जवानी से लेकर बहन को बीवी बनाने तक की कहानी -1

हाँ जी दोस्तों, क्या हाल है? मैं आपकी रूबी तिवारी आपके लिए फिर से हाज़िर हु चुदाई की एक नई दास्तान लेकर. अपने मेरी पुरानी कहानियो को बहुत प्यार दिया और मुझे बहुत सरहा, उसके लिए बहुत सारा थैंक्स. तो आते है उस नई दास्ताँ पर.आशा करती हूँ, आप लोगों को यह कहानी पसंद आएगी। ये कहानी हमारे एक प्यारे रीडर द्वारा भेजी गई है जिन्होंने हमपे भरोसा कर अपनी कहानी हमारे साईट पे शेयर करवाई जिसे मैं उन्ही के जुबानी आप सभी को सुनाउगी.

मै वंश, उमर 24 साल का एक जवान कम्प्युटर प्रोफेशनल हू. मेरे पिताजी गौरीशन्कर का देहान्त आज से 3 साल पहले हो गया था. घर मे मा शोभा और बहन प्रियंका रहते थे. मा की उमर ४६ साल की है. मा बहुत गोरी, सुन्दर और मासल जिस्म वाली औरत है. उसकी शादी बहुत कम उमर मे हुई थी जबकि पिताजी उमर मे उससे काफी बडे थे.

एक बार मेरे कुछ दोस्त घरपर आए थे, उन्होने मा-पिताजी को देखा तो दन्ग रह गए. मा ने उन्हे हमेशा की तरह चाय-नास्ता परोसा था और पिताजी वहीपे हमारे साथ बैठकर गपशप कर रहे थे. लेकिन मेरे दोस्तोका ध्यान ना तो पकोडो मे था और ना ही पिताजी की बातो पे. वो बस टकटकी लगाए मेरी मा को देख रहे थे, यहा तक कि उनमे से एक दोस्त तो सारी चाय अपने कपडे पर गिरा दी. हम सब हस पडे और फिर पिताजी ने उसे अन्दर जाकर शर्ट बदलने के लिए कहा. कुछ देर बाद हम मेरे घर से निकल पडे और दूसरे दोस्त के घर गए.

मेरी साइकल लगाने मे थोडी देर लगी तो मै कुछ समय बाद घर मे दाखिल हुआ. घर मे प्रवेश करते हुए मैने मेरे दोस्तो की बाते सुनी और थोडा रुक गया.

एक दोस्त: अरे पूछ मत, गजब की माल है……..
दूसरा: पकोडे परोसते हुए उसकी पल्लु खिसका था, क्या मम्मे है, मेरा तो देखते ही खडा हुआ….और फिर मेरी चाय गिर गई.

पहला: हा तू तो है ही बेवकूफ…….
दूसरा: अबे नही, वो तो बहाना था, मै तो अन्दर घुसना चाहता था, शर्ट बदलते हुए मैने बहुत गौर से देखा वंश की मा को, अन्दर तो एकदम खुलके दिख रही थी
मै यह बाते सुनकर स्तब्ध हो गया, तो ये कमीने मेरी मा के बारेमे ही बाते कर रहे थे.उस दिन तो मैने किसी तरहसे समय बिता लिया लेकिन मुझे अहसास हुआ कि मा एक बेहद खूबसूरत और सेक्सी औरत है जिसपर सिर्फ मै ही नही बल्कि बहुत लोगोकी बुरी नजर है.

एक बार इन्ही दोस्तोके घर मै दोपहर मे बैठा था तो एक और दोस्त वहा पे आया. ये दोस्त बहुत चालू टाईप का था, हमेशा लडकियोकी और औरतोकी बात करता था. उसका नाम था निलेश.

निलेश: अरे ये देखो मै क्या लाया हू.

हमने देखा, उसने एक ब्लू-फिल्म की सीडी लाई थी, फिर क्या, हम लोग वही पे सीडी लगाके बैठ गए. पिक्चर बहुत हॉट थी, एक लडका किसी रिश्तेदारके घर चला जाता है, जहापे कई औरते होती है और सारी उससे उम्र मे बडी होती है. वो शैतान लडका बारी बारी से हर एक के साथ यौन सबन्ध बना लेता है. इन सब घटनाओ का चित्रण बहुत दिलचप तरीके से किया था और फिल्म की औरते भी बहुत सेक्सी थी. हम सब यह फिल्म देखकर बहुत उत्तेजित हुए.

