शराफत के देवी मेरी बहन- 6

शराफत की देवी मेरी बहन- 5

दोस्तों मैं सूरज कुमार अपनी सच्ची घटना को छठा भाग एक बार फिर आप लोगों को कहानी के माध्यम से बताने जा रहा हूंपिछली कहानी में मम्मी पापा की चूदाई का**वीडियो देखने के ज़िद से बहुत मुश्किल से बहन को वीडियो दिखाकर चुदाई कर पाया था अब बहन का एक नया  नखरा आ गया था. अब कह रही थी सीमा के साथ तुम्हारी चूदाई देखना चाहती हूं वह भी लाइव मुझे सीमा को चोदने में बहुत परेशानी नहीं हो सकती लेकिन कैसे चोदूं जो दीदी देख सकें. मैं प्लान बना रह था उस दौरान सीमा को दो बार घर के पीछे बुलाकर चोद दिया था, लेकिन वह मजा नहीं आ रहा था जो मजा अपनी बहन चोदने में आता है, सीमा को चोदने के लिए प्लान बनाया , मैं सीमा के लिए सूट और सलवार के कपड़े खरीद के लाया और सीमा से  बोला मैं तुम्हें आज  रात सरप्राइज़ देना चाहता हूं.

आज रात तुमको पीछे से मेरे घर में आना होगा  लेकिन सीमा मानने को तैयार नहीं हो रही थी, वह बोल रही थी मुझे तुम्हारी सरप्राइज़़ की जरूरत नहीं है अगर तुम्हें कुछ देना है इसी समय दे दो वही मेरे लिए सरप्राइज़ होगी मैं उसको अपनेेे प्रेम  वास्ता देकर , कहां मैं तुम्हें अपने दुल्हन की तरह देखता हूं बेशक अपनेे रिश्ते को छिपाकर रखे हैं लेकिन मैं तुमसे वहीं उम्मीद करता हूं जो अपने  बीबी से करूंगा तुम्हें पत्नी बना दिया है जिस पर में हक दिखा सकता हूं. अगर तुम नहीं आए तो मैं आज से मान लूंगा कि तुम मुझसे प्यार नहीं करती.

वह कहने लगी सूरज तुम समझो मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं लेकिन कैसे आ सकती हूं  नानी बाहर गेट पर सोती है मैं बोला तुम्हारे नानी  11:00 बजे तक सो जाती है तुम  पीछे आ जाओ और तुमको अंदर पीछे से ले लूंगा मैं तुम्हें सिर्फ 1 घंटे ही रोकूंगा अगर जाते वक्त कोई जाग भी गया तुम कह देना मैं बाथरूम मैं गई थी मेरा पेट गड़बड़ है कोई शक नहीं करेगा सीमा मान गई और बोली मैं प्रयास करती हूं  मुझे बहुत परेशानी हुई सीमा को मनाने में बहन को चोदनेेे के लिए ना जाने क्या क्या करवा रहा था, मैं बहन को यह खुश खबरी सुना दिया बहन मेरे लंड को पकड़ कर बोली अरे राजा तू तो मेरी सारी ख्वाहिश पूरी करता है काश तुम मेेेरे जीवनसाथी हमेशा के लिए हो जाता, मैं बोला चलो हम दोनों कहीं भाग चलते हैं और कभी नहीं यहांं आते, बहन बोली अपनी जिंदगी तो  बीत जाएगी लेकिन मम्मी पापा कहां किसको मुंह दिखा पाएंगे.

हम अपने प्यार को छिपाकर पति पत्नी की तरह जब तक रह सकते हैं. तब तक रहे यही भगवान की मर्जी है आज एक बात तुमको बताना चाहती हूं  संच में मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं. मेरी शादी होने के बाद भी तुम्हारी ही रहूंगी पति मुझे चोदेंगा लेकिन मेरा दिल तुम्हारे साथ हमेशा रहेगा और वो तुमसे एक और वादा करती हूं मैं तुम्हारे बच्चे की मां बनूंगी जिसको हम अपने प्यार के रूप में देखेंगे और उसको भाई बहन प्यार के मायने हम बताएंगे.

