भाभी की मोसमी चुत की मस्त कुटाई

हाय! दोस्तो मेरा नाम संजय है, मैं पानीपत से हूँ और मेरी एज 28 साल है. मेरी हिगत 5’10” है और लंड का साइज़ 6″ है और मैं वाइल्ड सेक्स मे बिलीव करता हूँ. मुझे सकिंग मे बहुत इंटेरेस्ट है और मैं लास्ट कई सालो से इसकी कहानिया पढ़ रहा हूँ। इस कहानी को पढ़ने के बाद मुझे लगा, कुछ लोग शेर नही कर पाते कुछ शेर कर देते है, तो सोचा मैं अपनी भी रियल स्टोरी शेर कर दू.

ये 2006 की बात है. मेरे कज़िन भाई की शादी को दो साल हुए थे, मैं उनके घर आता जाता रहता था, तो एक दिन भाभी घर मे अकेली थी भाई अपनी शॉप पे थे, वैसे तो बहुत बार हम अकेले घर मे रहते थे पर उस दिन भाभी को पता नही क्या हुआ बातो बातो मे वो मेरी गर्लफ्रेंड के बारे मे पूछने लगी, तो मैं उनको बताने लगा. अरे भाभी के बारे मे तो आप लोगो को बताया ही नही. भाभी का नाम सीमा है और वो 5’6″ की मस्त गदराई हुई गोरी पटाखा है, उनके बूब्स का साइज़ 34″ कमर 30″ और गॅंड 35″ की है, तो मैं उन्हे ऐसे ही बताने लगा की मेरी गर्लफ्रेंड मस्त है हम खूब मस्ती करते है.

भाभी – क्या क्या मस्ती करते हो आप लोग.

मैं – वही जो आप और भाई नाइट मे करते हो.

भाभी – हम तो कुछ नही करते सोते है.

मैं – क्यो भाई आपके साथ कुछ नही करते?

भाभी – नही, वो आते है कुछ बाते कर के सो जाते है, हान शुरू मे थोड़ा बहुत सेक्स कर लिया करते थे.

ऐसा बोल कर भाभी ने अपना पल्लू नीचे कर दिया जिससे मुझे उनकी मोटी मोटी मखमली चुचियों के दर्शन हो गये. भाभी के मूह से सेक्स वर्ड सुनकर मेरा मन खराब होने लगा, तो मैने आगे बात बढ़ने के लिए अपनी गर्लफ्रेंड की स्टोरी स्टार्ट करदी की मैं उसके बूब्स प्रेस करता हूँ, लिप्स पे किस करता हूँ और उसके बूब्स को खूब जम कर चूस्ता हूँ और वो भी मेरा पूरा साथ देती है, इतना सुनकर भाभी गरम होने लगी और बोलने लगी की, कुछ हमे भी कर के दिखाओ तो जाने.

मैं तो पहले ही तैइय्यार था मेरा लंड भी अब मेरी जीन्स मे टाइट होने लगा था. भाभी ने मेरे लंड पे हाथ रख दिया और बोली इसे बड़ी जल्दी हो रही है.

मैने बोला – जब आप जैसा माल सामने हो तो ये तो बेचैन होगा ही.

इतना बोल कर मैने भाभी को बाहों मे भर लिया और कुछ देर उनके गदराए हुए बदन को फील करने के बाद मैं उनके चुतडो पे हाथ फेरने लगा, मस्त गोलमटोल चूतड़ थे मज़ा आ गया. फिर मैने अपने होट उनके नरम और रसीले होंठों पे रख कर उन्हे चूसना स्टार्ट कर दिया, तो भाभी ने नीचे से अपनी चुत मेरे लंड पे रगड़नी स्टार्ट करदी, वो भी पूरा मज़ा ले रही थी, मेरा एक हाथ उनके बालो मे था ओर एक हाथ भाभी की गॅंड पे. 10 मिनिट के इस स्मूच के बाद भाभी पूरी तरह लाल और गरम हो गई और बोलने लगी की तूने तो मुझे पागल कर दिया है.

मैं बोला – अभी देखती जाओ आज मस्त मज़ा दिलाउन्गा.