फिल्म खतम होनेके बाद मै निकल पडा, निलेश भी मेरे साथ था, बाते करते करते हम जा रहे थे तो निलेश ने पूछा

निलेश: वंश तुझे फिल्म कैसी लगी

मै: हा बहुत सेक्सी थी यार…

निलेश: मुझे भी……….असल मे मुझे ऐसीही फिल्मे पसन्द है

मै: ऐसी मतलब, वोही ना सेक्सी वाली

निलेश: नही रे, ऐसी मतलब…………रिश्तोमे चुदाई वाली.

निलेश की बात सुनकर मै हैरान हो गया, कुछ ना बोलते मै साईकल चला जा रहा था, तो निलेश ने एक कोने मे मुझे रोक दिया और बोला

निलेश: देख वंश तू बुरा मत मान, मैने जो मनमे आया सो बोल दिया, तू मेरा जिगरी यार है इसलिए, तू बुरा मान गया तो बोल दे……

मै: नही ऐसी बात नही………

निलेश: सच कहू दोस्त…….तू नावंश तो नही होगा.

मै: नही, ऐसी क्या बात है……..

निलेश: मै सचमे तुम्हारे घर आता हू तो हमेशा तेरी मा को देखता हू…….वो….वो…मुझे वो बहुत अच्छी लगती है.

मै यह बात सुनकर चुप हो गया, निलेश की इस नीयत का मुझे शक था लेकिन आज वो यकीन मे बदल गया.

मै: निलेश, तू इतना साफ साफ बोल रहा है तो सुन, तेरी बहन रीना भी आज कल बहुत सुन्दर दिखने लगी है.

ये बात सही भी थी, रीना वाकई दिखनेमे बहुत सुन्दर थी, उसके वक्ष भी बडे दिखने लगे थे आजकल….

निलेश: हा यार वो तो है, मै कई बार उसे और मेरी मा को घूरते रहता हू, खास करके जब वो झुककर काम करते है तो मै हमेशा उन दोनोके इर्द गिर्द रहता हू ताकि उनके चुचियोकी झलक दिखे…….

यह निलेश तो और भी चालू निकला. इसके आगे मै कुछ बोलू इसके पहले उसीने कहा

निलेश: हा लेकिन वंश, तेरी मा मेरी मा से ज्यादा सेक्सी है………..

और फिर हम वहीपे खडे खडे अपनेही रिश्तेदारोके बारेमे गन्दी बाते करते रहे.

उस दिन निलेश ने मुझे एक नई सोच दी, उसके बाद मै भी अपनी मा और बहन के अन्गो को गौर से देखता निहारता और मूठ मारते वक्*त उनका जिस्म नजर के सामने लाता.

मा अब भी जवान लगती है, बडी बडी चुचिया और भरा पूरा चुतड……वो हमेशा साडी पहनती थी और ब्लाउझ मे से उसकी चुची की झलक देख कर कई बार मेरा लन्ड खडा हो जाता था.

एक बार मै दोपहर को जल्दी घर आया, दरवाजे पे ताला लगा था, शायद सब लोग कही गए होगे यह सोचकर अपनी चाबी से दरवाजा खोलकर अन्दर आ के बैठा था, कुछ समय बाद घर की बेल बजी, मैने दरवाजा खोला तो देखता ही रह गया, दरवाजे पे मा खडी थी, हाथमे कुछ थैलिया, पसीनेसे लथपथ……उसने गुलाबी कलर की साडी पहनी थी और एक झीना सा ब्लाउझ…..क्या गजब की सेक्सी दिख रही थी, मै तो उसे घूरता रह गया.

मा चिल्लाकर बोली: खडे खडे मुह क्या देख रहा है, चल ये सामान ले जा और मुझे एक गिलास ठन्डा पानी ले आ…….

मै ने फौरन उसे पानी ला कर दिया और सामान किचन मे जाकर रखने लगा. काम खतम करने पर मै बाहर के कमरे मे आया तो मा वहा पे नही थी, शायद अपने कमरेमे गई होगी यह सोचकर मै मा-पिताजीके बेडरूम पे गया और मैने दरवाज ढकेल दिया और मुझे एक और शॉक लगा. अन्दर मा कपदे बदल रही थी, उसके बदन पे एक छोटीसी ब्रा और पेटिकोट था. अचानक दरवाजा खुलनेपे मा भी कुछ देर आश्चर्यसे देखने लगी और मै उसके सुन्दर गठीले बदन को निहारता रह गया. कुछ पल बाद मा को होष आया और वो चिल्लाई

मा: क्या कर रहे हो, दिखता नही मै चेन्ज कर रही हू…….

