Category: देवर भाभी

देवर भाभी के बीच शरारतों, यौन सम्बधों की चुदाई कहानियाँ

Incest Hindi sex stories of Devar Bhabhi, Dewar Bhabhi chudai kahaniyan

भाभी को अपनी वासना के लिए चोदा

तुमने मेरी चूत का भोसड़ा बना दिया मुझे बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है। मैं उनकी चूत तेजी से मार रहा था उन्होंने भी कल्पना नहीं की थी वह कहने लगी तुमने तो मेरी चूत पूरी तरीके से फाड़ कर रख दी है मुझे बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है। मैंने उनके दोनों पैरों को इतना चौड़ा कर लिया जिससे कि मेरा लंड आसानी से उनकी चूत में जा रहा था।

मेरी विधवा भाभी की भोंसड़ी -1

भाभी की गांड के दर्शन हुए भाभी की गांड की तरह मस्त लग रही थी और भाभी जैसे ही नीचे झुकी भाभी की चुत के टिप्स पीछे से दिखाई दे रहे हैं. जोगी 1 डबल रोटी जैसे दिख रही थी. मेरा तो लंड बहुत खड़ा हो गया और मैं लैंड को हिलाने लगा. इसके बाद भाभी ने सॉरी सिर पर पानी डाला और टॉवल से अपना शरीर शरीर पूछने लगी इसके बाद भाभी ने अपनी चुचियों पर ब्रा पहनी

भाभी की गोरी गोरी चुत चाटी

मैंने उनको मेरा लंड चूसने को कहा और वो मेरा लंड चूसने लगी, वाह्ह्ह्ह क्या मज़ा आ रहा था? और फिर 10 मिनट तक मेरा लंड चूसने के बाद मेरा लंड पूरा रोड की तरह सख्त हो गया. फिर मैंने उनकी टाँगे खोलकर अपना लंड उनकी चूत से लगाते ही वो सिसकी और मैंने एक झटका मारा.

विधवा भाभी की भोसड़ी – 2

मैंने भाभी की टांगों को पूरा चौड़ा कर दिया भाभी की चुत का मुख खुल गया मैंने भाभी की चुत की दरार को फैलाया उस क्या भोसड़ी थी भाभी की भोंसड़ी अंदर से एकदम गुलाबी थी और चुत का छेद टाइट था पता नहीं भाभी कब से नहीं चुत * थी मैंने धीरे से भाभी की चुत के दानेको रगड़ा और धीरे से भाभी की भोसड़ी के दाने के अपनी जीभ रख दी

भाभी की चुत अब मेरी हो गई

भाभी की चुत अब मेरी हो गई इसलिए मे लगा रहा उनकी चुत से फचफचा  फच की बहुत ही सुरीली आवाज आरही थी। भाभी आहहहह ईईईई करती रही । कुछ देर बाद मेरा भी पानी  भाभी की चुत मै निकल गया जिससे भाभी की चुत पुरी भर गई  ओर मै निढाल होकर उनके ऊपर लुढक गया  एक अजब सा सुकुन था  कूछ देर बाद भाभी मेरे सर मे हाथ फिराने लगी । ओर मुझे चुमने लगी। उस रात मैंने भाभी को चार बार चोदा।

भाभी को जमकर चोदा

हैलो दोस्तो कैसे हो आप सब ! आज आप सब मेरी कहानी भाभी को जमकर चोदा पढ़ेंगे | मस्ताराम डॉट नेट पर कई कहानियाँ पढी फिर सोचा क्योना अपनी भी एक कहानी आप सबके सामने पेश करू। दोस्तों ये कहानी मेरी और मेरे सोनल भाभी की है। अभी भाभी की उम्र 24 है और उनका साईज 34-30-34 की है।

छोटे भाई की हॉट बीबी

हम दोनों अब शर्म और ह्या को भूल गये थे और दो प्रेमी बन गये थे जो एक ही डाल मर बैठ के गुटुर गू करने वाली थे। मैंने अपने छोटे भाई दीपक की बीबी की हाथ की उँगलियों में अपनी उँगलियाँ फंसा दी। मैंने अपने होठ उसके लिपस्टिक लगे ओंठों पर रख दिए और पीने लगा। उफ्फ्फफ्फ्फ़ …क्या रसीले ओंठ थे उसके

भाभी ने मेरी चुदक्कड़ gf को पछाड़ दिया

उन्होंने मेरा लौड़ा अपने मुलायम हाथों में ले लिया और बड़े प्यार से उसको सहलाने लगी। उनके सहलाने का अंदाज इतना अच्छा था कि मुझको लगा कि मैं तुरन्त झड़ जाऊँगा। अब भाभी करवट लेकर पीठ के बल लेट गई। उनकी गुलाबी, बिना बालों की चूत मेरे सामने थी और उनका आंचल भी हट चुका था जिसने आज तक उनके मोटे मोटे स्तनों को मेरी नजरों से छुपाये रखा था। आज मेरी एक और इच्छा पूरी होने वाली थी सो मैंने बिना देर किये अपना मुँह उनकी चूत पर रख दिया और उसको चाटने लगा। मेरे दोनों हाथ उनके वक्ष को दबा रहे थे

मेरी भाभी को तो मेरे जैसा ही लौंडा चाहिए था

उसके चूतड़ भी मेरे लौड़े पर संवेदना भरे कसाव डाल रहे थे, तो ऐसा लगता था जैसे वह मेरे लंड का दूध निचोड़ लेना चाहते हैं। कमरे में हमारी मक्खन भरी गाँड़-चुदाई के कारण फच्च-फच्च की आवाजें गूँज रहीं थीं। मैंने उसकी गाँड़ करीब २० मिनटों तक मारनी जारी रखी, फिर मुझे महसूस हुआ कि मैं झड़ने के नज़दीक पहुँच चुका हूँ… मैंने उसे धीरे से कहा, “मैं झड़ने वाला हूँ।” उसने अपना हाथ बढ़ा कर मेरे अंडकोषों को दबाया। मैं चिल्लाया

भाभी चुदी अपने प्यारे देवर से

देवर ने मेरी पेंटी को निकाल कर मुझे एकदम नंगी कर दिया और मुझसे बोलने लगा- भाभी, मैं आपको बहुत पहले से पसंद करता था लेकिन आपके साथ ये सब करने की हिम्मत नहीं होती थी. मैं आपको बहुत पहले ही चोदना चाहता था. मेरा भाई बहुत किस्मत वाला कि उसको आप जैसे खूबसूरत बीवी मिली है.
मेरा देवर मेरी चूत को सूंघने लगा लगा और मेरी चूत को सूंघने के बाद वो मेरी पेंटी को भी सूंघने लगा