Category: देवर भाभी

देवर भाभी के बीच शरारतों, यौन सम्बधों की चुदाई कहानियाँ

Incest Hindi sex stories of Devar Bhabhi, Dewar Bhabhi chudai kahaniyan

भाभी को जमकर चोदा

हैलो दोस्तो कैसे हो आप सब ! आज आप सब मेरी कहानी भाभी को जमकर चोदा पढ़ेंगे | मस्ताराम डॉट नेट पर कई कहानियाँ पढी फिर सोचा क्योना अपनी भी एक कहानी आप सबके सामने पेश करू। दोस्तों ये कहानी मेरी और मेरे सोनल भाभी की है। अभी भाभी की उम्र 24 है और उनका साईज 34-30-34 की है।

छोटे भाई की हॉट बीबी

हम दोनों अब शर्म और ह्या को भूल गये थे और दो प्रेमी बन गये थे जो एक ही डाल मर बैठ के गुटुर गू करने वाली थे। मैंने अपने छोटे भाई दीपक की बीबी की हाथ की उँगलियों में अपनी उँगलियाँ फंसा दी। मैंने अपने होठ उसके लिपस्टिक लगे ओंठों पर रख दिए और पीने लगा। उफ्फ्फफ्फ्फ़ …क्या रसीले ओंठ थे उसके

भाभी ने मेरी चुदक्कड़ gf को पछाड़ दिया

उन्होंने मेरा लौड़ा अपने मुलायम हाथों में ले लिया और बड़े प्यार से उसको सहलाने लगी। उनके सहलाने का अंदाज इतना अच्छा था कि मुझको लगा कि मैं तुरन्त झड़ जाऊँगा। अब भाभी करवट लेकर पीठ के बल लेट गई। उनकी गुलाबी, बिना बालों की चूत मेरे सामने थी और उनका आंचल भी हट चुका था जिसने आज तक उनके मोटे मोटे स्तनों को मेरी नजरों से छुपाये रखा था। आज मेरी एक और इच्छा पूरी होने वाली थी सो मैंने बिना देर किये अपना मुँह उनकी चूत पर रख दिया और उसको चाटने लगा। मेरे दोनों हाथ उनके वक्ष को दबा रहे थे

मेरी भाभी को तो मेरे जैसा ही लौंडा चाहिए था

उसके चूतड़ भी मेरे लौड़े पर संवेदना भरे कसाव डाल रहे थे, तो ऐसा लगता था जैसे वह मेरे लंड का दूध निचोड़ लेना चाहते हैं। कमरे में हमारी मक्खन भरी गाँड़-चुदाई के कारण फच्च-फच्च की आवाजें गूँज रहीं थीं। मैंने उसकी गाँड़ करीब २० मिनटों तक मारनी जारी रखी, फिर मुझे महसूस हुआ कि मैं झड़ने के नज़दीक पहुँच चुका हूँ… मैंने उसे धीरे से कहा, “मैं झड़ने वाला हूँ।” उसने अपना हाथ बढ़ा कर मेरे अंडकोषों को दबाया। मैं चिल्लाया

भाभी चुदी अपने प्यारे देवर से

देवर ने मेरी पेंटी को निकाल कर मुझे एकदम नंगी कर दिया और मुझसे बोलने लगा- भाभी, मैं आपको बहुत पहले से पसंद करता था लेकिन आपके साथ ये सब करने की हिम्मत नहीं होती थी. मैं आपको बहुत पहले ही चोदना चाहता था. मेरा भाई बहुत किस्मत वाला कि उसको आप जैसे खूबसूरत बीवी मिली है.
मेरा देवर मेरी चूत को सूंघने लगा लगा और मेरी चूत को सूंघने के बाद वो मेरी पेंटी को भी सूंघने लगा

मोनिंग करते हुये भाभी ने खूब चुदवाया

उसकी फिगर एकदम मस्त थी, लचीली कमर, गोल गांड, उसके बूब्स बहुत बड़े और टाईट थे एकदम गोल्ड जैसे, वो एकदम कड़क माल था, मानो लंगूर के हाथ में अंगूर आ गया हो। अब में तो बस उसे ही देखे जा रहा था, अब वो जहाँ भी जाती मेरी नज़र उस पर ही रहती

भाभी के मुँह मे मोटा और लंबा लंड

जब भी अपनी चूत और पूरे बदन को चटवाना हो तो मुझे याद कर लेना, में आपके पूरे बदन को मसाज दूंगा और चाटूँगा। तो तब भाभी बोली कि हाँ जरुर, में अब तुमसे ही अपने बदन की मालिश करवाऊंगी और सक करवाऊंगी, तुम इस काम में बहुत एक्सपर्ट हो और बोली कि चलो अब इसकी चूत की प्यास बुझा दो, यह भी बाथरूम में जा-जाकर अपनी चूत को रब करती है और फिंगरिंग करती है

भाभी की मोसमी चुत की मस्त कुटाई

मैने पेटिकोट भी उतार दिया भाभी ने अपनी चुत को नेट की रेड पैंटी से कवर किया हुआ था जो एक दम फूली हुई चिकनी और काम रस लबालब से थी. मैं तो उसे देखता ही रह गया क्या चुत थी एक दम रस से भरी हुई बीच मे से थोड़ी सी खुली हुई गूँझिया जैसी. फिर मैं नीचे घुटनो के बल बैठ गया और पैंटी के उपर से ही उसकी चुत को हाथ से मसला और पैंटी को निकाल कर उसकी चुत को चूसने और चाटने लगा

चुंबन लेते हुये भाभी को चोद दिया

दरअसल मेरी भाभी बहुत ही चुदक्कड़ हैं वो मुझे अपनी बाहों मे जकड़े हुए लण्ड घचाघच अपनी बुर मे लिये जा रही थीं साथ ही साथ जोर-जोर से साँसे लेते हुए बोलती जा रही थी हाए रे मेरे बबुआ आज तो आपने एक नये लण्ड का स्वाद चखा दिया….………मैं तो कब से तरस रही थी स्वाद बदलने को कब से आपके भैया का लण्ड ले ले कर बोर हो गयी हूँ।

इशिता भाभी को अलग फ्लेवर चाहिए

मुझे कहने लगी अपना लंड मेरी योनि में डाल दो। मैंने उनके मैक्सी को ऊपर उठाया और अपना लंड उनकी योनि में डाल दिया। जैसे ही मैंने लंड अंदर डाला तो उनके मुंह से बहुत तेज आवाज निकल गई और वह कहने लगी तुम्हारे तो बहुत ही मोटा है। मैंने भी उनसे कहा कि बिना फ्लेवर वाला है इसलिए तो इतना मोटा है। अगर इसमे फ्लेवर होता तो आपको अच्छा नहीं लगता। ऐसा कहते कहते हैं मैं उन्हें तेज तेज झटके मारने लगा