मैने डरकर दरवाजा बन्द कर लिया और वहासे चलता पडा. लेकिन उस दिन के बाद मै कई बार मा के बदन को याद करते मूठ मारता था.

मेरे पिताजी की तबियत अचानक एक दिन बिगड गई, उन्हे दिल का दौरा पडा था और फिर कुछ दिन बाद वो उसी बीमारी का शिकार बन गए और हमे छोड कर चल दिए. अब घर मे हम तीन लोग रह गए. मैने एक जॉब करना शुरु किया था, प्रियंका अब भी पढ रही थी, मै जॉबके साथ पढाई करता था. कुछ महिने तो उदासी मे चले गए. कुछ दिन बाद फिर मेरे दोस्त घर पे आए और मुझे लेकर बाहर घूमने चले गए. मै थोडा नॉर्मल होने लगा. ऐसेमे एक दिन दोस्तोके घर फिरसे ब्लू-फिल्म लगाकर बैठे थे. फिर एक बार एक नौजवान और एक अधेड उम्र की औरत की कहानी थी, मै बेचैन हो गया और वहासे चल पडा. लेकिन मेरे मन मे फिर एक बार मा के प्रति बुरे खयाल आने शुरु हो गए. शायद मा भी मर्द की कमी मेह्सूस होती होगी लेकिन लाज शरमसे शायद वो कुछ नही कहती. रात को मैने अक्सर उसके कमरेसे कामुक सिसकारिया सुनता था, उस वक्*त शायद वो अपनी चुत मे उन्गली कर के अपनी प्यास शान्त करती थी.

मेरी बहन प्रियंका भी जवान हो चुकी थी और उसके रिश्ते की बात चल रही थी. प्रियंका की उमर उस वक्*त कोई २० साल की होगी. प्रियंका भी बहुत सुन्दर और सेक्सी थी बिलकुल मेरी मा क जवानी का रूप थी, गोरी, हसमुख, स्लिम और बहुत ही कसा हुआ बदन थी. एक दिन मैने उसे नहाते हुए देखा था, क्या ज़ालिम हुस्न था मेरी बहन का! गोरे बदन पर जब वो साबुन मल कर नहा रही थी तो मेरा लन्ड काबू मे नही रहा. उसके हाथ कभी उसकी मस्त चुची पर और कभी उसकी मस्त गोरी गोल गान्ड पर चलते और मेरे दिल की धडकन तेज़ होती रही. मै यह सब नजारा बाथरूम के दरवाज़े के छेद से देख रहा था और अपनी पॅन्ट की झिप खोल कर लन्ड की मुठिया रहा था. मेरा हाल बुरा हो रहा था, कुछ ही पलोमे मै झड गया लेकिन मेरी बहन प्रियंका के नन्गे जिस्म की तस्वीर मेरी आन्खो से ओझल ना हो पायी.

प्रियंका का बर्ताव भी दिन प्रति दिन अजीब होता जा रहा था, उसके लिये जो भी रिश्ते आती उनमेसे कुछ ना कुछ खोट निकाल लेती थी. मा भी परेशान थी कि कैसे इसकी शादी होगी या फिर जिन्दगी भर कुवारी बैठी रहेगी अपने घर मे…..

इसी दौरान मुझे पूना मे जॉब मिल गया, अच्छा खासा था कम्पनी शहरसे थोडी दूर थी लेकिन आने जाने के लिए कम्पनी की बस थी. मै वहा जाकर काम मे व्यस्त हो गया, इतना कि मुझे मा-प्रियंका का खयाल कम रहता. वो लोग मुझे बीच बीच मे फोन करते रहते लेकिन बहुत ज्यादा बाते नही हुआ करती थी. बस एक चीज की प्रॉब्लेम थी. मैने जो मकान किराये पे लिया था वो मकान का मालिक सिर्फ शादीशुदा लोगोको मकान देता था, अकेले मर्द को नही. मैने उसको झूठ बोला था कि मै शादीशुदा हू और मेरी बीवी आनेवाली है. उसका भतिजा- अनिल- मेरा दोस्त बन गया. उसका एक स्टुडिओ था जो कैसे तो भी चल रहा था. मै उसे मदद करता था, कभी कुछ पैसे दिया करता था.

मा अक्सर प्रियंका को लेकर परेशान रहती थी और पूछती कि पूना मे कोई लडका देखने मे है कि नही. एक दिन उसने कहा कि मै प्रियंका को ही पूना भेज देती हू. यह सुनकर मै अन्दरसे खुश हुआ, मुझे उसकी नन्गी तसवीर याद आने लगी और मैने हामी भर दी.

