Category: पड़ोसी

घर के पास रहने वाली पड़ोसी जवान भाभी, लड़की, लड़के आन्टी, अंकल को पटा कर उनकी आपस में चूत चुदाई की कहानियाँ
Pados me rahane vali jawan bhabhi, ladki, aunti uncle ki aaps me chut chudai ki kahaniyan
Fuddi choda-chudai sex with neighbor Bhabhi, aunti, girl

कच्ची कली देसी भाभी की चुत भर माँ बनाया

मैंने अपने हाथ बढ़ाकर उनके बूब्स पर रखे और उन्हें दबोच लिया. अब शायद वो भी यही चाहती थी इसलिए उसने कुछ नहीं बोला. फिर मेरी हिम्मत बढ़ी और उनको पलटकर उनके होंठो को अपने होंठो में ले लिया, तो वो कसमसाने लगी, तो मैंने अपना एक हाथ उनकी साड़ी में डाल दिया और उनकी पेंटी में डालने लगा

नयी नवेली दुल्हन की लोगो से चुदने की चाह

उसने मेरा पूरा का पूरा लंड धीरे धीरे करके अपने मुहं में ले लिया और तभी में उसके इस काम को करते हुए देखकर तुरंत समझ चुका था कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं था कि वो पहली बार किसी का लंड चूस रही है, क्योंकि मैंने ध्यान से देखा कि उसने लंड को अपने मुहं में लेने के लिए कोई भी संकोच किसी भी तरह का डर उसके चेहरे पर मुझे दिखाई नहीं दे रहा था वो तो बड़े मज़े से इस काम को करने जा रही थी.

पड़ोस की साली के साथ सेक्सी घटना

सर पकड़ के उसके मुँह में लंड अन्दर बाहर करने लगा. वो उसके बालों को जोर जोर से ऊपर खींच कर लंड को और अन्दर डालने लगा. श्रेया के मुँह में जोर जोर से धक्के देने लगा. रशीद का लंड श्रेया के मुँह में अन्दर तक चला गया. उसके लंड की टोपी पूरी पीछे करके सुपारा श्रेया के दांतों पे जुबान पे रगड़ने लगा. मेरे बालों को नोंचने और खींचने के बाद दोनों गाल बाहर से पकड़ कर लंड पर पकड़ जमा ली

नौकरानी ने मुझे चुदाई मे एक्स्पर्ट बनाया

मैं भी कुतिया, रंडी, साली, रंडी की औलाद, तेरी भोंसरी की मारूँ, लोंडी बकता हुआ हसीना को चोदने में लगा हुआ था। 5 मिनट की चुदाई के बाद मैं निढाल होकर लेट गया, हसीना भी मुझसे चिपक गई। चिपके चिपके हम एक दूसरे की चूची, चूत चुचकों और लण्ड से खेल रहे थे।

मेरा बचपन जवानी मे बदल गया

उन्होंने अपनी पैंट खोलकर अपने नूनू को दिखाया जो मोटा और बड़ा था तथा उसपर दाँत के निशान थे। मैंने डर कर उनसे कहा कि आपको मैंने जानबूझकर वहाँ नहीं कटा है। मैं गुदगुदी से बचने के लिए झुकी थी। जब आप गुदगुदी से रोकने पर नही माने तो मैंने झुके झुके ही काट लिया।

बुब्स और गांड के ऊपर मुठ मारा

मुझे लगता है कि तुम्हारे लंड खाने के बाद अब मेरी चूत कभी भी उनका लंड खाना पसंद नहीं करेगी, क्योंकि तुम्हारे लंड से मेरी चूत अब पूरी फैल जाएगी और मेरी इस चूत में उनका पतला और छोटा लंड ढीला ढीला अंदर जाएगा, जिसकी वजह से कम से कम मुझे मज़ा नहीं आएगा। अब मैंने उनसे पूछा कि भाभी आप मुझे अब एकदम सही सही बताना तुमने शादी के पहले भी किसी लंड को अपनी चूत में लिया है कि नहीं?

मोहल्ले की भाभी की चूत का स्वाद जमकर चखा

मेरे सभी मस्ताराम के प्यारे पाठकों को प्यार भरा नमस्कार ! प्रिय पाठकों यह मेरी सच्ची घटना है जो कि आज से 4 दिन पहले यानी कि 15 दिसंबर को मेरे साथ घटी दोस्तों सबसे पहले मैं आपको अपना परिचय दे देता हूं | मैं अपना नाम आपको कहानी में नहीं बता सकता क्योंकि ..

पहली बार सेक्स अमित को पटाके हुआ

उसने मेरे स्तनों को अपने मुंह में लेकर चूसा जिससे कि मेरी उत्तेजना भी पूरी चरम सीमा पर पहुंच चुकी थी और मुझे भी बहुत मजा आने लगा। जैसे ही उसने मेरी नरम और मुलायम चूत पर अपनी जीभ को लगाया तो मेरा पानी पूरा बाहर की तरफ आने लगा था और वह मेरे पानी को अपनी जीभ से चाट लेता। काफी देर तक उसने ऐसा ही किया लेकिन हम दोनो से बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं हो रहा था

चुचो को पड़ोसी लड़के से चुसवाया

काफी देर तक मेरे चूचो को चूसा उसके बाद उसने मेरी सलवार को उतार दिया और श्रीराम ने जैसे ही मेरी नरम और मुलायम पर अपनी जीभ को लगाया तो मुझे बहुत अच्छा लगा और मैंने मचलने लगी थी। मेरी योनि से तरल पदार्थ निकल लगा कुछ देर तक श्रीराम ने मेरी योनि को चाटा। जब श्रीराम ने अपने मोटे लंड को मेरी चूत पर टच किया तो मुझे एक अलग ही प्रकार की फीलिंग आने लगी

पड़ोसन भाभी के मोटे मोटे चूतड़ो की चुदाई

भाभी की चूत टाइट हो रही थी। मैंने हल्का सा धक्का दिया तो भाभी की चीख निकल गई और भाभी ने कहा- आराम से डालो ! क्या जल्दी है तुमको? सारी रात पड़ी है। मैंने कहा- भाभी, अब आराम से डालूँगा। फिर मैंने हल्के हल्के झटके लगाने शुरु कर दिये। मेरे धक्कों से भाभी को मज़ा आ रहा था।