महाराष्ट्रियन वहिनी को चोदने का मजा

मेंरा नाम विवेक शर्मा है, मैं मुंबई में दिवा का रहने वाला हूं. मैं इस वेबसाइट का बहुत बड़ा फैन हूं. मैं यहां की स्टोरी पिछले 8 साल से पढ़ रहा हूं. मेरी उम्र 28 साल है, आज मैं आपको मेरे साथ हुए एक रियल इंसिडेंट के बारे में बताने जा रहा हूं, यह मेरी पहली कहानी है. यह कहानी आज से ६ साल पहले की है जब मैं MBA  कर रहा था, और मैं २३ साल का था मैं. पुणे में MBA कर रहा था और हॉस्टल पर रहता था. मेरी एक सिस्टर है जो कि लोनावाला में रहती है. एक दिन मैं लोनावला से वापस पुणे आ रहा था लोकल ट्रेन से. दोपहर का वक्त था और मैंने लंच करके निकला था अपने सिस्टर के घर से. लोकल ट्रेन में मेरे बाजू में एक भाभी आकर बैठ गई. जैसे ही लोकल ट्रेन निकल पड़ी मुझे नींद आने लगी, और नींद में मैंने गलती से उस भाभी के कंधे पर सर रख दिया. तो उस भाभी को गुस्सा आ गया और उसने मुझे नींद में से उठाकर बोला ठीक से बैठने के लिए. मेरे आजू-बाजू बैठे हुए लोग भी मुझे घूर कर देखने लगे.

तब तक मैंने उस भाभी को ठीक से देखा भी नहीं था, मगर जब नींद से जागा तो मैंने उसे देखा वह मैरिड लेडी थी, जिसकी उम्र २४ साल थी, वह दिखने में काफी गोरी और सुंदर थी. जैसी ही हम पुणे में शिवाजी नगर स्टेशन पहुंचे, वह भाभी ट्रेन में से उतर गई और मैं भी उसके पीछे उतर गया.

मैंने उसे फॉर्मेलिटी के लिए आई एम सॉरी बोला, क्योंकि मैं उसके कंधे पर सर रख कर सो गया था. फिर उसने भी ओके बोल दिया मैंने उससे पूछा कि आपको कहां जाना है? तो उसने बोला कि उसे कात्रज एरिया में जाना है, तो मैंने भी बोला कि मैं भी उसी तरफ जा रहा हूं, तो फिर हमने कात्रज के लिए बस पकडी, बस में हम दोनों एक ही सीट पर बैठ गए.

मैं – आपका नाम क्या है और आप कहां रहती हो?

भाभी – मेरा नाम रचना है और मैं कात्रज में रहती हूं.

मैं – आपके हस्बैंड क्या करते हैं?

रचना – मेरा हस्बैंड के साथ डाइवोर्स हो चुका है.

मुझे अब लगने लगा था कि मेरा कोई चांस बन सकता है इसके साथ.

मैं – आप तो काफी यंग लगती है तो आपके पति ने क्यों डाइवोर्स दिया आपको?

रचना – मेरी शादी बहुत यंग एज में हो गई थी १८ साल की थी में और मुझे एक बेटी है जो ५ साल की है अभी. शादी के एक साल बाद ही मुझे बेटी हो गई थी और फिर मेरे हस्बैंड के अफेयर के बारे में मुझे पता चला, जिसकी वजह से हमारे बीच में बहुत झगड़े होने लगे और फाइनली हमारा डाइवोर्स हो गया.

मैं – तो आप अपने पेरेंट्स के साथ रहती हो?

रचना – नहीं, मैं और मेरी बेटी कात्रज में रहते हैं और पेरेंट्स कोथरुड में रहते हैं.

