Category: हिंदी सेक्स कहानियाँ

चूत फुद्दी लंड की सामान्य हिंदी सेक्स कहानियाँ
Chut Fuddi Lund ki samanya sex kahaniyan
General Sex Stories in hindi

मैं भाभी और आंटीयों को मजे कराता हूँ

मेरा लॅंड अपनी गॅंड मे डालकर उछलने लगी और मेरे हाथ अपने बूब्स पर रख दिए और मैने तेज़ी से दबा-दबा कर उनको और ज़्यादा मज़ा दे रहा था और फिर वो डॉगी बन गयी मैने पीछे से गॅंड मारने लगा और आंटी अपनी दो उंगलियाँ चुत मे डाल कर और तेज़ और तेज़ चोदो चिल्ला रही थी

मम्मी की चुदाई मुस्लिम लौडे से- 2

मैंने थोड़ी देर मम्मी की चूचिया दबाई.फिर मैंने मम्मी की चूचीयो को चूसना शुरू किया.फिर मम्मी को थोड़ा आराम आया.अब दोनो तरफ से धकको की स्पीड बड गई थी.साबिर केे अब्बू ऊपर से शॉट लगा रहे थे

रूपा के हुस्न का भोग

भाभी- चोद आह , चोद ,फाड़ रगड़ इस निगोड़ी चुत को । जोर जोर से मार मेरी चुत बना दे इसे भोसड़ा , मुझे बना दे रांड मेरे राजा । मुझे चुदवा दे गली के कुत्तो से , गधो से, आह आह बना ले मुझे अपने । मैं 27 मिनट तक रूपा को एक ही पोज़ में चोदता रहा।

वीर्य पतन योनि के अंदर कर दिया

मैंने अपने लंड को उसकी योनि पर रगडना शुरू किया और धीरे-धीरे उसकी योनि के अंदर अपने लंड को प्रवेश करवा दिया। मेरा लंड उसकी योनि के अंदर जाते ही उसके मुंह से चीख निकल पड़ी लेकिन मैंने उसका मुंह दबा दिया, उसे भी मजा आने लगा था।

बहन की चुदाई की अनोखी कहानी- 1

एक उंगली उसकी चूत में डाल दी। वो मछली की तरह छटपटाने लगी और अपने हाथों से कार्तिक का लण्ड को टटोलने लगी। कार्तिक का लण्ड पूरे जोश में आ गया था और पूरा तरह खड़ा हो कर लोहे जैसा सख्त हो गया था।

जवानी के निशानी के लिए बुर चुदवानी पड़ती है

जब मैं उसकी बाहों में गई तो उसने मेरे स्तनों को दबाना शुरू किया और मेरे होठों को चूसना शुरू किया मेरे अंदर की गर्मी बढ़ने लगी थी, मैं अपने आप को काबू में ना रख सकी। उसने मेरे स्तनों को चूसना शुरू किया तो मेरे शरीर से गर्मी अधिक मात्रा में बढने लगी

भाभी की बेचैनी को समझ गया

मुझे उनकी साफ चमकती हुई रस से भरी कामुक गुलाबी चूत नजर आ गई. वो दिखने में ऐसी नजर आ रही थी कि जैसे वो कब से मेरे लंड का इंतज़ार कर रही थी और उसी समय मैंने उसका वो इंतज़ार खत्म किया और मैंने अपने लंड का टोपा उनकी खुली हुई चूत पर लगाकर चूत के दाने को रगड़ने लगा

दीदी की भारी गांड की चुदाई

मैंने दीदी की बूर को फैलाया और अपना 7” का लौड़ा पेल दिया. दीदी बहुत जोर से चीखी. पर मैंने २-३ धक्को में पूरा लंड बूर में डाल दिया। फिर मैं दीदी को बहुत तेजी से चोदने लगा.. मेरा लंड दन दनाता हुआ दीदी को बूर चोद रहा था. हर एक शॉट के साथ दीदी की मॉनिंग बढ़ रही थी..

मासूम सी दीदी की कामुक कहानी

में उसे ग्रुप में चोदू लेकिन ये भी चाहता था पहली बार में ही सील तोड़ू जोकि मेरा सपना ही रह गया लेकिन ग्रुप सेक्स करने के रास्ते खुल गए उसकी बातें सुनते सुनते मेरा लंड खड़ा हो चुका था

घर की चाचियो की चुदाई मेरी ज़िम्मेदारी

में अब उसको अपनी तरफ से मस्त मजेदार धक्के देकर उसकी चुदाई करने लगा था कुछ देर धक्के देकर में अब उसकी चूत में झड़ गया। फिर मैंने अपना पूरा गरम ताज़ा वीर्य उसकी चूत की गहराइयों में अपने तेज धक्को के साथ डाल दिया था और उस दिन मुझे बहुत मज़ा आया।