मेरे घर मे चार कमरे है. एक को मै अपनी प्रियंका के लिये तैयार किया. कमरा सजाया, और उसमे वेब-कॅम फ़िट किया जो की उसके कमरे की सारी फ़िल्म बना कर रिकार्ड करे. उस कॅमेरा का कनेक्शन मैने मेरे लॅपटॉप से जोड दिया. मुझे पता तो चले की मेरी बहना कितनी उतावली हो जाएगी बिना किसी मर्द के लन्ड के? अपने रूम मे मै वीसीआर और कुछ ब्लू फ़िल्म्स रख डाली और कुछ मस्तराम की किताबे अलमारी मे रखी. मै अपनी बहन को पटा कर चोदने की ताक मे था.

अगले दिन शनिवार को प्रियंका को मै स्टेशन से लेने गया. प्रियंका ने जीन्स और टी शर्ट पहनी हुई थी और उसके बाल छोटे कटे हुये थे. उसके सीने का उभार देख कर मेरे दिल की धडकन तेज़ हो गयी. प्रियंका बिलकुल किसी हिरॉईन जैसी दिख रही थी. उसकी चुची किसी पहाडी की चोटी की माफ़िक कडी थी. लोग उसे घूर रहे थे जिसका मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था. जब प्रियंका ने मुझे देखा तो दौड कर मेरी बाहो मे आ गयी. आलिन्गन मे लेते ही मुझे उसके जिस्म की मादक सुगन्ध मह्सूस हुई और उसकी चुची मेरे सीने के अन्दर घुसने को व्याकुल थी.

” कैसी हो, प्रियंका? कब से तेरी राह देख रहा था. वाह, मेरी बहना तू तो और भी सुन्दर हो गयी हो ! बहुत प्यारी लग रही हो मेरी बहना!” मैने कहा तो प्रियंका बोल उठी,

” सच भैय्या? मै तो सोच रही थी की तुम मेरी राह कम देख रहे थे और कुछ और अधिक देख रहे थे. भैय्या लडकिया मर्दो की नज़र पहचान लेती है. वैसे तूम भी बहुत स्मार्ट दिख रहे हो! लगता है शहर का असर है”

मुझे लगा की प्रियंका ने मुझे उसकी चुची को घूरते हुये देख लिया था. मै शरम के मारे चुप रहा. रास्ते मे बाईक पर जब मै ब्रेक मरता तो प्रियंका का सीना मेरी पीठ से जा टकराता और मेरी पॅन्ट मे तम्बू बन जाता. मुझे मह्सूस हो रह था की प्रियंका शरारती ढन्ग से मुस्कुरा रही थी.

“मुझे अच्ही तरह से पकड कर रखो, कही गिर ना जन!” मैने कहा तो प्रियंका ने मुझे कमर से कस के पकड लिया और उसका हाथ मेरे लन्ड से कोई अधीक दूर नही था. उसकी सान्स मेरी गर्दन से टकरा रही थी. उत्तेजना की हालत मे हम घर पहुन्च गये.

” भैय्या रसोई कहा है? मै कुछ खाना बन देती हून’ घर जा कर प्रियंका ने कहा. रसोई तो मै खोली भी नही थी.”

“रसोई तो बन्द है, मेरी बहना, खाना तो बाज़ार से लाता हू. मै खाना बनाना नही जनता, येह तो तुम जानती ही हो” मैने कहा तो प्रियंका मुझ से लिपट कर बोली,

’ भैय्या, बिना औरत के घर घर नही होता. अब मै आ गयी हू तो आपके मकान को घर मे बदल दून्गी. आप जा कर सब्जी वगैरा ले आये फ़िर देखना मेरा कमाल”

मै अपनी बहन को अलिन्गन मे ले कर खडा रह और प्यार से उसकी गान्ड पर हाथ फ़ेरने लगा और वो भी मेरे लन्ड पर अपनी चूत को रगडने लगी. मुझे पता ही नही चला जब मेरे होठ प्रियंका के होठो से जा टकराये तो वो अलग होती हुई बोली,

“भैय्या, बस करो अब. अपनी बहन को प्यार दिखाने का बहुत वक्त है, आप बाज़ार जाइये और सामान ले आइये”