वह इतना कहकर उदास हो गई और अपना फेस दूसरी तरफ कर लिया, मुझे लगा मैंने बहुत ही पर्सनल क्वेश्चन पूछ लिया. मैंने उसके कंधे पर हाथ रखकर कंसोल किया और सॉरी बोला. उसने इट्स ओके कह के टॉपिक चेंज कर दिया, फिर बातों बातों में हम लोगों ने नंबर एक्सचेंज कर लिया. थोड़ी देर बाद उस का स्टॉप आ गया और वह मुझे बाय कह कर निकल गई. फिर शाम को मैंने उसे कॉल किया और बोला कि मुझे उसकी याद आ रही है और मैं उससे मिलना चाहता हूं, वह तैयार हो गई और हमने अगले दिन सारसबाग में मिलने का प्रोग्राम बनाया. अगले दिन हम लोग शाम को सारसबाग में मिले. वह अपने बेटी के साथ आई थी. मैंने उससे मिलते ही गले लगा दिया, उस के बड़े बड़े बूब मेरे सीने से चिपक गए. उसने भी कुछ नहीं बोला और मुझे अच्छे से हग किया, आज वह एक टॉप और जींस पहन कर आई थी, और उसका फिगर बहुत ही सेक्सी दिख रहा था.

यह कहानी भी पढ़े : बहन की बुर में डाल दिया मोटा सा

उसका फिगर ३४-२८-३६ था तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि उसके बूब्स और गांड कितनी बड़ी रही होगी. कल जब हम मिले थे लोकल ट्रेन में बस में तब उसने एक  साड़ी पहनी हुई थी जिससे उसके फिगर का अंदाजा लगाना मुश्किल था. मगर आज वह कयामत ढा रही थी. मैं लगातार उसके बूब को घूर रहा था, उसकी बेटी गार्डन में खेलने में बिजी हो गई थी.

रचना भाभी ने मुझे उसके बूब्स को घूरते हुए दो तीन बार देख लिया था, और वह भी हल्की हल्की स्माइल दे रही थी. मैं उसकी खूबसूरती की बहुत तारीफ कर रहा था और वह भी खुश हो रही थी. हम लोग बेंच पर बैठे थे, तो मैंने उसके कमर में हाथ डाल दिया और हल्का हल्का मसाज करने लगा. वह मुझे देखकर स्माइल पास कर रही थी, मैं समझ गया था कि भाभी पट चुकी है अब बस इसे चोदने की देर है. मैंने उसे पूछा तुमने लास्ट कब सेक्स किया था? तो वह उदास हो गई और चुप रही, मैंने उसका फेस  उपर किया और सीधे उसे लिप किस किया, तो शौक के मारे वह पीछे हटी और मुझे दूर करने लगी. मैंने उसे फिर अपने नजदीक खींच लिया और एक बार और लिप किस किया. सारसबाग में कपल ओपन ली किस करते हैं, तो इस बार उसका विरोध कम हो गया. वह भी मुझे अच्छे से किस करने लगी, और हमने ७-८ मिनट तक किस किया. हम लोग कब अलग हुए जब उसकी बेटी हमारे पास आ गई.

मैंने उसे बोल दिया कि मैं आज रात तुम्हारे घर पर आ रहा हूं, उसने ओके बोला. और अपना एड्रेस दिया. मैं रात को ९ बजे उसके घर पहुंच गया, जब मैं पहुंचा तो वह अपनी बेटी को खाना खिला रही थी. मैं उसके बाजू में जा कर बैठ गया और उसकी कमर में हाथ डाल दिया और उसके पेट को सहलाने लगा. उसने फटाफट बेटी को खाना खिला दिया और सुला दिया. मैं बैठा हूआ उसका इंतजार कर रहा था, जैसे ही वह आई मैंने उसे मेरी ओर खींच लिया और अपने सीने से लगा दिया. जिससे कि उसके नरम नरम और बड़े बूबे मेरी छाती से चिपक गए और हम किस करने लगे.