बहन को मैं चूमने लगा और अपनी बाहों में भर कर कहने लगा तुम तो मेरे दिल की बात को कह दिया मैं तुमसे हमेशा यही  उम्मीद करता रहूंगाऔर चाहे जहां रहूंगा पूरे जीवन तुमसे प्यार करता रहूंगा ,बहन की चूची दबाने लगा और अपने दोनों हाथों से बहन के दोनों चूचियों को पकड़ कर बाहों में उठाकर  उसके होठों को अपनेे होठों में दबा लिया. फिर धीरे धीरे बहन के कपड़े उतारने लगा बहन मना कर दी बोली यह दिन है रात नहीं है कोई आ जाएगा जो भी करना है ऊपर से करो मैं बहन के सलवार और समीज हल्का हल्का नीचे करके अपने मुंह को बहन के चूची पर और हाथ चूत में डाल दिया बहन को गर्म करने लगा बहन कहने लगी अरे पतिदेव आप की पत्नी बनकर मैं दुनिया की सबसे खुशनसीब लड़की हो गई हूं लव यू.

मैं बोला मैं भी दुनिया का सबसे खुशनसीब पति और भाई दोनों हो गया हूं बहन के चूूत में उंगली करने लगा बहन गर्म हो चुकी थी अब मैं बिना देरी करते हुए अपनेे लंड को बहन की चूत में डाल दिया बहन के चूत में ज्वालामुखी की तरह आग लगी हो. मैं बहन से बोला रानी तुम्हारे चूत में इतनी गर्मी हमेशा क्यों रहती है बहन शरारत करतेे हुए बोली , जिसकेे चूत को उसका सगा भाई अपना लंड का दर्शन कराता हो उसकी चूत मैं क्या बर्फ होगी भाई के नाम पर ही आग लग जाती है. जब मैं सोचती हूं कि मेरा भाई मुझे चोद रहा है सोचने मात्र से चूत में आग लग जाती है.

मैं बहन को झटके देने लगा और बहन चुदाने में मेरा सहयोग करने लगी चोद भाई चोद भाई अपनी बहन के चूत में अपने  सारी गर्मी को निचोड़ डाल मैं और जोश में चोदने लगा लेकिन कुछ समय बाद बाहर आवाज आई मां आ रही थी लग रहा था. मैं तुरंत अपना लंड बाहर निकाला और पीछे चला गया लेकिन मेरा लन्ड पूरा वीर्य छोड़ दिया था. बहन का सलवार गिली हो गई थी. मैं जल्दी से बाथरूम में घुस गया, और कुछ देर बाद बाहर आया देखा बहन काम करने लगी थी और गुस्से में थी आंख दिखाकर ऊपर चली गई. मैं समझ गया था कुछ तो जरूर हुआ मैं हिम्मत करके कुछ टाइम बाद जब मां बाहर गई.

मैंं ऊपर दीदी के पास पहुंचा तो दीदी ने मुझे कहा तुमको हमेशा में कहती हूं कि दिन में कभी भी नहीं पकड़ा कर मुझको लेकिन तूू बाज नहीं आता मैं कुछ बोल नहींं पा रहा था मैं बोला क्या हुआ , मम्मी को शक हुआ कह रही थी कौन था तुम्हारेे साथ लग रहा था तू किसी के साथ बात कर रही थी आवाज आ रहीी थी और गंदीी आवाज निकाल रही थी. अगर तुम 1 मिनट भी देरी करते तो आज हम रंगेें हाथ पकड़े जाते आज बहुत गड़बड़ हो जाता हमें सचमुच आज घर छोड़ कर भागना पड़ता मैं बहन को पकड़ कर सॉरी बोला और पूछा कि फिर तुम क्या करें बहन बोली मैं मां से बोली कि सूरज था. वह मोबाइल में कोई गाना सुन रहा था और वह नहाने पीछे गया है और मैं भी गुस्सा दिखाते हुए मां से बोली कौन है घर में सूरज है और मां बोली उस दिन भर मोबाइल लेकर घर मेंं पड़ा रहता है ना पढ़ाई करनी है ना कोई काम करना है निगमों की तरह दिन भर घर में सोना ही है, और तुमको खेत में बुलाई है जाओ मैं बहन को बाहों में  हुए कहां रानी मैं तुम्हारे बिना जिंदा नहीं रह सकता.

