दो लड़कियो की चुत की धज्जिया उड़ा डाला

हाई मैं पारुल उमर 17 रंग गोरा चुचि गोल,फिगर 34 30 32,खास मेरे चुतताड की गोलाई और मेरे पिंक निपल लड़के देख कर पागल हो जाते है मुझे सेक्स बहुत पसंद है सखत सेक्स,चुदवाते वक़्त गालिया सुन-ना मुझे पसंद है. मैं एक बार अपने मामा के घर गयी मामा विलेज मे रहते है उनकी लड़की है हर्षिता मेरी उमर की चंचल लड़की, उसकी चुचि मुझसे बड़ी फिगर होगी कोई 36 30 34 गोरी चित्ति हम आपस मे बाते कर रही थी बाते सेक्स पर आ गयी मैने हर्षिता की चुचि पर हाथ फेरा और बोली हर्षिता ये तो बहुत बड़ी है वो शर्मा गयी, शाम को हम गाओं मे घूमने निकली तो मुझे उसकी बड़ी चुचिओ का राज पता लग गया हम जिस भी गली से जाते उस पर कॉमेंट होते मेरी छेमिया मेरी जान एट्सेटरा हम जब घर आए तो मैने पूछा ये क्या था पहले तो वो टालती रही पर जब मैने कहा कि मैं भी मज़े लेना चाहती हू तो वो खुल गयी.
उसने बताया यहा तो जब मैं 15 साल की थी तब से ही मज़े कर रही है फिर तो हम स्टार्ट हो गयी मैने पूछा कैसे करती हो तो वो बोली रात को बताउन्गी वो बोली यहा तो लगभग हर लड़की 15 साल की उमर मे चुद जाती है मुझे बड़ी जलन हुई उस से, वो बताती रही कि लड़के जब लड़की को चोद्ते है है तो बहुत तंग करते है कई बार तो मार भी देते है मैं बोली मेरी चूत को लंड मिलेगा वो बोली तुम्हारे उप्पर तो टूट के पड़ेंगे आज रात को ही तेरा कल्याण हो जाएगा पर तू सह तो लेगी मैं बोली यार चिंता मत कर.

रात तक हम एक दूसरे को छेड़ते रहे रात को 9 के करीब हम रूम मे गये मैने हर्षिता के कपड़े उतारने शुरू कर दिए उसे पूरी नंगी करके मैने उसकी कूची पर हाथ फेरा और उस-से पूछा हर्षिता तेरी इस चूत का उद्धाटन किसके लंड से हुआ था वो बोली पापा के दोस्त है उन्होने ही मेरी सील तोड़ी थी, अंकल ने मम्मी की चुदाई भी की हुई है और आज अंकल और उसके दोस्त तेरी चूत का कल्याण करेगे मैं बोली उनका लॉडा कैसा है, हर्षिता बोली जान चिंता मत कर तेरी चूत की तो धज्जिया उड़ा देंगे हमारी बातो मे 10 के करीब टाइम हो गया मैं बोली कब उड़े गी चूत की धहाज़िया उसने खिड़की खोली और मुझे बोली नीचे कूद जा मैं नीचे कूदी पीछे पीछे चादर लपेटे वो कूद गयी अब हम दोनो खेत मे खड़े थे वो बोली चल मैं उसके पीछे चल पड़ी थोड़ी दूर ही खेत मे एक मकान था हम दोनो उसमे घुस गयी.

वाहा आँगन मे तीन 40-45 साल के आदमी ताश खेल रहे थे मुझे डर सा लगा वो तीनो कछे और बनियान मे थे उनमे से एक बोला आ गयी छेमिया, ये कॉन है मेरी तरफ देखते हुए बोले, हर्षिता बोली शहर से आई है मेरी बुआ की लड़की अपनी चूत की धज़िया उड़वाने, वो बोले अरे ये तो बिम्ला की लड़की लगती है अपनी मम्मी का नाम सुन कर मैं हैरान हो गयी मैं बोली तुम कैसे जानते हो मम्मी को वो बोला तेरी मा यहा बहुत चुदी है आज तो हमारी किस्मत खुल गयी जवानी मे मा को चोदा अब लड़की को वाह,हर्षिता ने अपनी चादर उतार दी अब वो पूरी नंगी थी.

