंड का साइज़ देख कर भी वो आश्चर्यचकित थी क्यों कि उसने आज तक अपने यार सोमेश के लंड के सिवा कोई और जवान लंड नहीं देखा था. सोमेश का लंड इस से छोटा ही था.

हालांकि उसके मन में कोई बुरा ख़याल नही आया और सोचा कि शायद रात में गरमी के मारे इसने अंडरवियर खोल दिया होगा. वो अभी सोच ही रही थी कि अचानक सुनील की आँख खुल गयी और उसने अपने आप को अपनी बहन के सामने नंगा पाया. वो थोडा शर्मिंदा हुआ लेकिन आराम से तौलिया को लपेटा और कहा – सरिता, चाय बना दे न.

सरिता थोडा सा मुस्कुरा कर कहा – अभी बना देती हूँ.

सुनील ने सोचा – चलो सरिता कम से कम नाराज तो नहीं हुई.

लेकिन उसकी हिम्मत थोड़ी बढ़ गयी. अगली ही रात को सुनील ने सोने के समय जान बुझ कर अपना अंडरवियर पूरी तरह खोल दिया और एक हाथ लंड पर रख सो गया. सुबह सरिता उठी तो देखती है कि उसका भाई लंड पर हाथ रख कर सोया हुआ है.

उसने सुनील को कुछ नही कहा और वो कमरे को साफ़ सुथरा करने लगी. उसने सुनील के लिए चाय बनाई और सुनील को जगाया. सुनील उठा तो अपने आप को नंगा पाया ,.

सुनील थोडा झिझकते हुए कहा – पता नहीं रात में अंडरवियर कैसे खुल गया था. सरिता – तो क्या हुआ? यहाँ कौन दुसरा है? मै क्या तुझे नंगा नहीं देखी हूँ? बहन के सामने इतनी शर्म कैसी?

सुनील – वो तो मेरे बचपन में ना देखी हो. अब बात दूसरी है.

सरिता – पहले और अब में क्या फर्क है ? यही ना अब थोडा बड़ा हो गया है और थोडा बाल हो गया है , और क्या? अब मेरा भाई जवान हो गया है. लेकिन बहन के सामने शर्माने की जरुरत नहीं.

सुनील समझ गया कि सरिता को उसके नंगे सोने पर कोई आपत्ति नहीं है.

अगले दिन रविवार है. शाम को सुनील ने आधा किलो मांस लाया और सरिता ने उसे बनाया . दोनों ने ही बड़े ही प्रेम से मांस और भात खाया. सरिता अब पूरी तरह से सुनील के अधीन हो चुकी थी.

सरिता अपने झीनी गाउन को पहन कर बिस्तर पर आ गयी. सुनील वहां तौलिया लपेटे लेटा हुआ था. सुनील ने अपनी जेब से सिगरेट निकाला और सरिता से माचिस लाने को कहा. सरिता ने चुप- चाप माचिस ला कर दे दिया. सुनील ने सरिता के सामने ही सिगरेट सुलगाई और पीने लगा. सरिता ने कुछ नही कहा क्यों कि उसके विचार से सिगरेट पीने वाले लोग अमीर लोग होते हैं.

सुनील – सरिता, तू सिगरेट पीयेगी?

सरिता – नहीं रे .

सुनील – अरे पी ले, मांस भात खाने केबाद सिगरेट पीने से खाना जल्दी पचता है. कहते हुए अपनी सिगरेट सरिता को दे दिया. और खुद दुसरा सिगरेट जला दिया. सरिता ने सिगरेट से ज्यों ही कश लगाया वो खांसने लगी.

सुनील ने कहा – आराम से सरिता. धीरे धीर पी. पहले सिर्फ मुह में ले. धुंआ अन्दर मत ले. सरिता ने वैसा ही किया. 3 -4 कश के बाद वो सिगरेट पीने जान गयी. आज वो बहुत खुश थी. उसका गोरा बदन उसके काले झीने गाउन से साफ़ झलक रहा था.

सुनील – कैसा लग रहा है सरिता?

सरिता – कुछ पता नहीं चल रहा है. लेकिन धुआं छोड़ने में अच्छा लगता है.