खडे लन्ड को ज़बरदस्ती बिठाते हुए मै बाज़ार चला गय. सामान खरीदा और वपिस आने ही वाला था की फोन बजा. फोन प्रियंका का था,” भैय्या मेरे लिया एक ओडोमोस लेते आना, यहा मच्छर बहुत है” मै केमिस्ट की दुकन पर चला गया. वहा मुझे एक बोतल ऐसी दवा की भी मिली की जिसको पीने से औरत पर वो असर होता है जो मर्द पर वायाग्रा का होता है. घर आया तो प्रियंका मेरे कमरे मे बैठी मस्तराम की किताब पढ रही थी. मेरा अन्दाज़ा ठीक निकला. ऐसी किताब पढने से मेरी बहन के बदन मे वासना ज़रुर भडके गी. मुझे देख कर उसने किताब छुपा ली. मै उसको सामान दे कर बोला,

” अब मै बाहर एक दोस्त के यहा जा रहा हू. शाम को खाना खायेन्गे, तुम दरवाजा बन्द रखना”

मेरे दोस्त का एक फोटो स्टुडिओ था, मै वहा अक्सर जाया करता था और हम एक दूसरे से ऐसेही इधर उधर की बाते करते थे. मै वहा गया तो दोस्त किसी काम के सिलसिले मे बाहर गया था, लेकिन उसके असिस्टन्ट मुझे जानते थे, उन्होने मुझे उसके ऑफिस मे बिठाया. मैने बैठे बैठे वहा अपना लॅपटॉप खोला और बहन के कमरे मे लगे वेब कॅम को देखने लगा. वेब कॅम ठीक काम कर रहा था. प्रियंका अपने कपडे बदल रही थी. मुझे उसकी तस्वीर के साथ आवाज़ भी सुनायी दे रही थी. प्रियंका ने अपनी टी-शर्ट उतारी और उसकी चुची चमक उठी. वो मस्तराम की किताब ले कर अपने बिस्तर मे बैठी हुइ थी और एक हाथ से अपनी चुची मसल रही थी.

” वाह भैय्या, किताब तो बहुत मस्त रखी हुइ है घर मे! मेरे प्यारे भैय्या, स्टेशन पर तो बहुत घूर रहे थे अपनी बहन की चुची को………. क्या बात है अपनी बहन को पत्नि बनाने का प्लान तो नही है? मेरे प्यारे भाई, मै जानती हू तुम मुझे नहाते वक्त देखा करते थे……….लो मै आ गयी तुम्हारे पास, अब और मत तडपाओ………अब कितनी देर लगाओगे मुझे अपनाने मे? तुम्हारी प्यारी बहना की चूत तुम्हारे लिये बेकाबु हो राही है भैय्या आपके लन्ड को याद कर के………अब आ भी जाओ ना…..”

मै हैरान रह गया. मै तो मै, मेरी बहन खुद मेरी पत्नि बन जाना चाहती थी! मैने पॅन्ट की ज़िप खोली और घर फोन लगाया. प्रियंका ने उठाया तो मैने पूछा

“प्रियंका, मेरी बहन क्या कर रही हो?” मेरा हाथ मेरे लन्ड को सहला रहा था. वेब कॅम मे अब मेरी बहना अपनी चूत को मसल रही थी.

“कुछ नही भैय्या कुछ ज़रूरी कम कर रही थी. क्या बात है भैय्या?”

मैने कहा,”कुछ नही, बस तेरी याद आ रही थी”

इस पर प्रियंका ने अपनी चुची मसलते हुए जवाब दिया”हा भैया….मुझे भी…….” उसकी ये अदा देखकर मै तो बस झडते झडते रह गया. लन्ड को पॅन्ट के अन्दर डालकर खुद पर काबू रखकर बोला

“बस थोडा सब्र करना, मै जल्दी ही आ जाऊन्गा”

तभी मेरा दोस्त अनिल – जो उस स्टुडिओ का मालिक था- आ गया. वो मुझसे कुछ पैसे उधार ले चुका था जो वापिस करना चाहता था. मेरे दिमाग मे आयडिया आयी, जिससे मेरे मकान मालिक का भी शक दूर हो सकता था. मैने उसे कहा

“अभी मै कही और जा रहा हू, तू पैसे मेरे घर पे भिजवा देना, और हा साथ मे अपनी भाभी को भी देख लेना”

अनिल खुश हुआ और बोला “साले, छुपे रुस्तम, भाभी को ले आया और बताया तक नाही, घर पे अब खाने का प्रोग्राम हो जाये”

मैने हस के कहा” अरे आज ही तो आयी है, उसे थोडा सेटल होने मे वक्त लगेगा, फिर जरूर पार्टी करेन्गे” यू कह कर मै वहासे चला गया.

शाम को अनिल पैसे देने आया तो मैने प्रियंका को दरवाजा खोलने को बोल,

” भाभी जी नमस्ते, ये पैसे वंश भाई को देने थे.”

