ममेरे भाई का मोटा लंड और छोटा लंड

हैल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और चुदाई क्रिया का भरपूर आनंद ले रहे होंगे | मेरा नाम डॉली है और मैं औरंगाबाद की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 23 साल है और मैं अभी पोस्ट ग्रेजुएशन कर रही हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरा सेक्सी फिगर भरा हुआ है | वैसे तो मैं एक चुदक्कड़ लड़की हूँ और मुझे चुदाई बहुत पसंद है | मुझे जवान लंड खाना बहुत पसंद है |

दोस्तों मैं इस साईट की पुरानी पाठक हूँ और मुझे इस साईट में चुदाई की कहानियां पढ़ना बहुत पसंद है | मैं अक्सर फ्री टाइम में चुदाई की कहानियां पढ़ती हूँ | आज मुझे मौका मिल रहा है कि मैं आप लोगो के समक्ष अपनी एक कहानी प्रस्तुत करूँ | तो आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आयगी और मेरी कहानी पढ़ कर आप लोगो को बहुत मजा भी आयगा | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय ना लेते हुए सीधा अपनी कहानी शुरू करती हूँ |

जैसा की मैंने आप लोगो को बताया कि मैं शुरू से ही बहुत चुदक्कड़ लड़की हूँ तो मैंने अभी तक की उम्र में कई बार चुदाई के मजे लिए हैं और मुझे चुदाई इतनी ज्यादा पसंद है कि कोई अगर रास्ते में भी कहे तो मैं वहीँ उससे चुद जाऊं लेकिन ये अपना देश है यहाँ इतनी आजादी तो नहीं है | मैं पोस्ट गग्रेजुएशन कर रही हूँ और एग्जाम के बाद कॉलेज की छुट्टी पड़ गई थी तो मैंने सोचा कि क्यूँ न मैं अपने मामा मामी के घर चले जाऊं और छुट्टियाँ वहीँ बिताऊ ? मैंने अपने घर में बात की कि मम्मी इस बार की छुट्टियाँ मामा मामी के घर जाना चाहती हूँ | तो मम्मी ने भी कहा ठीक है |

मेरे मामा मामी बेंगलोर में रहते हैं और मुझे वो सिटी बहुत अच्छी लगती है | उसके बाद जब मैं वहां पंहुची तो मेरे मामा मामी मुझे देख कर बहुत खुश हुए और मेरे कान मामी ने खींचते हुए कहा क्यूँ रे पागल अब तुझे याद आ रही है हमारी ? तो मैंने कहा मामी क्या करूँ ? एग्जाम के चलते कहीं भी जाना नहीं हों पा रहा था |

फिर मैंने उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया और मेरा सामान वहीँ सोफे के पास रखा और मेरे लिए मामी ने स्नैक्स और चाय ला कर दिए | मैंने बातो बातो में उनसे पूछा कि मामी अंकित कहीं दिखाई नहीं दे रहा है ? तो मामी ने बताया कि वो अभी सो रहा है | अंकित उनका बेटा है और वो अभी 21 साल का है | मैंने कहा अच्छा ठीक है सोने दो | जब वो उठेगा तब बात करती हूँ उससे | चाय खत्म होने के बाद मामा ने कहा बेटा मैं मार्किट जा रहा हूँ तुम्हे कुछ चाहिए तो नहीं ? मेरे मामा जी मुझे बहुत पसंद करते हैं और वो अक्सर जब भी मैं उनके घर आती हूँ तो वो मेरे लिए कुछ न कुछ जरुर लाते हैं | मैंने उन्हें जवाब दिया कि मामा जी आज मुझे आप एक रेड कलर की टॉप ला कर दो | उन्होंने कहा ठीक है और वो चले गए |

उसके बाद मैंने मामी से कहा कि मैं अपना सामान अंकित के रूम में ही शिफ्ट कर देती हूँ | उन्होंने भी कहा ठीक है और फिर वो काम करने चले गयीं | मैं भी अपना सामान अंकित के कमरे में ले कर गई तो मैंने देखा कि अंकित बस अंडरवियर में सोया हुआ था और उसकी लुल्लू खड़ी हुई थी और वो अपनी लुल्लू को खुजला रहा था | वो भले ही मेरा भाई था लेकिन पता नहीं ये सब देख कर मुझमे एक अजीब सी सिहरन दौड़ गई | फिर मैं अन्दर गई और उसे जगाते हुए कहा देख अंकित कौन आया है | वो नींद से जाग कर मुझे देख कर खुश हो गया और मुझे गले से लगा लिया जिस वजह से मेरे बोबे उसके सीने में गड़ने लगे | उसे शायद अच्छा लग रहा था इसलिए वो मेरे गले लगा रहा और कहा कि दीदी आप इतने टाइम बाद आ रहे हो | मैंने आपको कितना मिस किया |