सुनील हंसने लगा. कुछ दिन यूँ ही और गुजर गए. सरिता अपने भाई से धीरे धीरे खुलने लगी थी. सुनील भी अब रोज़ सुबह नंगा ही पाया जाता था. सुनील ने अब शर्माना सचमुच छोड़ दिया था.

सुनील ने अपनी बहन को ब्यूटी पार्लर ले जा कर मेकअप और हेयर डाई भी करवा दिया था. वह उसके मेक-अप के लिए लिपस्टिक, पाउडर क्रीम आदि भी लेता आया था. सरिता दिन ब दिन और भी खुबसूरत होती जा रही थी.

एक रात सुनील ने सिगरेट पीते हुए अपनी बहन को सिगरेट दिया. सरिता भी सिगरेट के काश ले रही थी. सरिता काला वाला झीने कपडे वाला पारदर्शी गाउन पहन रखा था. उसका गोरा बदन उसके काले झीने गाउन से साफ़ झलक रहा था.

सुनील – सरिता एक बात कहूँ.

सरिता – हाँ बोल.

सुनील – तू रोज़ गाउन पहन के क्यों सोती है? क्या तेरे पास ब्रा और पेंटी नहीं हैं?

सरिता – हाँ हैं, लेकिन तेरे सामने पहनने में शर्म आती है.

सुनील – जब मै तेरे सामने नही शर्माता तो तू मेरे सामने क्यों शर्माती हो? इसमें शर्माने की क्या बात है? कभी कभी वो पहन कर भी सोना चाहिए. ताकि पुरे शरीर को हवा लग सके. मुंबई में शरीर में हवा लगाना बहुत जरुरी है नहीं तो यहाँ के वातावरण में इतना अधिक प्रदुषण है कि बदन पर खुजली हो जायेंगे. देखती हो मै तो यूँ ही बिना कपडे के सो जाता हूँ.

सरिता – तो अभी पहन लूँ?
सुनील – हाँ बिलकूल.
सरिता अन्दर गयी और अपना गाउन उतार कर एक पुरानी ब्रा पहन कर बाहर आ गयी. पुरानी पेंटी तो उसने पहले ही पहन रखी थी. सरिता को ब्रा और पेंटी में देख सुनील का माथा खराब हो गया. वो कभी सोच भी नहीं सकता था कि उसकी बहन इतनी जवान है.उसका लंड खड़ा हो गया. उसके तौलिया में उसका लंड खड़ा हो रहा था लेकिन उसने अपने लंड को छुपाने की जरुरतनहीं समझी.
वो बोला – हाँ , अब थोड़ी हवा लगेगी. तेरे पास नयी ब्रा और पेंटी नहीं है?

सरिता – नहीं. यही है जो गाँव के हाट में मिलता था.
सुनील – अच्छा कोई बात नहीं, मै कल ला दूंगा.
सरिता ने लाईट ऑफ कर दिया, लेकिन सुनील की आँखों में नींद कहाँ? थोड़ी देर में जब उसे यकीं हो गया कि सरिता सो गयी है तो उसने अपना तौलिया निकाला और अपने खड़े लंड को मसलने लगा. सरिता के चूत और चूची को याद कर कर के उसने बिस्तर पर ही मुठ मार दिया. सारा माल उसके बदन पर एवं बिस्तर पर जा गिरा. एक बार मुठ मारने से भी सुनील का जी शांत नहीं हुआ. 10 मिनट के बाद उसने फिर से मुठ मारा. इस बार मुठ मारनेके बाद उसे गहरी नींद आ गयी. और वो बेसुध हो कर सो गया.

सुबह होने पर सरिता ने देखा कि सुनील रोज़ की तरह नंगा सोया है और आज उसके बदन एवं बिस्तर पर माल भी गिरा है. उसे ये पहचानने में देर नहीं हुई कि ये सुनील का वीर्य है. वो समझ गयी कि रात में उसने मुठ मारा होगा. लेकिन वो जरा भी बुरा नहीं मानी. वो समझती है कि उस का भाई जवान है, एवं समझदार है इसलिए वो जो करता है वो सही है. वो कपडे पहन कर सुनील के लिए चाय बनाने चली गयी. तभी सुनील भी उठ गया. वो उठ कर बैठा ही था कि उसकी बहन चाय लेकर आ गयी. सुनील अभी तक नंगा ही था.