प्रियंका ने उसे बैठने के लिये कहा और चाय-पानी पूछा. मै भी अन्दरसे बाहरके कमरे मे आया. अनिल ने मजाक मे कहा
“क्यू भाभी, ये शैतान आपको कहा छुपा कर रखता है? इतनी सुन्दर बिवी है, वंश तुमने कभी भनक भी नही होने दी”

अनिल की इन बातोसे प्रियंका शरमाकर मुस्कुराते हुए अन्दर चली गई. मै और अनिल कुछ देर यूही बाते करते रहे और फिर वो चला गया.

ये प्लान मैने जान बूझ कर किया था, मै जानना चाहता था कि प्रियंका इस का क्या जवाब देती है. जैसे ही अनिल चला गया, प्रियंका हसते हुये मेरे पास आयी,

“भैय्या आपका दोस्त तो मुझे भाभी कह कर बुला रहा था.” मैने थोडा हिचकिचाने का नाटक किया.

“अब क्या बताउ प्रियंका तुझे, यहा मकान सिर्फ शादीशुदा लोगो को देते है, और मुझे घर के सख्त जरूरत थी, तुम तो जानती हो कि मै यहा बिलकुल अकेला आया था. तो घर मिलाने के लिये मैने मकान मालिक को झूठ बोला कि मेरी शादी हो चुकी है और बीवी आनेवाली है. ये अनिल उस मकान मालिक का भान्जा है, उसने तुम्हे देखा तो उसे लगा कि मेरी बीवी आयी है.

प्रियंका हसते हुए बोली,
” लेकिन मै कहा बुरा मान रही हू, क्या मै जानती नही तुमने घर के लिये कितनी मेहनत की है” और उसने मेरे गालोपे चूम लिया. मेरी चेहरा लाल हो गया, लेकिन अपने आप को सम्भालते हुए मैने कहा

“मुझे खुशी है तुमने बुरा नही मन उसकी बात का. चलो अब खाना खाते है, भूख लगी है” और हम दोनो भाई बहन किचन मे गये. मैने कुर्ता और लुन्गी पहनी थी और प्रियंकाने एक टी-शर्ट और एक स्कर्ट जो उसके घुटनो तक आ रही थी. मै बार बार उसकी चुचियो और टान्गोकी तरफ ललचाई नजरोसे देख रहा था.

प्रियंका ने खाना बडा स्वादिष्ट बनाया था. खाना खा के हम बाहर वाले कमरे मे आकर बैठ गए. मैने प्रियंकासे कहा,” वाह भाई ऐसा खाना कितनी देर के बाद नसीब हुआ है. प्रियंका, सचमुच, तुम जिसकी पत्नि बनोगी, बडा खुशनसीब होगा. बाहर का खाना खा कर तो मै तन्ग आ चुका था.

प्रियंका प्यार से मेरी गोद मे बैठ कर बोली,” भैया अगर तुम चाहो तो ऐसा खाना तुम्हे सारी उमर मिल सकता है, बस मुझे अपने पास रख लो, कभी अलग न करो” मै उसे अपनी बाहो मे भर के कहा,

“मै भी तो यही चाहता हू, मेरी रानी बहना, लेकिन कभी तो तुम्हे अपने पति के घर जाना पडेगा, तुम मेरी पत्नी बनके नही रह सकती”

“क्यू नही भैया, दुनिया मे इतनी सारी बाते होती रहती है, अगर हम दोनो पति-पत्नि जैसे रहे तो क्या फर्क पडता है” प्रियंका बोली. उसके ये बोल सुन कर मेरे रोन्गटे खडे हो गये, मेरी बहन तो मुझसे दो कदम आगे निकली. मै बोला
“क्या बोल रही हो, उसके लिये तुझे मेरी पत्नि बनना होगा. ये दुनिया उसको कभी स्वीकार नही करेगी, दुनिया की छोडो, मा क्या कहेगी? मै भी तुम्हे बहुत चाहता हू, तुझे प्यार करता हू, तुम्हारे जैसी प्यारी बहन को किसी और के सन्ग भेजने की कल्पनासे मुझे जलन होने लगती हौ, लेकिन क्या करे मेरी रानी……..”

प्रियंका मेरी प्यार भरी बात सुन कर भावुक हो उठी और मेरे होठ चूमने लगी,” सच भैय्या? इतना प्यार करते हो मुझे ?”