दोस्तों यह बात सच है मैं अपनी बहन से बहुत प्यार करता हूं वह मुझे जो भी चीज मांग ले मैं उसको गलत से गलत काम करते पूरा करता हूं वह आज भी मैं उससे ज्यादा किसी से प्यार नहीं करता और मैं पूरे जीवन करता रहूंगा क्योंकि जो उसने मेरे लिए किया वह दुनिया में कोई नहीं कर सकता। हम दोनों खाना खाने छत पर सोनेे चले गए 11:00 बजे का इंतजार करने लगा बहन मुझे समझाने लगी बोल रही थी तुम अपना मोबाइल मुझे दे दो और मैं उसमें तुम्हारी और सीमा की चुदाई की वीडियो रिकार्डिंग करूंगी, और बहन बोली तुमको आराम से सीमा को चोदना है और चुदाई ऐसे करनी है. जिससे मैं छिपकर आराम से देख सकूं और तुमको ऐसे चोदना है जैसे मुझ को चोदते हुए तुम्हें उसके चूत** में अपने होंठों से चूत के रस को निचोड़ने होंगे.

मैं बहन से बोला मैं उसके चुत में अपना मुंह नहीं लगाता हूं बहन बोली मुझे यही तो देखना है, तुम्हें आज उसे पूरा मजा देना होगा. मैं बोला जैसा तुम कहोगे मैं वैसा ही करूंगा, और तुम बता दो जो जो करना है सब मैं करूंगा बहन बोली राजा तुम्हें चुदाई की गुरु बना दि हूं बस तुम्हें वही करना जो तुम मेरे साथ करते हो, लगभग 11:30 बजे सीमा पीछे के गेट पर  आ गई थी मैं सीमा को चुपके से घर में घुसा दिया , सीमा डरी हुई थी कह रही थी  सूरज जल्दी करो जो करना है नानी अगर जाग गई तो बवाल हो जाएगा मैं बोला चिंता ना करो, मैं उसको पिछले कमरे में जिस कमरे में विनोद मेरी बहन की चुदाई किया था.

आज मैं विनोद की बहन चुदाई करने जा रहा हूं बस फर्क बस इतना है, उस समय विनोद मेरी बहन को चोद रहा था और मैं वीडियो बना रहा था आज मेरी बहन वीडियो और चुदाई**** देख रही होगी, लेकिन फर्क बस इतना है उस समय विनोद और मेरी बहन दोनों को चुदाई**** करते वक्त यह पता नहीं था कि हमें कोई देख रहा है लेकिन आज सिर्फ सीमा को नहीं पता है चूत** की चुदाई**** का कोई प्लान बनाकर जुदाई करवा रहा है,अब मैं सीमा के सारे कपड़े उतार दिया बस पैंटी और ब्रा नहीं उतारा फिर अपने होठों को सीमा के वोट पर रखकर चूसने लगा और  सीमा की चूची दबाने लगा, बहन न चुुपके से हमको खिड़की से देख रहेी.