सरिता ने कहा – देख तो, तुने ये क्या किया? जा कर बाथरूम में अपना बदन साफ़ कर ले. मै बिछावन साफ़ कर लुंगी.
सुनील बिना कपडे पहने ही बाथरूम गया. और अपने बदन पर से अपना वीर्य धो पोछ कर वापस आया तब उसने तौलिया लपेटा. तब तक सरिता ने वीर्य लगे बिछवान को हटा कर नए बिछावन को बिछा दिया.

उस दिन रविवार था. सुनील बाज़ार गया और अपनी बहन के लिए बिलकुल छोटी सी ब्रा और पेंटी खरीद कर लाया. ब्रा और पेंटी भी ऐसी कि सिर्फ नाम के कपडे थे उस पर. पूरी तरह जालीदार ब्रा और पेंटी लाया. शाम में उसने अपनी सरिता को वो ब्रा और पेंटी दिए और रात में उसे पहनने को बोला. रात को खाना खाने के बाद सुनील ने सिगरेट सुलगाई और उधर उसकी बहन ने नयी ब्रा और पेंटी पहनी. उसे पहनना और ना पहनना दोनों बराबर था. क्यों कि उसके चूत और मुम्मों का पूरा दर्शन हो रहा था. लेकिन सरिता ने सोचा जब उसके भाई ने ये पहनने को कहा है तो उसे तो पहनना ही पड़ेगा. उसे भी अब सुनील से कोई शर्म नही रह गयी थी. पेंटी तो इंतनी छोटी थी कि चूत के बाल बिलकुल बाहर थे. सिर्फ चूत एक जालीदार कपडे से किसी तरह ढकी हुई थी. ब्रा का भी वही हाल था. सिर्फ निप्पल को जालीदार कपडे ने कवर कियाहुआ था लेकिन जालीदार कपड़ा से सब कुछ दिख रहा था. उसे पहन कर वो सुनील के सामने आयी. सुनील को तो सिगरेट का धुंआ निगलना मुश्किल हो रहा था. सिर्फ बोला – अच्छी है.

सरिता ने कहा – कुछ छोटी है. फिर उसने अपनी चूत के बाल की तरफ इशारा किया और कहा – देख न बाल भी नहीं ढका रहें हैं.
सुनील – ओह, तो क्या हो गया. यहाँ मेरे सिवा और कौन है? इसमें शर्म की क्या बात है. खैर ! मेरे शेविंग बॉक्स से रेजर ले कर नीचे वाले बाल बना लो.
सरिता – मुझे नही आते हैं शेविंग करना. मुझे डर लगता है.
सुनील – इसमें डरने की क्या बात है?
सरिता – कहीं कट जाए तो?
सुनील – देख सरिता, इसमें कुछ भी नहीं है. अच्छा , ला मै ही बना देता हूँ.
सरिता – हाँ, ठीक है.

सरिता ने उसका शेविग बॉक्स में से रेजर निकाला और सुनील को थमा दिया. सुनील ने उसके चूत के बाल पर हाथ घसा और उसे धीरे धीरे रेज़र से साफ़ किया.
उसका लंड तौलिया के अन्दर तम्बू के तरह खड़ा था. किसी तरह उसने अपने हाथ से चूत के बाल साफ़ किया. फिर उसने उसने अपनी बहन को सिगरेट दिया और खुद भी पीने लगा. वो लगातार अपनी बहन के चूची और चूत को ही देख रहा था और अपने तौलिये के ऊपर लंड को सहला रहा था.