भाभी इतनी वाइल्ड हो गई थी कि उसने मेरे लिप्स को बाइट करना स्टार्ट कर दिया, मगर उसमें भी एक अलग ही मजा था. हम लोग फ्रेंच किस कर रहे थे और मैं उसकी जीभ को सक कर रहा था और उसका सलायवा मेरे मुंह में एंटर हो रहा था, मुझे बहुत मजा आ रहा था. क्योंकि मेरी गर्लफ्रेंड भी इतना वाइल्ड किस कभी नहीं करती. यह मेरे लिए एक नया अनुभव था, मैं किस करते करते उसके बूब्स दबाने लगा और वह आवाज निकालने लगी और अहह अह्ह्ह ओह्ह हहह आयी उह हहह यस ह्श्ह्स कह रही थी, बाद मैंने धीरे-धीरे उसका टॉप और जींस उतार दिया. अब वह मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में खड़ी थी, उसके बूब्स ब्रा से आजाद होने के लिए तड़प रहे थे. हम लोग फिर किस करने लगे और किस करते करते भाभी ने अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया जो पहले से खड़ा हो चुका था. मैं भी एक हाथ से उसके बूब को दबा रहा था और दूसरा हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया, भाभी बहुत ही एक्साइट हो गई थी उसकी पैंटी चूत के पानी से गीली हो गई थी, मैंने एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसे फिंगर फक करने लगा.

मैं समझ गया कि वह काफी दिनों से चूदी नहीं है, उसने भी मेरा टी-शर्ट और जींस उतार दिया और अंडरवियर में हाथ डाल कर मेरे लंड को हिलाने लगी. थोड़ी देर बाद वह उसके घुटने पर बैठ गई और मेरा अंडरवीयर उतार दिया. और मेरा लंड उसकी आंखों के सामने आ गया. जिसे देख कर उसकी आंखें बड़ी हो गई, और वह अपने होंठ पर जबान फेरने लगी, मैं थोड़ा आगे की और सरका और मेरा लंड उसके होंठ को छूने लगा. और उसने धीरे से अपने होंठ खोले और मेरे लंड के टोपे को चूसने लगी.

यह कहानी भी पढ़े : जिंदगी का असली मजा भाई से चुद के मिला

उसने मेरे लंड की स्किन पीछे सरकाई और लंड के टोपे को चूसने और चाटने लगी. मुझे आज तक ऐसा फीलिंग कभी नहीं मिली थी, फिर उसने जैसी ही मेरे लंड को सक करना शुरू किया तो मेरी बॉडी में से करंट दौड़ गया. मेरी गर्लफ्रेंड मेरा लंड चूसती है, वह भी ऊपर ऊपर बिना स्किन निकाले जिससे मजा भी नहीं आता. मगर भाभी के चूसने का अंदाज ही निराला था, मैं मजे से मेरी कमर को आगे पीछे करने लगा. थोड़ी देर चूसाने के बाद मैंने भाभी को खड़ा किया और उसकी ब्रा पेंटि उतार कर नंगा कर दिया, और सोफे पर लिटा दिया और खुद नीचे बैठ कर उसकी चूत में एक साथ दो उंगली डाल दी, उसने फिर मोन किया उसकी चूत काफी टाइट थी चूत गीली होने की वजह से उंगली आसानी से फिसल कर अंदर गई.

भाभी बोलने लगी तुम मुझे चोदो, अब मुझे सहन नहीं हो रहा उसकी चूत से पानी बहने लगा और मैं उसे चाटने लगा. मेरी जुबान का टच होने से भाभी और एकसाइट हो गई और कहने लगी कआह्ह औउ ओह हहह यस ह्ह्ह्स हहह ओह्ह तुम मेरी चूत को खा जाओ, इसे पि जाओ इसका सारा पानी, बहुत खुजली हो रही है चूत में प्लीज अपना लंड डालकर इसकी खुजली को मिटा दो. मैं तेजी से उसकी चूत चाटने लगा और साथ उसके बूब्स को दबा रहा था, जिससे उसे और भी मजा आ रहा था, थोड़ी देर के बाद उसने पानी छोड़ दिया और मैं सारा चाट गया.

मैं उठ कर उसे किस करने लगा वह अपने ही चूत के पानी का टेस्ट कर रही थी, और मेरे होंठ को चाट कर रही थी.