मैं सीमा का सिर खिड़की की तरफ करके चूची पीने लगा बहन खिड़की पर खड़ी होकर हमारी और सीमा की चुदाई****देखने लगी सीमा के सूचियों को अपने मुंह में भर के पी रहा था और दाब रहा था, अब धीरे धीरे मैं अपने होठों को सीमा के बदन को चुुमते हुए, **चूूत पर  ला दिया सीमा के पैरों  को फैला दिया और चूत में अपना मुंह रख दिया  सीमा को पहली बार चूत** में मुंह डालने की वजह से सीमा पागल हो गई थी अपने पैर को रगड़ने लगी थी और मुझे ऊपर खींच रही थी लेकिन मैं कहां मानने वाला था जब मुंह लगाए दिया था तो खाना पूरााा खा कर ही रहूंगा,मैंं चूत चूसता रहा आवाज निकाल रही थी.

मैं आज उसके चूतड़ में घुस जाना चाहता था, सीमा पागलों की तरह छटपटा रही थी  मानो वह हजार कामवासना एक साथ उसके ऊपर आ गिरी हो चूत** चूसवाने का पहला अनुभव था उसका वो झड़ चुकी थी और मुझसेे चिपक कर लेट गई और कहने लगी सूरज आज तक तुमने जितनी बार मुझे चोदा है लेकिन आज जैसा मजा दियाा है ऐसा मजा कभी नहीं दिया बताओ इतने दिन तक क्यों मैं बोला कभी हम शांति से चुदाई नहीं किए, आज पहली बार मौका मिला तो मैं तुमको आनंद दे रहा हूं जिसके तुम कल्पना ना की हो मैं अपना लंड**सीमा के मुंह में डाल दिया.

मैं बोला अब तुम भी मेरे लन के पानी को चूसो सीमा मेरे लंड** को चूसने लगी मेरा लन्ड पूरा खड़ा हो गया था मानो वाह आज सीमा के भीतर बारिश करके तालााब को भर देगा,15 मिनट लंड चूसने के बाद सीमा के चूत** में डाल दिया चूत** में झटके मारने लगा और सीमा के चुचियों को मसलने लगा मैं जोश में लंड  तेेेेज कर दिया और सीमा केेे मुंह से सिसकियां निकलने लगी थी लेकिन वह चाहकर भी आवाज नहींं निकाल पा रही थी क्योंकि उसको डर लग रहा था कोई और ना जाए मस्त चुुाईद****कर रहा था. उधर बहन खिड़की के पास खड़ी होकर मुस्कुरा रही थी और अपनेे हाथ सेे अपनी चूची दाब रही थी. मैं अपना पानी छोड़ दिया और चिपक कर लेट गया.

सीमा बोली आज मुझे आप को छोड़ने का मन नहीं कह रहा है, अभी मैं यही आप के साथ मजे लेने का मन है, मैं बोला ठीक है फिर चूची मसलने लगा, बहन खिड़की से इसरा करने लगी कि उसे बाहर भेजो, मैं सीमा से बोला तुम जाओ नहीं तो अगर तुम्हारी नानी जाग गई तो बवाल हो सकता है, हमें हमेशा अपने रिश्ते को छिपाकर रखना है. कल फिर हम मजा करेंगे क्योंकि हमें रोज मजा करना है, सीमा कहीं ठीक कहके किस की और कपड़े पहने पीछे के रास्ते से अंदर घर में चली गई, कोई दिक्कत नहीं हुआ.

अब उसकी हिम्मत बढ़ा गए थीअब बहन और हम छत पर चले गए बहन ने कहा तुम तो 2 चूत** का मजा ले रहे हो और मुझे एक लंड का मैं बोला तुम भी तो विनोद के लंड का खूब मजा लिया है बहन बोली तुम तो 2 चूूत के साथ अभी तक मज़ा ले रहे होमैं बोला तुमको भी चहिए तो , बहन बोली अब जब मैं कहूंगी तब तुम सीमा को चोदना , मैं बहन के चुचियों को मसलते हुए कहा जैसी आपकी मर्जीी रानी, मैं आपका गुलाम हूं , हमेशा सोचता हूं की काश बहन से शादी हो जाती कुछ ऐसा नियम बन जाते कि बहन से शादी एक नॉर्मल शादी की तरह होती, अब आगे की कहानी अगले भाग में।।