सुनील ने कहा – अब ठीक है. चूत के बाल साफ़ करने के बाद तू एकदम सेक्सी लगती है रे.
सरिता ने हँसते हुए कहा – चल हट बदमाश, सोने दे मुझे. खुद भी सो जा.कल तुझे कारखाना भी जाना है ना.
सुनील ने अपना तौलिया खोला और खड़े लंड को सहलाते हुए कहा – देख ना सरिता, तुझे देख कर मेरा लंड भी खडा हो गया है.
सरिता ने कहा – वो तो तेरा रोज ही खड़ा होता है. रोज की तरह आज भी मुठ मार ले.
सुनील ने हँसते हुए कहा – ठीक है. लेकिन आज तेरे सामने मुठ मारने का मन कर रहा है.
सरिता ने कहा – ठीक है. आजा बिस्तर पर लेट जा और मेरे सामने मुठ मार ले. मै भी तो जरा देखूं कि मेरा जवान भाई कैसे मुठ मारता है?

सरिता और सुनील बिस्तर पर लेट गए. सुनील ने बिस्तर पर अपनी बहन के बगल में लेटे लेटे ही मुठ मारना शुरू कर दिया. सरिता अपने भाई को मुठ मारते हुए देख रही थी. पांच मिनट मुठ मारने के बाद सुनील के लंड ने माल निकालने का सिग्नल दे दिया. वो जोर से आवाज़ करने लगा.उसने झट से अपनी बहन को एक हाथ से लपेटा और अपने लंड को उसके पेट पर दाब कर सारा माल सरिता के पेट पर निकाल दिया. ये सब इतना जल्दी में हुआ कि सरिता को संभलने का मौक़ा भी नही मिला. जब तक वो संभलतीऔर समझती तन तक सुनील का माल उसके पेट पर निकलना शुरू हो गया था.

सरिता भी अपने भाई को मना नही करना चाहती थी. उसने आराम से अपने शरीर पर अपने भाई को अपना माल निकालने दिया. थोड़ी देर में सुनील का माल की खुशबु रूम में फ़ैल गयी. सरिता का पेंटी भी सुनील के माल से गीला हो गया. थोड़ी देर में सुनील शांत हो गया. और अपनी बहन के बदन पर से हट गया. लेकिन थोड़ी ही देर में उसने अपनी बहन के शरीर को अच्छी तरह दबा कर देख चुका था. सरिता भी गर्म हो चुकी थी. उसने भीअपने पुरे कपडे उतारे और बिस्तर पर ही मुठ मारने लगी. उसने भी अपना माल निकाल कर शांत होने पर नींद मारी. सुबह होने पर सरिता ने आराम से बिछावन को हटाया और नया बिछावन बिछा दिया.

अगली रात को लाईट ऑफ कर दोनों बिस्तर पर लेट गए. सरिता ने सुनील के पसंदीदा ब्रा और पेंटी पहन रखी थी. आज सुनील अपनी बहन का इम्तहान लेना चाहता था. उसने अपनी टांग को पीछे से अपनी बहन की जांघ पर रखा. उसकी बहन उसकी तरफ पीठ कर के लेती थी. सरिता ने अपने नंगी जांघ पर सुनील के टांग का कोई प्रतिरोध नहीं किया. सुनील की हिम्मत और बढी.वो अपनी टांगो से अपनी बहन के चिकने जाँघों को घसने लगा. उसका लंड खडा हो रहा था. उसने एक हाथ को सरिता के पेट पर रखा. सरिता ने कुछ नही कहा. सुनील धीरे धीरे सरिता में पीछे से सट गया. उसने धीरे धीरे अपना हाथ अपनी बहन के पेंटी में डाला और उसके गांड को घसने लगा. धीरे धीरे उसने अपनी बहन के पेंटी को नीचे की तरफ सरकाने लगा.

पहले तो सरिता आसानी से अपनी पेंटी खोलना नही चाहती थी मगर सुनील ने कहा – सरिता ये पेंटी खोल ना.आज तू भी पूरी तरह से पूरी तरह से नंगी सोएगी. सरिता भी यही चाहती थी. उसने अपनी कमर को थोड़ा ऊपर किया जिस से कि सुनील ने उसके पेंटी को उसके कमर से नीचे सरका दिया और पूरी तरह से खोल दिया. अब सरिता सिर्फ ब्रा पहने हुए थी. सुनील ने उसके ब्रा के हुक को पीछे से खोल दिया और सरिता ने ब्रा को अपने शरीर से अलग कर दिया. अब वो दोनों बिलकूल ही नंगे थे. सुनील ने अपनी बहन को पीछे से पकड़ कर अपने लंड को अपनी बहन के गांड में सटाने लगा. उसका तना हुआ लंड सरिता की गांड में चुभने लगा. सरिता को मज़ा आ रहा था. उसकी भी साँसे गरम होने लगी थी. जब सरिता ने कोई प्रतिरोध नही किया तो सुनीलने अपनी बहन के बदन पर हाथ फेरना चालु कर दिया. उसने अपना एक हाथ सरिता के मुम्मों पर रख उसे दबाने लगा.

