Category: सामूहिक चुदाई

दो से अधिक स्त्री पुरुषों लड़के लड़कियों के एक साथ मिल कर एक स्थान पर सामूहिक चुदाई या सेक्स का मजा लेने की कहानियाँ

Do se jyada ladke ladkiyon ke ek sath mil kar chut chudai ki kahaniyan

Sex Stories about Group Sex among many girls and boys or couples

पतियों की अदला बदली का खेल

मैंने शादी के बाद पहली पतियों की अदला बदली का खेल खेला था अदल बदल के मेरी चुदाई हुयी मुझे मज़ा तो खूब आया पर थोडा डर भी रही थी क्योकि पहली बार था ना तो थोडा अन्दर ही अन्दर अजीब सा लग रहा था |

संध्या ने अपने पति के साथ थ्रिसम चुदाई करवाई

मुझे चूत पर जाने को कहा मैं संध्या के पैर अपने कंधे पर उठाके संध्या को पेलने लगा संध्या फिर से गरम हुई थी वो भी मेरे साथ साथ नीचे से धक्के लगाके मेरा साथ देने लगी |

बेटी की गर्म ससुराल में चुदाई का मज़ा

मै अपनी बेटी की ससुराल में चुदाई के मजे लेकर आई हूँ मेरे दमांद जी , समधी जी , समधी जी के भाई किससे नहीं चुदाई अपनी चुत इस कहानी में सब कुछ बताउंगी |

पारुल एक अद्भुत अनुभव

मैंने कहा कि जब भी तुम्हे सेक्स करना हो मुझे बता देना में आ जाऊंगा। फिर उसके बाद हमने कई दिनों तक बहुत बार सेक्स किया l और फिर उसने मुझे अपनी सहेलियों से भी मिलवाया। और हमने इक्कठे ग्रुप सेक्स भी किया

बाप-बेटे की जुगल जोड़ी ने माँ -बेटी को पकड़-पछाड़ चोदा

जब मेरा बेटा अपनी सगी बुआ की गांड पेलेगा तब मैं भी तो अपनी सगी बहन की गांड अपनी हथेली के पंजों से चौड़ी करूंगा।

मै और मेरे दोस्त ने अपनी अपनी माँ की चुदाई किया

माँ मेरा लंड चुसने लगी ओर मै माँ के बालो को सवारने लगा | फिर मै अपनी माँ को कुत्तिया बना कर गांड में लंड घूसाने लगा माँ आआआआ आहआहआह उ्आऊफ की अवाजे जोर जोर निकालने लगी मैने माँ के गांड में लंड डाल कर चोदने लगा मेरा लंड माँ के गांड में घूसा तो लगा कि मेरा लंड किसी गर्म बिल मे घूस गया है |

सामूहिक चुदाई : संत और अंकल की कामलीला

मेरा नाम गरिमा है यह मेरी सच्ची कहानी है मैंने संत और अंकल से सामूहिक चुदाई करवाई है मुझे मज़ा भी आता है समूह में चुदाई करवाने में जो मै आप सभी के साथ शेयर करने जा रही हूँ |

चुदवाते चुदवाते मै चुदाई की मशीन बन गयी – 6

दो तीन महीने में हालत ये हो गयी कि मैं अक्सर दिन में भी माली, दूधवाले, सब्ज़ीवाले से भी चुदवाने लगी। यहाँ तक कि कोरियर वाले या किसी सेल्समैन से चुदवाने से भी बाज़ नहीं आती।

चुदवाते चुदवाते मै चुदाई की मशीन बन गयी -5

इस दौरान मैं जिम्मी को तो भूल ही गयी थी लेकिन उसकी मस्ती भरी कराहें मेरे कानों में पड़ी तो मैंने देखा कि उसका लंड स्टील के रॉड की तरह सख्त था और उसका फुला हुआ काला सुपाड़ा बहुत ही भयानक लग रहा था।

नैना गोयल और उसकी ननद

बात आज से करीब डेढ़ साल पहले गर्मीयों की है सुबह के करीब 04:30 बजे मैं शालू, शांती, मोनीका और शीखा बेड पर नंगे ही सो रहे थे और अक्सर घर में एकदम नंगे ही रहते थे अगर कीसी ने अपने बदन पर एक भी कपडा पहना तो 500 रुपये जुरमाना होता था |