बीवी की बुर देख लंड उठने लगता

हाय दोस्तो, मैं नीलेश, मेरी पहली कहानी आज मैं अपनी चुदाई की एक और घटना लेकर आया हूँ. शायद ये चुदाई का किस्सा आपको पसंद आ जाए. हमने मेरा 46 वां जन्मदिन कैसे मनाया, इसकी कहानी लिख रहा हूँ.

जब हमारी शादी हुई थी तब मेरी बीवी को चुदाई कैसे करते हैं, ये मालूम ही नहीं था. लेकिन आज वो पूरी चुदक्कड़ और चुदाई में एक्सपर्ट हो गई है.

सालगिरह वाले दिन मेरी बीवी ने कहा कि आज हम दोनों ये सालगिरह कुछ अलग तरीके से मनाएंगे.
मैंने पूछा- कैसे?
उसने कुछ नहीं कहा.

बहुत पूछने पर भी उसने नहीं बताया कि वो क्या करने वाली है. शाम को हमने केक काटा, सालगिरह को मनाया. हम सबने केक खाया, खाना खाने के बाद कुछ देर हंसी मजाक चलता रहा. फिर बाहर के सब लोगों के जाने के बाद हम दोनों भी सोने के लिए चल दिए.

मैं हर रोज की तरह कपड़े निकाल कर नंगा सो गया. सोते समय मैंने लाईट बंद करके नाईट लैम्प चालू कर दिया. सब काम निपटा कर मेरी बीवी भी सोने के लिए आ गई. लेकिन उसने आते ही लाईट को चालू कर दिया. मैक्सी निकाल कर नंगी हो गई और आकर मुझे कसकर लिपट गई. उसने मेरे होंठ अपने होंठों में लेकर चूसने लगी. मैं भी उसके होंठ अपने होंठों में लेकर चुसाई करने लगा. पांच मिनट तक हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूसते रहे. मेरी बीवी होंठ चूसना छोड़कर खड़ी हो गई और उसने टेबल के नीचे से केक निकाला. जो उसने पहले ही उधर रखा हुआ था.

मैंने उससे पूछा- जानेमन, बताओ भी क्या करने का इरादा है?
बोली- बस देखते जाओ.

बीवी ने मुझे मोबाईल लेने के लिए कहा. मैंने मोबाइल ले लिया, उसने मुझसे मोबाईल का वीडियो कैमरा चालू करने के लिए कहा तो मैंने वीडियो कैमरा चालू कर दिया. अब वो केक लेकर मेरे दोनों पैरों के बीच में बैठ गई, उसके मोटे मोटे मम्मे मेरे सामने झूल रहे थे, उंगली से केक की क्रीम को मेरे लंड और आंडों पर लगाने लगी. मैं ये सब देखते हुए शूटिंग कर रहा था. उसने मेरे लंड और आंडों को क्रीम से भर कर बाकी का केक बाजू में रख दिया. मेरा लंड कब से खड़ा होकर झटके दे रहा था.

अब मेरी बीवी लंड पर झुक कर लंड पर लगी क्रीम चाटने लगी. इधर मेरी हालत खराब हुई जा रही थी, कभी वो मेरे लंड को चाटती, तो कभी आंडों को चाटती. बारी बारी से वो लंड और आंडों को चाटकर क्रीम खाने लगी. कभी कभी वो दोनों आंडों को अपने मुँह में भर लेती और क्रीम चाट लेती.

दस मिनट तक वो लंड पर लगी क्रीम चाटती रही. उसका चेहरा खुशी से चमक रहा था. लंड चाटते चाटते उसने सारी क्रीम चाटकर मेरे लंड और आंडों को साफ कर दिया.

अब वो उठकर खड़ी हो गई. उसने मेरी कमर के दोनों बाजू अपने दोनों पैर रख दिए और बैठ गई. फिर उसने अपनी मोटी गांड को थोड़ा सा उठाया, मेरा लंड अपनी मुठ्ठी में पकड़कर अपनी चुत पर सैट किया और उस पर बैठ गई. मेरे लंड का अगला हिस्सा मेरी प्यारी बीवी की चुत में घुस गया. अब उसने अपने हाथ मेरे सीने पे रख दिए और अपनी चुत को मेरे लंड पर दबाने लगी. पहले से ही उसकी चुत पानी छोड़ चुकी थी, इसलिए मेरा मोटा लंड बिना किसी रूकावट उसकी चुत में घुसता चला गया. अब वो अपनी गांड ऊपर नीचे हिलाकर मेरा लंड अपनी चुत में अन्दर बाहर करने लगी. उसके मुँह से अलग अलग आवाज निकलने लगी थी.