उसने सरिता से कहा – सरिता, मेरा मुठ मारने का मन कर रहा है.
सरिता – मार ना. मैंने मना किया है क्या?
सुनील – आज तू मेरा मुठ मार दे ना सरिता.

सरिता – ठीक है . कह कर वो सुनील की तरफ पलटी और उसके लंड को पकड़ ली. खुद सरिता को अहसास नही था की सुनील का लंड इतना जबरदस्त है. वो बड़े ही प्यार से सुनील का लंड सहलाने लगी. सुनील तो मानो अपने सुध बुध ही खो बैठा. वो अपने आप को जन्नत में पा रहा था. सरिता अँधेरे में ही सुनील का मुठ मारने लगी. सरिता भी मस्त हो गयी.
वो बोली – रुक , आज मै तेरा अच्छी तरह से मुठ मारती हूँ. कह कर वो नीचे झूकी और अपने भाई सुनील का लंड को मुह में ले ली. सुनील को जबये अहसास हुआ कि उसकी बहन ने उसके लंड को मुह में ले लिया है तो वो उत्तेजना के मारे पागल होने लगा. उधर सरिता सुनील के लंड को अपने कंठ तक भर कर चूस रही थी. थोड़ी ही देर में सुनील का लंड माल निकालने वाला था.
वो बोला – सरिता – छोड़ दे लंड को माल निकलने वाला है.

सरिता ने उसके लंड को चुसना चालु रखा. अचानक सुनील के लंड ने माल का फव्वारा छोड़ दिया. सरिता ने सारा माल अपने मुह में ही भर लिया और सब पी गयी. अपने भाई का वीर्य पीना का आनंद ही कुछ और था. थोड़ी देर में बसन्ती ने सुनील के लंड को मुह से निकाल दिया. और वो बाथरूम जा कर कुल्ला कर के आई.
तब सुनील ने कहा – सरिता , तुने तो कमाल कर दिया.

सरिता ने बेड पर लेटते हुए कहा – तेरा लंड का माल काफी अच्छा है रे.
कह कर वो सुनील कि तरफ पीठ कर के सोने लगी. मगर सुनील का जवान लंड अभी हार नहीं मानने वाला था. उसने अपनी बहन को फिर से पीछे से पकड़ कर लपेटा और उसके बदन पर हाथ फेरने लगा. उसका लंड फिर खड़ा हो गया. इस बार उसका लंड सरिता की चिकनी गांड के दरार में घुसा हुआ था.

ये सब उसके लिए पहला अनुभव था. वो अपनी बहन के गांड के दरार में लंड घुसा कर लंड को उसी दरार में घसने लगा. वो इतना गर्म हो गया की दो मिनट में ही उसके लंड ने माल निकालना चालु कर दिया और सारा माल सरिता के गांड के दरारों में ही गिरा दिया. उत्तेजना के मारे फिर से उसका बहुत माल निकल गया था.सरिता का गांड पीछे से पूरी तरह भींग गया. धीरे धीरे जब सुनील का लंड शांत हुआ तो तो सरिता के बदन को छोड़ कर बगल लेट गया और थक के सो गया. इधर सरिता उठ कर बाथरूम गयी और अपने गांड को धोया और वो वापस बिना पेंटी के ही सो गयी. वो जानती थी कि सुनील उससे पहले नहीं उठेगा और सुबह होने पर वो नए कपडे पहन लेगी. लेकिन वो भी गर्म हो गयी थी. काफी अरसे बाद उसके शरीर से किसी लंड का मिलन हुआ था. वो सोचने लगी कि उसके भाई का लंड उसके यार मनोज से थोड़ा ज्यादा ही बड़ा और मोटा है. उसे भी मनोज के साथ मस्ती की बातें याद आने लगी.