फिर मैने भाभी की साड़ी उतार दी और ब्लाउस के हुक खोल दिए. भाभी अब पेटिकोट और नेट की रेड ब्रा मे मस्त माल लग रही थी. फिर मैने पेटिकोट भी उतार दिया भाभी ने अपनी चुत को नेट की रेड पैंटी से कवर किया हुआ था जो एक दम फूली हुई चिकनी और काम रस लबालब से थी. मैं तो उसे देखता ही रह गया क्या चुत थी एक दम रस से भरी हुई बीच मे से थोड़ी सी खुली हुई गूँझिया जैसी. फिर मैं नीचे घुटनो के बल बैठ गया और पैंटी के उपर से ही उसकी चुत को हाथ से मसला और पैंटी को निकाल कर उसकी चुत को चूसने और चाटने लगा, भाभी के हाथ मेरे सर पे घूमने लगे और वो सिसकरने लगी.

थोड़ी देर मे वो मोन करने लगी आआहह एम्म उूुुउउ आअहह मज़ा आ रहा है और अपनी एक टाँग उठा कर मेरे जाँघ पर रखदि और फिर वो अकड़ कर बरस गई. मैने उठ कर उनकी ब्रा उतार दी, क्या मस्त गुलाबी निप्पल्स थे. मैने एक चुचि को मूह मे भर कर चूसना चालू कर दिया और भाभी ने मेरे सारे कपड़े निकाल दिए और मेरे लंड को सहलाने लगी.

मैं बदल बदल कर उनकी चुचियों को चूसने लगा. भाभी फिर से गरम हो गई और बेड के नीचे बैठ कर मेरा लंड चूसने लगी और बोलने लगी की तेरा लंड तो तेरे भैया से भी बड़ा है, आज तो मज़ा आ जाएगा. फिर मैने उनके बेड पर लेट गया और वो मेरे उपर आ गई और मेरे लंड को पकड़ कर चुत के मूह पर टीकाया और धीरे धीरे बैठने लगी. मस्ती के मारे मेरा बुरा हाल हो गया और फिर भाभी ने स्पीड से उछाल कूद मचा दी. 10 मिनिट बाद भाभी बोली मेरा होने वाला है अब आप उपर आ जाओ.

अब भाभी मेरे नीचे थी और मैं उपर से उनकी चुत का बाजा बजाने लगा और बूब्स को भी चूसने लगा. 10 मिनट बाद हम दोनो एक साथ झड़ गये और मेरा सारा माल भाभी ने अपनी चुत मे समेट लिया. मैं ऐसे ही थोड़ी देर तक उनके उपर लेटा रहा और फिर हम बाथरूम मे फ्रेश होने के लिए साथ मे गये. भाभी की तो चाल ही बदल गई.

मैने कहा – क्या बात है भाभी जी आपकी तो चाल ही बदल गई.

भाभी बोली – आज पहली बार तुमने मुझे रज रज के चोदा है तो चाल तो बदलेगी ही.

फिर हमने एक दूसरे को सॉफ किया पर मेरा लंड फिर से टाइट हो गया, तो भाभी बोली अभी तो आधा घंटा इसने मेरी चुत की कुटाई की है ये फिर से तैयार हो गया.

मैने बोला – जब ऐसी रसीली चुत हो तो ये तो डुबकी बार बार लगाने का मन करता ही है इसे क्यो दोष दे रही हो.

भाभी ने फिर से मेरे लंड को मूह मे लेकर चुस्किया लेना स्टार्ट कर दिया. 10 मिनिट बाद मैने कॅमोड पर बैठ गया और भाभी दोनो टांगे चौड़ी करके मेरे लंड को अपनी चुत मे लेने लगी और मैं भाभी की चुचियों को चूसने लगा. भाभी मस्ती मे अपनी गॅंड को मेरे लंड पर नचा रही थी और आआ अह्ह्ह्ह कर रही थी. थोड़ी देर धीरे धीरे करने के बाद उन्होने मेरे कंधो पर हाथ रख कर जबरदस्त चुदाइ चालू कर दी.

10 मिनिट बाद वो झड़ गई और फिर मैने उनके हाथ केमोड पर रखकर उन्हे कुत्तिया बनाया और पीछे से उनकी चुत मे लंड डाल कर चुदाई चालू कर दी, सच बताउ दोस्तो डॉगी स्टाइल मे चुत मारने का मज़ा ही कुछ और है. फिर हम दोनो एक साथ डिसचार्ज हो गये. कैसे उन्होने मुझसे गॅंड मरवाई वो आगे की कहानी मे तब तक के लिए मेरे खड़े लॅंड का सलाम. थॅंक्स और कोई भाभी या गर्ल मज़ा करना चाहती है, तो मेरी मैल आईडी है कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके