Category: सामूहिक चुदाई

दो से अधिक स्त्री पुरुषों लड़के लड़कियों के एक साथ मिल कर एक स्थान पर सामूहिक चुदाई या सेक्स का मजा लेने की कहानियाँ

Do se jyada ladke ladkiyon ke ek sath mil kar chut chudai ki kahaniyan

Sex Stories about Group Sex among many girls and boys or couples

एक साथ दो चुत की चुदाई

एक साथ दो चुत की चुदाई नंदिनी ने शीतल से कहा की रात में ध्यान से सोना, बेचू रात को नींद मैं भी चुदाई कर सकता है, कोई भरोसा नहीं. शीतल मन ही मन सोचने लगी की चुदाई के लिए, अगर लंड आ रहा है तो वो रोकेगी नहीं. अगली रात, सब सो गये.

भाभी और बहन एक ही बिस्तर पर साथ मे चुदी

भाभी और बहन एक ही बिस्तर पर साथ मे चुदी नंदिनी काफी उत्तेजित थी और उसकी बुर तो मुझे सुलगती सी महसूस हो रही थी, शायद वो स्खलित होने की कगार पर पहुंच गई थी क्योंकि अब वो खुद ही अपनी कमर को हिलाकर अपनी बुर को मेरे लिंग पर घिसने लगी थी, शायद वो जल्दी से चरम पर पहुँचना चाहती थी

मेरे दोस्त के साथ ग्रुप मे आइटम को चोदा

मैंने उसके सारे कपड़े खोल दिए मैने उसके दोनों पैरों को चौडा करते हुए अपने लंड को डाल दिया। मैंने उसे बड़ी ही तेज गति से धक्के मारने शुरू कर दिए जिससे कि मुझे बहुत आनंद आने लगा वह मेरा पूरा साथ देने लगी। मैं जब उसे झटके देता तो उसके मुंह से आवाज निकल जाती। उसे बड़ा मजा आता मैंने उसे अपने ऊपर लेटा दिया और मैं उसे झटके देने लगा तभी पीछे से रणदीप आया उसने उस लड़की के मुंह में अपना लंड डाल दिया। वह उसका लंड बहुत ही अच्छे से चूस रही थी

नई चुत और लंड के स्वाद का चस्का

सुशील ने पीछे से अपना लिंग मेरी चूत में डाल दिया और विशाल आगे से डालने लगा पर सुशील के बड़े और मोटे लिंग के कारण नहीं जा सकता था। सुशील ने अपना काम चालू कर दिया, विशाल चुपचाप उठा और मुँह में लग गया। मुझे फिर से जोश चढ़ने लगा और सोचने लगी- काश अनिल इन दोनों को मुझे चोदने की इजाजत दे दे तो क्या मजा आये ! अनिल के सामने इनसे चुदती रहूँ रोज ! क्यूंकि अगर अनिल के सामने नहीं चुदूँ तो कभी -कभी ही मौका मिल सकता था

दीदी के साथ अपनी भी चुत चुदवा ली

उनके सामने पूरी नंगी थी और अपने बूब्स को अपने हाथों से छुपाने की कोशिश करने लगी, अब वो जबरदस्ती करते हुए मेरे गोरे गोरे बूब्स को अब कुत्ते की तरह चूसने लगे, वो उन पर टूट पड़े और बिल्कुल पागल हो चुके थे, लेकिन दोस्तों मुझे तो कैसे भी करके अब उनका लंड देखना था, इसलिए मैंने अपनी तरफ से बिल्कुल विरोध को बंद करके उनकी टेंट बनी हुई पेंट को पकड़ लिया और मैंने उनके लंड को बिना देर किए जल्दी से बाहर निकाल लिया, अब जीजाजी और में हम दोनों पूरे नंगे होकर खड़े थे

दोनों बहन की एक साथ ही सील टूटी

हम तीनो चले आए और मेरे बड़ी बेहन मुझे चोदने के लिए सजवाने गयी और वो एक पिंक कलर की ब्रा और पिंक कलर की पैंटी पहन के आ गई अपनी नोस पे नोस रिंग लागाय थी. ऐसे लग रही थी जैसे कोई धन्दे वाली हो फिर मेरे छोटी बेहन उसकी चूत पकड़ी और चाटने लगी मेरे बड़ी बेहन सिसकियाने लगी उउउहह…..ह….उउउहह कोँम्म्ममममममों हीट मी हार्ड तभी मैने अपनी बेहन को किस देना शुरू किया

गरीब औरत और मुझे एक साथ पति ने चोदा

मेरे अंदर की सेक्स भावना भी जागृत हो गई। वह उसे बड़े ही अच्छे तरीके से चोद रहे थे जिससे कि मेरा मन भी होने लगा कि मैं भी अपनी चूत उनसे मारवाऊ। मैंने जैसे ही दरवाजा खोला तो उन्होंने उस औरत के पैरो को अपने कंधे पर रखा था और उसे धक्के मार रहे थे। मैंने उन्हें कहा कोई बात नहीं तुम अपना कार्यक्रम जारी रखो वह ऐसे ही उसे झटके मार रहे थे और वह बड़ी तेज चिख रही थी जब उनका वीर्य गिर गया तो वह मुझे कहने लगे तुम्हें क्या हो गया है

बहन और माँ मिल बनवाती ब्लू फिल्म

एफ की थीम बनाई नितिन और जयेश का काम चोदने का था और हमारा 4 दोस्त वीडियो बना रहा था बीएफ इसतरह चालू हुई की हम तीन दोस्त एक कोठे मे जाते है मेरी मा जो दलाली कार्री थी और उनकी गॅंड दबाते हुए मालो के बारे मे पूछती है. फिर वो पैसे मांगती है और हम पैसे देके अंदर हॉल मे जाते है वाहपे मैं अलका के साथ बाकी दो स्ट्रीट आपस मे बहाने बाट लेते है फिर हम तीनो मेरी बहनो की पैंट उतरके उनके चड्डिया फाड़ देते है

रोजाना रात में लेते थ्रीसम सेक्स का मजा

हम तीनो रोज रात को चुदाई किया करते थे | फिर एक दिन मेरे साथ वाला चौकीदार नहीं सोया था और मुझे या लगा था की वो सो रहा है | मैं फिर उन के कमरे गया और हम तीनो ने चुदाई करना शुरू कर दी फिर एक दम से दरवाजे पर दस्तक हुई और हम तीनो डर गए | और जैसे ही दरवाजा खोला तो देखा कि रामलाल और मालकिन दोनों खड़े हैं | फिर क्या था मुझे नौकरी से लात मार कर निकाल दिया गया और मैं फिर बेरोगार हो गया था मेरे साथ साथ उन दोनों लड़कियों को भी निकाल दिया गया था

सहेली के साथ मिल जिगोलो सर्विस का मजा ली

वह मेरी चूतड़ों को पकड़कर धक्के मार रहा था। यह सब मुझे ऐसा लग रहा था मानो जो मेरे पति नहीं कर पाए हो वह रोहित कर रहा है। वह बड़ी तेजी से झटके मारता और मेरे चतडो को हिला कर रख देता मैं भी अपने चूतड़ों को उसकी तरफ करती जा रही थी। ऐसा हम दोनों ने काफी देर तक किया मेरा अब झड़ने को हो गया था। मैं तो ऐसे ही घोड़ी बनी रही और रोहित धक्के मारे जा रहा था