ये सब सोचते हुए वो सो गयी. सुबह वो पहले ही उठी और कपडे पहन लिए. सुनील ज्यों ही उठा उसकी बहन सरिता उसके लिए गरमा गरम कॉफी लायी और मुस्कुरा कर उसे दिया. सुनील समझ गया कि आज की रात कहानी और आगे बढ़ेगी.
अगले दो दिन तक कारखाना बंद है. इसलिए उसने अपनी बहन को मुंबई के पार्कों की सैर कराई. और नए कपडे भी खरीदवाया. शाम को उसने ब्लू फिल्म की सीडी लाया. आज उसकी बहन ने बड़े ही चाव से मुर्ग मस्सल्लम बनाया. दोनों ने नौ बजे तक खाना पीना खा पी कर बिस्तर पर चले आये. आज जिस तरह से सुनील खुश को कर अपनी बहन से छेड़-छाड़ कर रहा था उसे देख कर सरिता को अहसास हो रहा था कि आज फाइनल हो के ही रहेगा. अब वो भी अपने चूत में लंड का प्रवेश चाहती थी.

रात को बिस्तर पर आते ही सुनील ने अपने सभी कपडे खोले और कहा – आज मै तुम्हे फिल्म दिखाऊंगा.
सरिता ने ब्रा और पेंटी पहनते हुएकहा – हिंदी तो मुझे समझ में आती नहीं. मै क्या समझूँगी फिल्म.
सुनील – अरे, ये नंगी फिल्म है. इसमें समझने वाली कोई बात नही है.

सुनील ने ब्लू फिल्म की सीडी चला दी. सरिता ब्रा और पेंटी पहन कर अपने भाई के बगल में ही लेट गयी और फिल्म देखने लगी. फिल्म ज्यों ही अपने रंग में आने लगी सुनील का लंड खडा होने लगा. सरिता भी फिल्म देख कर अकड़ने लगी. जब सुनील ने देखा कि उसकी बहन भी मज़े ले कर ब्लू फिल्म देख रही है तो उसने कहा – ये क्या सरिता, नंगी फिल्म कपडे पहन कर देखने की चीज थोड़े ही है? अपने ब्रा और पेंटी उतार दो और तब फिल्म देखो तब ज्यादा मज़ा आएगा.

सरिता ने बिना किसी हिचक के अपने भाई के आदेश पर अपनी ब्रा को खोल दिया. यूँ तो सुनील ने कई बार अपनी बहन के मुम्मों को झीनी ब्रा के पीछे से देखा था लेकिन इस प्रकार से खुले में कभी नही देखा था. बहुत गोरे और बड़े मस्त मुम्में थे और सुनील का मन किया कि लपक कर अपनी बहन के मुम्मों को चूसने लगे। सरिता थोड़ा रुक गयी.
सुनील ने कहा- पेंटी भी खोल दे ना.
सरिता ने कहा – तू जो है यहाँ.
सुनील ने अब थोडा साहस एवं मर्दानगी दिखाते हुए अपने बहन की पेंटी को पकड़ा और नीचे की तरफ खींचते हुए कहा- अरे सरिता, अब मुझसे कैसी शर्म?

सरिता ने भी कमर उठा कर पेंटी को खुल जाने दिया. सरिता की चूत गीली हो गयी थी. जिस चूत को सुनील ने पारदर्शी पेंटी से देखा था आज वो उसके सामने बिलकूल खुली हुई थी. नंगी चूत को देख कर सुनील की आवाज़ निकालनी ही बंद हो गयी. अब वो दोनों एक दूजे से सट कर बैठ गए और ब्लू फिल्म का आनंद उठाने लगे. सुनील तो पहले भी कई बार ब्लू फिल्म देख चुका था. लेकिन सरिता पहली बार ब्लू फिल्म देख रही थी. चुदाई के सीन आते ही उसकी चूत इतनी गीली हो गयी कि उस से पानी टपकने लगा. इधर सुनील भी अपने लंड को सहला रहा था. अपने बहन के नंगे बदन को देख कर उसका लंड भी काफी गीला हो रहा था.