मैने भी उसके चुम्बन को साथ देते हुए कहा “सच मेरी प्यारी बहना, कई दिनोसे मेरे मन मे यह इच्छा थी लेकिन कैसे कहू समझ मे नही आ रहा था, आज तुमने मेरे मन की बात कहकर सारा मामला खोल दिया”
प्रियंका मुस्कुराकर बोले” तो भैया, बनाओगे मुझे अपनी दुल्हन? मेरी किस्मत खुल जायेगी, तुम्हारे जैसे प्यार करनेवाला कहा मिलेगा…..!”

मै अभीभी थोडा उलझन मे था
“अरी पगली ऐसा भी होता है, सिर्फ कहनेसे क्या होगा, हमे तो यहा रहना है, समाज मे कैसे रहेन्गे”

लेकिन प्रियंका के पास हर चीज का जवाब था.
“उसमे कौनसी बडी बात है भैया, हम तो अपने गाव से कई मील दूर आ चुके है, यहा हमारा कोई रिश्तेदार नही, बल्कि यहा तो लोग हमे पति-पत्नि मानने लगे है, तो अच्छा है, उसी को आगे बढाते है”

“लेकिन, प्रियंका….” मै बोलने लगा तो मेरे होठोपे अपने होठ रखकर प्रियंकाने मेरा मुह बन्द किया और मुझसे लिपट गई.

“मुझे अपना लो भैया, मेरे पति बन जाओ, मेरे स्वामी, मेरे मालिक. मैने आज तक कई रिश्ते देखे और कई लडकोको ना कहा इसी लिए कि मै अपने भैया की बन जाऊ, मै आपसे बहुत प्यार करती हू भैया, आय लव्ह यू……..”

मै बस इन्ही शब्दोको सुनने के लिए व्याकुल था, प्रियंका के मुख से सुन लिया तो मानो धन्य हो गया और उसे कसके बाहोमे भर लिया. प्रियंका भी उसी आग मे जल रही थी, उसने मेरे आलिन्गन का साथ देना शुरु किया.

“भैया मुझे प्यार करो! मुझे आज बहन का नही पत्नि का प्यार दो, मेरे प्यारे भैया! कब से अपने भैया की प्यार भरी नज़र को तरस रही हू, वंश भैया वर्ना अभी तक शादी न कर लेती. कई लडके तो मुझ से शादी करने को तरस रहे है, लेकिन मै अपनी जवानी अपने वंश भैया के लिये सम्भाल कर रखी हू, इसे स्वीकार कर लो मेरे वंशा…….!”

अब मुझे अपने आप पर काबू रखना सम्भव नही था, मै वहासे उठ के खडा हुआ और प्रियंका को अपनी बाहो मे उठा लिया, उसने अपनी बाहे मेरे गले मे डाल दी और मुझे चूमने लगी. मै उसे उठाकर बेडरूम मे ले गया और उसे बिस्तर पर पटक दिया. उस वक्त प्रियंका ने सफ़ेद स्कर्ट और सफ़ेद कुर्ती पहनी हुई थी, उसके बाल खुले छोडे थे और होठोपे एक अजीबसे मुस्कान थी, कसमसे वो एक अप्सरा दिख रही थी.

“आओ ना भैया अब और मत तडपाओ” प्रियंका ने ये कहते हुए अपना निचला होठ दातोतले दबाया. मेरा लन्ड अब तम्बू बनकर लोहे की रॉड जैसा बना था. मै उसपर झपट पडा और उसके मुख पर झुक कर उसको चूमने लगा. उसकी बाहे मेरे गले पर थी और वो मुझे चूम रही थी जैसे एक पत्नि अपने पति को प्यारसे चूमती है. ये हम दोनोका शायद पहला अनुभव था, शुरु मे तो हम सिर्फ एक दूसरे के होठ चबाने की कोशिश किए जा रहे थे, लेकिन फिर हम बडे प्यारसे होठ चूसने लगे, मैने प्रियंका के होठ ही नही बल्कि पूरा चेहरा चूम लिया. प्यार के जोश मे आकर प्रियंका के मुह से मादक आवाजे निकल रही थी जो मुझे और भडका रही थी. इसी बीच मैने फिरसे उसका चुम्मा लिया और अचानक मेरी जीभ उसके मुह मे चली गई. प्रियंका और उत्तेजित हो गई और मुझे कसके पकड लिया और उसकी जीभ अब मेरी जीभ से पेन्चा लडाने लगी. हम दोनो भाई बहन बडे प्यार से इस तरह मुख-रस का आदान-प्रदान करते रहे.