हर्षिता बोली यार हमे तो चोद लो मम्मी को बाद मे चोद लेना, उन तीनो नई हम दोनो को अपनी और खींच लिया हम दोनो उनकी गोदी मे लेटी पड़ी थी मेरी कुर्त और पाजामी दो मिनिट मे ही मुझसे अलग हो गये वे तीनो(मैं तीनो के नाम लिख दू सुरेश,संतोष,रिपु) हमे बुरी तरह से चूसने लगे मसलने लगे मेरी चुचिओ पर गर्दन पर नीले मार्क्स बना दिए हम दोनो के मूह से.
आआआआआअऊऊऊ वॉववववववव एयाया वॉववववव ऊऊऊ ऊऊ आआआआ ऊऊऊऊऊऊओह निकल रही थी संतोष बोला साली अपनी मा से भी चिकनी पड़ी है तभी संतोष ने मुझे गोदी मे ही उल्टी कर दिया अब मेरे चुतताड संतोष की गोदी मे थे और मेरा मूह सुरेश के लंड के पास था सुरेश ने अपना कछा उतारा उसका 10″ लंबा.

लंड स्प्रिंग के तरह मेरे चेहरे से टकराया, उसके लंड देख कर मेरे होश उड़ गये संतोष ने मेर लेग्स खोल के मेरी चूत मे 2 उंगलिया डाली मैं चिहुक गयी वो बोला क्या हुआ, मैं बोली मैने नही चुदवाना ये तो मेरी चूत ही फाड़ देगा हर्षिता बोली क्यू बड़ा शौक चढ़ा था चूत की धहाज़िया उड़वाने का सुरेश बोला तू वैसे ही डर रही है हर्षिता तेरे से छ्होटी है फिर भी इससे रोज़ाना चुदवाति है 15 साल की उमर मे ही ये इसे अपनी चूत मे ले गयी थी मैने सुरेश का लोड्‍ा अपने हाथ मे पकड़ा उसका लंड लोहे से भी सखत था.

हर्षिता रिपु की गोदी मे बैठी थी रिपु हर्षिता की चुचिया चूस रहा था सुरेश मेरी गॅलो मेरे होंठो पर अपना मोटा लंड फिरा रहा था मेरे होठ सख्ती से बंद थे तभी संतोष ने मेरी गांद मे उंगली दे दी मेरा मूह खुला मूह खुलते ही सुरेश ने अपना लंड मेरे मूह मे सरका दिया सुरेश का लंड बड़ी मुश्किल से मेरे मूह मे आ रहा था पर उसने धक्के मार- मार के मूह मे जगह बना ली मैं धीरे धीरे उसका लंड चूसने लगी तभी संतोष ने मेरे को अपनी गोदी से नीचे पटक दिया और अपने कपड़े उतार कर मेरे सामने आ गया मैं उसका लंड देख कर फिर कांप गयी उसका लंड सुरेश से भी बड़ा और बीच मे से कुछ टेडा था वो अपना लुंड पूचकारता हुआ मेरे सामने खड़ा था.

मैं मन मे सोच रही थी आज मेरी खैर नही इतने मे मूज़े हर्षिता की चीख सुनाई दी आाआूऊ ऊऊऊऊ माआआआआअ ऊऊऊऊऊ धीरेयययययययी ऊऊऊऊऊऊओ माआआआआआ आआमम्म्ममममाआआआररर्र्र्र्र्रृिईईईईईईईईईई मैने उसकी तरफ उसकी दोनो टांगे हवा मे थी और रिपु अपना लंड उसकी चूत मे सरका रहा था मैं हर्षिता की तरफ देख रही थी सुरेश बोला उधर क्या देख रही है तेरा भी यही हॉल होना है मुझे भी मस्ती चढ़ि थी हर्षिता को देख कर पर मैं नाटक करती बोली, मैने नही चुदवाना तुमसे अपनी चूत नही फडवानी इतने मोटे मोटे लॉड मेरी चूत मे नही जा पाएगे.

हर्षिता चुद्ते हुए बोली साली तो यहा भजन करने आई है अभी तक शहर के लूलिओ से चुदवाइ होगी आज पता चलेगा गाओं का लंड क्या मस्ती देता है हर्षिता सुरेश को बोली अंकल इसे बड़ा शौक है अपनी चूत की धज़िया उड़वाने का आज इसकी चूत की धहाज़िया ही उड़ानी है मैं डर गयी मैं बोली हर्षिता क्या बोल रही है तू, पर सुरेश ने मेरे मूह से लंड निकाला लंड निकलते ही टक की आवाज़ आई.