उसने सरिता के हाथ को पकड़ा और अपने लंड पर रखा और कहा – इसे पकड़ कर फिल्म देख, कितना मज़ा आएगा.
उसकी बहन ने बड़े ही प्यार से सुनील का लंड सहलाने लगी. अचानक सुनील की नजर अपनी बहन की गीली चूत पर पड़ी. उसने बड़े ही आराम से अपनी बहन की चूत पर हाथ रखा और सहलाते हुए कहा – ये इतनी गीली क्यों है सरिता?
सरिता ने कहा – चुदाई वाली फिल्म देख कर गीली हो रही है.

सुनील ने अपनी बहन के बुर को सहलाना जारी रखा. उसके छूने से सरिता की हालत और भी खराब हो गयी. अपने दुसरे हाथ से उसने अपनी बहन के मुम्मों को मसलना चालु किया. उधर टीवी पर लड़का एक लडकी की चूत को चूसने लगा. ये देख कर सरिता बोली – हाय देख तो , कैसे चूत चूस रहा है वो.
सुनील – लड़की को चूत चुस्वाने में बहुत मज़ा आता है. मनोज भी तो तेरी चूत चूसता होगा.
सरिता – नहीं रे, उसने कभी मेरी चूत नही चुसी.
सुनील – आज मै तेरी चूत चूस कर बताता हूँ कि लड़की को कितना मज़ा आता है.

उसने अपनी बहन के दोनों मुम्मों को चुसना चालु किया. सरिता को काफी मज़ा आ रहा था. सुनील ने अपनी बहन के मुम्मों को जबरदस्त तरीके से चूसा. फिर वो धीरे धीरे नीचे की तरफ गया. कुछ ही सेकेंड में उसने अपनी बहन के बुर के सामने अपनी नजर गड़ाई. क्या मस्त चूत थी उसकी बहन की. मादक सी खुशबू आ रही थी. उसने धीरे से अपने होंठ को सरिता की चूत पर लगाया. उसकी बहन की तो सिसकारी निकलने लगी. पहले सुनील ने सरिता के चूत को जम के चूसा. फिर उसने अपनी जीभ को सरिता की चूत में अन्दर डालने लगा. ऐसा देख कर सरिता की आँख मादकता के मारे बंद हो गयी. सुनील ने अपनी पूरी जीभ सरिता के चूत में घुसा दी. सरिता की चूत से पानी निकल रहा था. अब वो दोनों ब्लू फिल्म क्या देखेंगे जब खुद ही वैसा मज़ा ले रहे हों. थोड़ी देर तक सुनील सरिता की चूत को जीभ से चोदता रहा. सरिता को लग रहाथा कि अब उसका माल निकल जाएगा. वो कराहते हुए बोली – अब मेरा माल निकलने वाला है.

सुनील – निकलने दे ना. आज इसे पियूँगा. जैसे कल तुने मेरा पिया था.
इसके पहले कि सरिता कुछ और बोल पाती उसके चूत के उसके माल का फव्वारा निकल पड़ा. सुनील ने अपना मुह सरिता के चूत पर इस तरह से सटादिया ताकि माल का एक भी बूंद बाहर नहीं गिर पाए. वो अपनी बहन के चूत का सारा माल पीने लगा. कम से कम 200 ग्राम माल निकला होगा सरिता के चूत से. सुनील ने सारा माल पी कर चूत को अच्छी तरह से चाट कर साफ़ किया. उसकी बहन तो सातवें आसमान में उड़ रही थी. उसकी आँखे बंद थी. सुनील उसके चूत पर से अपना मुह हटाया और उसके मुम्मों को अपने मुह में भर कर चूसने लगा. सरिता मस्ती के मारे मस्त हुए जा रही थी.

थोड़ी देर मुम्में चूसने के बाद सुनील ने सरिता को कहा – सरिता , तू कितनीमस्त है है रे.
सरिता – तू भी कम मस्त नहीं है रे. आज तक इतनी मस्ती कभी नहीं आई.
सुनील ने कहा – सरिता, अभी असली मस्ती तो बाकी है.
सरिता ने कहा – हाँ, आजा और अब डाल दे अपने प्यारे लंड को मेरी प्यासी चूत में.