मै प्रियंका के पूरे बदन को सहला रहा था, मेरा एक हाथ अपनी बहन की जान्घो के बीच चला गया और उसने अपनी जान्घे खोल दी. प्रियंका की चिकनी जान्घे बिलकुल रेशम जैसी थी. मै देखा की प्रियंका ने पॅन्टी नही पहनी थी इसका मतलब वो तो पूरी तैयारी से आयी थी. उसकी चूत किसी फूल की तरह मुलायम थी. मेरी प्यारी बहन ने शायद मेरे लिये चूत साफ़ की थी. उसकी चूत पर बाल का नामो निशान नही था. मेरे हाथ के स्पर्श से मेरी बहन का जिस्म काम्प उठा और वो मुझ से और जोर से चिपक गयी.

प्रियंका का मखमली जिस्म मेरी बाहो मे मचल रहा था. मुझे मालुम ही न था की मेरी सेक्सी बहन मुझ पर पहलेसे फ़िदा है और मुझ से ही चुदवाने के सपने देखती आ रही है. इन विचारोने मुझमे और उत्तेजना भर दी और मै उसकी जान्घे और चूत सहला रहा था. पावरोटी की तरह फुली हुई चूत को जब मेरे हाथो ने स्पर्श किया तो मेरी बहन की आह्ह्ह निकल गयी,

“भैया………..आआआ, धीरे धीरे करो, प्लीझ…….मै कुवारी हू, अपनी ये चीज मैने तुम्हारे लिए सम्भाल के रखी है………”

मेरे बदन मे खून मानो दौडने लगा, सच प्रियंका मुझे इतना चाहती थी. मैने बिलकुल धीरे से उसकी चूत को सहलाना शुरु किया, उन्गलियो से उसकी चूत की पन्खुडियो को छेडता और कभे उन्हे मुठ्*ठी मे लेकर हलकेसे दबाता. मेरी इन क्रियाओ से प्रियंका और जोश मे आती गई.

“भैया………….मेरी …..मुझमे आग लगा दी है तुमने…….मेरे प्यारे भैया….मुझे प्यार करो भैया…आज अपनी प्रियंका को अपनी पत्नि बना कर प्यार करो भैया…आआह्ह्ह्ह मेरे प्यारे वंश भैया!!”

मैने शरारती ढन्ग मे पूछा

“कहा आग लगी है बताओ ना मेरी जान, मेरी प्यारी बहना” और उसे फिर बेतहाशा चूमने लगा.

“चलो हटो ना……..आप भी ना……..जाओ मै नही बताती…………” प्रियंका शरमाई.

“अरी पगली बताओ ना……..प्लीज……” यू कहके मैने एक उन्गली हलकेसे उसकी चूत मे घुसेड दी. प्रियंका के मुह से एक और मादक सिसकारी निकली

“स्स्स्स्स………आआआह……..भैया……..जाओ……….तुम भी ना……..मेरी उसमे……उम्म्म्म्म्म्म….” प्रियंका अब भी बोल नही पा रही थी. लेकिन मैने थोडी जिद की.

“उसमे मतलब………बताओ ना डार्लिन्ग……………”

“इस्स्स…………भैया…………मेरे वंशा………मेरी…………….मेरी……मेरी चूत मे आग लगी है और उसमे आपका ये हथियार डाल दो अब…………….” प्रियंका ने मेरे कान मे फुसफुसाते हुए ये कहा और एक हाथ नीचे ले जाकर मेरा लन्ड सहलाने लगी. मेरी खुशी का कोई ठिकाना ना रहा जब प्रियंका अपना हाथ निचे ले जा कर मेरे लन्ड को पकड कर सहलाने लगी. मेरा लन्ड लोहे की तरह सख्त हो चुका थ और मेरी बहन के हाथ मे तो जैसे कोई जादु था. मेरा रोम रोम खिल उठा जब मेरी प्रियंका ने मेरे लन्ड को मुठी मे लिया. जोश मे आ कर मै अपनी उन्गली अपनी प्यारी प्रियंका के चूत मे घुसेड दी. चूत पानी पानी हो रही थी. मेरी प्यारी बहना उतेजित थी और शायद लन्ड अपनी चूत मे घुसवाने को बेकरार थी. उसने अपने चूतड उपर उठा कर मेरी उन्गली पूरी तरह चूत मे लेने का प्रयास किया..

कहानी अभी ख़त्म नहीं होती मैं आगे की कहानी इस कहानी के अगले भाग में आप सभी के सामने प्रस्तुत करूँगा..इस कहानी को पधान एक एबाद आप सभी को कैसा लगा हमें कमेंट जरुर बताये.