सुरेश और संतोष मुझे खींच कर हर्षिता के पास ले गये हर्षिता की चूत मे रिपु का लंड सटा-सॅट आ जा रहा था उसकी चूत की दोनो किनारिया दूर तक अलग हुई पड़ी थी रिपु की स्पीड इतनी तेज़ थी कि बस लंड सिर्फ़ चमकता था मैं हर्षिता की चुदाई मे खो सी गयी मैं झुकी तो हुई थी संतोष ने मुझे थोड़ा और झुका दिया संतोष अंकल ने मेरी टांगे खुलवा कर अपना लंड मेरी चूत पर लगाया तो मैं चोकते हुए बोली अंकल अंदर मत करना हर्षिता बोली क्यू मैं बोली मुझे इनके मुड़े हुए लंड से डर लग रहा रहा है संतोष बोला ये मुड़ा हुआ लंड तेरी मा को बहुत पसंद है उसने मेरी कमर पकड़ के ज़ोर से धक्का मारा तो छ्होटा गुबारा फटने की आवाज़ आई और लंड चूत को फाड़ता हुआ अंदर चला गया मेरे मूह से भयनकर चीख निकली.

आआआआआहह ऊऊऊऊ ऊओ मर गई ईईइ उउईईईईईईईईईई माआआआआ ऊऊऊओ माआआआआ फत्त्तटटटटतत्त गैिईईईईईईईईईईई ऊऊऊऊऊऊऊ आआआअ हहूओ ऊऊहह हमाआआआआ आआआआ बाहर निकालो प्ल्ज़ बहुत दर्द हो रहा है हर्षिता बोली साली दो मिनिट रुक जा तू ही बोलेगी और अंदर डालो, संतोष ने धीरे धीरे धक्के लगाने स्टार्ट किए मैं उउउउउआआअ कर रही थी संतोष बोला पारुल पूरा डाल दू हर्षिता बोली अभी इस हरंजड़ी के अपना पूरा लोड्‍ा अंदर नही डाला संतोष ने दुबारा धक्का मारा उसका लंड चुत को चीरता हुआ मेरी बच्चे दानी को टच करने लगा मैं चीखती रही पर संतोष ने स्पीड से धकके मारने शुरू कर दिए, उधर हर्षिता झड़ने वाली थी वो आंट-शॅंट बोल रही थी आआआ……राजा ज़ोर से चोदो अपनी रानी को मुझे चोद चोद के मार डालो रिपु भी झड़ने वाला था रिपु भी बोल रहा ले संभाल इसको अपनी चूत मे ले मैं आअ रहा हू आआआ मैं गया.
जैसे ही रिपु झाड़ा दो काम एक साथ हुए, रिपु ने अपना टपकता लंड मेरे मूह मे डाल दिया और सुरेश ने हर्षिता को अपने उप्पर खींच के हर्षिता की चूत मे लंड घुसा दिया मेरे मूह मे रिपु का लंड झाड़ रहा था उसके लंड से हर्षिता की चूत का स्वाद आ रहा था पूरी तरह झड़ने के बाद भी रिपु का लंड बड़ा दिख रहा था मैं लंड पकड़ कर बोली हर्षिता अपनी चूत मे इतना बड़ा लंड कैसे ले गयी, हर्षिता सुरेश के लंड पर बैठे थी सुरेश ने उसकी कमर मे हाथ डाल कर अपने उप्पर लिटा लिया हर्षिता की चुचिया संतोष की छाती से दब गयी और हर्षिता के चुतड बाहर को उभर आए सुरेश ने अपनी टांगे मोड़ के धक्के मार रहा था.
मैं हर्षिता की ओर देख रही थी तो संतोष ने मुझे उठाया और हर्षिता की चूत के पास ले आया वाहा मुझे कुत्ति की तरह झुका के पीछे से लंड दुबारा घुसा दिया मेरा मूह हर्षिता के चुतताड़ो की तरफ था रिपु ने मेरा मूह हर्षिता की गांद पर लगा दिया मैं हर्षिता की गांड चाटने लगी हर्षिता के मूह से सिसकारिया निकल रही थी मेरी जीब थोड़ी सी नीचे आई तो वो सुरेश के लंड को टच कर रही थी.
मैं सुरेश की गोलिया सहला रही थी तभी सुरेश ने लंड निकाला मैने उसे चूस के दुबारा हर्षिता की चूत मे डाल दिया मैं अपने चरम पर थी मैं संतोष को बोली अंकल तेज़ चोदो मुझे और हा सनडे को मम्मी आ रही है मैने मम्मी के साथ चुदना है संतोष बोला ये कैसे होगा मैं बोली मैं और मम्मी साथ मे चुद चुकी है हर्षिता बोली मैं भी बुआ के साथ चुड़ूँगी संतोष ने स्पीड बढ़ाते हुए कहा ठीक है मैं उुआअ कर रही तभी मेरा बदन कस गया और मैं निढाल सी पड़ गयी संतोष ने भी मेरी चूत मे पिचकारी मारनी स्टार्ट कर दी उधर हर्षिता और सुरेश झाड़ चुके थे सारी रात मैं और हर्षिता ऐसे ही चुद्ती रही.