अब समय आ गया था कि शर्मो हया को पीछे छोड़ पुरुष और औरत के बीच वास्तविक रिश्ते को कायम करने की. सुनील ने अपनी बहन के टांगो को फैलाया. अपने लंड को एक हाथ से पकड़ा और अपनी बहन की चूत में डाल दिया. उसकी बहन बिना किसी प्रतिरोध के अपने भाई को सीने से लगाया और आँखों आखों में ही अपनी चूत चोदने का स्वीकृती प्रदान कर दी. सुनील के लंड ने सरिता की चूत की जम के चुदाई की. सरिता की हालत सुनील के लंड ने खराब कर दी. वो इस तरह से तड़प रही थी मानो आज उसकी पहली चुदाई थी. दस मिनट में उसने तीन बार पानी छोड़ा. दस मिनट तक दमदार शॉट मारने के बाद सुनील का लंड माल निकाल दिया. उसने सारा माल अपनी बहन के चूत में ही डाल दिया. वो अपने बहन के बदन पर ही गहरी सांस ले कर सुस्ताने लगा.

उसने अपना लंड सरिता के चूत में ही पड़े रहने दिया. लगभग 10 मिनट के बाद सुनील का लंड फिर से अपनी बहन के ही चूत में खड़ा हो गया. इस बार सरिता का चूत भी कुछ फैल गया था. वो दोनों दुबारा चालु हो गए. इस बार लगभग 20 मिनट तक सरिता कि चूत की चुदाई चली. इस बार उसके चूत से 6 -7 बार पानी निकला मगर अब उसके चूत में पहले इतना दर्द नही हो रहा था. अब वो अपने भाई से अपनी चूत की चुदाई का आनंद उठा रही थी. उसे अपने भाई की मर्दानगी पर गर्व हो रहा था. बीस मिनट के बाद सुनील का लंड जवाब दे दिया और पहले से भी अधिक माल अपनी बहन के चूत में छोड़ दिया.
रात भर में ही सुनील ने अपनी बहन के साथ 5 बार चुदाई की जिसमे दो बार उसकी गांड की चुदाई भी शामिल थी.

आप इन सेक्स कहानियों को भी पसन्द करेंगे:

The Author

गुरु मस्तराम

दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त मस्ताराम, मस्ताराम.नेट के सभी पाठकों को स्वागत करता हूँ | दोस्तो वैसे आप सब मेरे बारे में अच्छी तरह से जानते ही हैं मुझे सेक्सी कहानियाँ लिखना और पढ़ना बहुत पसंद है अगर आपको मेरी कहानियाँ पसंद आ रही है तो तो अपने बहुमूल्य विचार देना ना भूलें

Disclaimer: This site has a zero-tolerance policy against illegal pornography. All porn images are provided by 3rd parties. We take no responsibility for the content on any website which we link to, please use your won discretion while surfing the links. All content on this site is for entertainment purposes only and content, trademarks and logo are property fo their respective owner(s).

वैधानिक चेतावनी : ये साईट सिर्फ मनोरंजन के लिए है इस साईट पर सभी कहानियां काल्पनिक है | इस साईट पर प्रकाशित सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है | कहानियों में पाठको के व्यक्तिगत विचार हो सकते है | इन कहानियों से के संपादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नही है | इस वेबसाइट का उपयोग करने के लिए आपको उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए, और आप अपने छेत्राधिकार के अनुसार क़ानूनी तौर पर पूर्ण वयस्क होना चाहिए या जहा से आप इस वेबसाइट का उपयोग कर रहे है यदि आप इन आवश्यकताओ को पूरा नही करते है, तो आपको इस वेबसाइट के उपयोग की अनुमति नही है | इस वेबसाइट पर प्रस्तुत की जाने वाली किसी भी वस्तु पर हम अपने स्वामित्व होने का दावा नहीं करते है |

Terms of service | About UsPrivacy PolicyContent removal (Report Illegal Content) | Disclaimer | Parental Control

error: Content is protected !!