“अह… सी… ऊई… माँ आज मजा आ गया और चोदूँगी… आह… नहीं छोडूँगी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह…”
वो मेरा लंड चुत से पूरा बाहर निकाल कर सिर्फ सुपारा अन्दर रहने देती, फिर झटके से लंड पूरा चुत में घुसा लेती. दस मिनट तक वो मुझे चोदती रही.
अब वो जोर से चिल्लाने लगी- आहा ऊई… मुझे… कुछ हो रहा है…
यह कह कर वो जोर जोर से लंड को अपनी चूत में अन्दर बाहर करने लगी. उसके चोदने से चुत से ‘खच खच पच पचाक…’ की आवाज आ रही थी.

फिर उसने अपनी चुत मेरे लंड पर जोर से दबाया, मेरा लंड मेरे बीवी के चुत में जड़ तक घुस गया. उसने उसी पल अपना मुँह ऊपर उठाकर मुँह खोला और आवाज निकाली- आ… आ…हा… ओह… अम… गई…

फिर वो मेरे सीने पर गिर गई, गिरते ही वो तीन बार थरथराई. उसकी चुत से रस निकल कर मेरे लंड से बहकर आंडों पर आ गया था. पांच मिनट तक मेरी बीवी मेरे ऊपर सोई रही. मेरा लंड अब भी मेरी बीवी की चुत में खड़ा हुआ था. पांच मिनट के बाद वो थोड़ा नार्मल हो गई. उठते ही बीवी मुझसे कस कर लिपट गई और मेरे पूरे चेहरे को चूमने लगी. वो बहुत खुश हो गई थी.

फिर वो उठकर घुटनों के बल होकर, अपना सर छाती बिस्तर पर रखकर झुक गई. मैंने भी देर न करते हुए कैमरा को कुछ ऐसे सैट किया कि फिल्म बनती रहे. मैं उसके दोनों पैरों के बीच घुटनों पर खड़ा हो गया. अपना एक पैर बीच में रखकर दूसरा पैर उसकी कमर के बाजू में रख दिया. मैंने अपने हाथ से अपना लंड पकड़ कर बीवी की चुत के मुँह पर रखकर धक्का मारा. उसकी चुत गीली होने के कारण मेरा लंड एक ही झटके में चुत में जड़ तक घुस गया.

अब मैं अपने दोनों हाथ उसके दोनों चूतड़ों पर रखकर मेरी प्यारी बीवी की चुत चोदने लगा. मेरा लंड उसकी चुत में जड़ तक ठोकर मार रहा था. मेरे हर धक्के पर मेरी बीवी मुँह से मादक आवाज निकाल कर जवाब देती थी, वो कहती थी- आह… चोदो मेरी चुत को जोर से चोदो… चोदकर चुत में से सब पानी निकाल दो… आह… मजा आ रहा है.

कुछ देर धकापेल चुदाई के बाद अब मेरा वीर्य भी छूटने वाला था. तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी. मेरा लंड प्यारी बीवी की चुत में जोर से अन्दर बाहर हो रहा था. मेरा वीर्य छूटने का वक्त आ गया था. मैंने एक तेज प्रहार किया और अपना लंड मेरी प्यारी बीवी की चुत में जड़ तक घुसा दिया.

मेरी बीवी बोल रही थी- आह… घुसा दो तुम अपना मोटा लंड… मेरी चुत में अन्दर तक दबाओ… और दबाओ…

मैंने अपनी बीवी की चौड़ी गांड पकड़ कर अपना लंड उसकी चुत में जड़ घुसा दिया और उसी वक्त मेरे लंड से वीर्य की धार निकल कर चुत में गिर गई.

अपना लंड बीवी के चुत में वैसे ही रखकर मैं अपनी प्यारी बीवी की पीठ पर सो गया. दो तीन मिनट बाद लंड चुत से बाहर आ गया. फिर मैं उठकर बिस्तर पर लेट गया. मेरी प्यारी बीवी मुझसे लिपट कर सो गई और हमें कब नींद लगी, हमको पता भी नहीं चला.

हम दोनों घनघोर चुदाई के बाद नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर सो गए. इस चुदाई का वीडियो आज भी हमारे पास है. जब भी हमारा दिल करता है, तो हम दोनों ये वीडियो देखते हैं. यह हमारी सच्ची कहानी है, कोई कल्पित कहानी नहीं है.

आशा करता हूँ, आपको कहानी पसंद आई होगी.