फिर उसने मुझे सोफे पर लेटा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गई और पोजीशन लेकर मेरे लंड पर बैठने लगी. धीरे धीरे मेरा पूरा लंड उसकी चूत में समा गया. बहुत ही  गर्म हो गई थी, चूत गीली होने की वजह से उसे भी ज्यादा परेशानी नहीं हुई और वह मजे से मेरे लंड पर जंप करके चूदने लगी.

वह बोलने लगी तुम चोदो मुझे जोर जोर से चोदो.. आई लव यू.. तुम मुझे हर रोज चोदना.. वह बहुत गर्म हो गई थी और वह क्या बोल रही है उसे भी पता नहीं था.

उस पोजीशन में १० मिनट चोदने के बाद मैंने उसे सोफे पर लिटा दिया और खुद उसके ऊपर लेट गया मिशनरी पोजीशन में. और फिर मैं उसे चोदने लगा. इस पोजीशन में मैं उसे कभी किस कर रहा था कभी उसके निप्पल को काट रहा था. मैं उसे जोरदार धक्के मारकर चोद रहा था, वह अपनी आवाज पर कंट्रोल कर रही थी कि कहीं उसकी बेटी ना जाग जाए. १० मिनट और चोदने के बाद मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने उसे पूछा चूत के अंदर ही छोड़ दूं क्या पानी? उसने भी हां कर दिया, फिर मैंने मेरा पानी उसके चूत में छोड़ दिया और उसके ऊपर गिर गया. हम दोनों बहुत थक गए थे और एक दूसरे को चिपक के धीरे-धीरे किस करते करते कब नींद लग गई पता ही नहीं चला.

सुबह ४:३० बजे मेरी आंख खुली तो देखा रचना भाभी अभी भी पूरी नंगी मेरी बॉडी से चिपक के सो रही है, मैं भी नंगा था. उसे नींद में नंगी देख कर मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा और मैं उसके एक बूब को दबाने लगा और दूसरे को चूसने लगा, भाभी ने आंखें खोली और मुझे उनके बूब्स के साथ खेलते हुए देख मेरे बालों में उंगलियां करने लगी.भाभी ने अपना एक हाथ नीचे ले जाकर मेरे लंड को पकड़ कर चूत के होल पर लगा दिया और मुझे धक्का मारने के लिए बोला. फिर मैंने भाभी को चोदना शुरू किया. १०-१५  मिनट चोदने के बाद मेरा पानी निकल गया, जो मैंने उसकी चूत में ही गिरा दिया और हम लोग फिर से सो गए.

यह कहानी भी पढ़े : होली में गर्लफ्रेंड की मम्मी को चोदा

सुबह ९ बजे उठा तो देखा भाभी जाग चुकी थी और उसकी बेटी को स्कूल के लिए तैयार कर रही थी, मैं उठकर भाभी को किस किया और फ्रेश होने लगा. फिर भाभी की बेटी स्कूल चली गई और भाभी भी ऑफिस जाने के लिए रेडी हो गई, मैंने उनको किस किया और उन्होंने भी मुझे किस किया. २ मिनट किस करने के बाद भाभी ने मुझे जाने के लिए बोला और मैं होस्टल पर आ गया.उस दिन के बाद मेरा रिलेशनशिप रचना भाभी के साथ १ साल ३ महीने तक चला और हम लोग ने बहुत सेक्स एंजॉय किया.

तब तक मेरा एम.बी.ए भी खत्म हो गया और मैंने जॉब ज्वाइन कर लिया. और फिर मुझे मेरे ऑफिस की तरफ से दुबई जाना पड़ा २ साल के लिए.. शुरुआत के कुछ महीने में और भाभी फोन सेक्स करते थे, मगर फिर वह भी कम हो गया, मैं भी मेरे ऑफिस वर्क में बिजी हो गया. फिर दुबई में से सऊदी अरबिया गया, ईसी तरह ३  साल आउट ऑफ इंडिया रहा और अभी जनवरी २०१७ में वापस इंडिया आया हूं.