आप कब आये ? तो मैंने कहा हाँ भाई क्या करू ? फिर हम दोनों में थोड़ी देर ऐसे ही बात हुई और मैंने कहा चल अब मुझे सामान ज़माने दे | उसने पूछा दीदी आप मेरे ही रूम में रुकोगे ? तो मैंने कहा हाँ बेटा मैं यहीं रुकुंगी | फिर ऐसे ही शाम निकल गई और मामा जी भी आ गए थे और मेरे लिए रेड टॉप भी लाये थे और मुझे वो बहुत टॉप बहुत पसंद आया | फिर रात का खाना खाने के बाद हम लोगो ने थोड़ी देर बात की और उसके बाद हम सभी सोने चले गए | मैं और अंकित रूम में गए और बिस्तर में लेटे लेटे बात करने लगे | अंकित ने कहा कि दीदी मुझे सोना है नींद आ रही है तो मैंने भी कहा ठीक है तू सो जा | वो जैसे ही सोया तो मेरी भी आँख लग गई | मेरी नींद करीब 12 बजे खुली तो मुझे अपने दूध पर हाँथ फेरने जैसा लगा |

मैंने देखा कि ये अंकित मेरे दूध सहला रहा है और दबा रहा है | मुझे भी अच्छा लग रहा था और मैं उसे इस काम में डिस्टर्ब नहीं करना चाहती थी तो मैंने भी उसका साथ देते हुए उसके हाँथ को पकड़ कर अपनी चूत में डालने लगी तो ववो एक दम से सहम गया और अपना हाँथ पीछे खींच कर उठ बैठा | मैं भी उठ गई और उससे पूछा कि क्या हुआ ? तो उसने कहा सॉरी दीदी मुझसे गलती हो गई मुझे माफ़ कर दो | तो मैंने कहा कोई बात नहीं लेकिन सुन अब तूने मेरी अन्तर्वासना भड़का ही दी है तो अब तुझे बिना चोदे सोने तो ना दूंगी |

मुझे बस इतना ही कहना था कि उसने मेरे होंठ में अपने होंठ लड़ा दिए और मेरे होंठ को चूसने लगा | मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूसने लगी | हम दोनों ने करीब 10 मिनट तक किस किये और एक दुसरे को सहलाया | फिर मैंने उसे नंगा किया और उसकी छाती चूमते हुए उसकी लुल्लू को अपने हाँथ से पकड़ कर हिलाने लगी उसकी लुल्लू ज्यादा तो बड़ी नहीं थी पर बिना चुदाई से अच्छा है कि मैं अपनी चूत इस छोटी लुल्लू से ही मिटा लूं | फिर मैंने उसे लेटा कर उसकी लुल्लू को चाटने लगी तो उसके मुंह से आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ की सिस्कारियां लेने लगा | मैं उसके लंड को अच्छे से चाटने के बाद अपने मुंह में ले कर चूसने लगी तो वो आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेरने लगा |

फिर मैंने अपने टॉप को उतारा तो वो मेरे दूध को बड़े गौर से देख रहा था | फिर मैंने ब्रा को भी उतारा तो वो अपने लंड को मसलने लगा | मैंने उससे कहा चल अब इसे चूस | तो वो झट से मेरे दूध को चूसने लगा तो मेरे मुंह से भी आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से मसलते हुए बारी बारी से चूस रहा था और मैं आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ करते हुए उसके चेहरे को सहला रही थी | फिर मैं पूरी नंगी हो कर बिस्तर पर लेट गई और अपनी टाँगे फैला कर उसे कहा कि मेरी चूत चाट तो वो मेरी टांगो के बीच में आ कर मेरी चूत चाटने लगा तो मैं आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ करते हुए कसमसाने लगी |

वो मेरी चूत को अपनी जीभ से रगड़ते हुए चाट रहा था और मैं आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ करते हए उसके सिर को अपनी चूत में दबा रही थी | उसके बाद मैंने उसकी लुल्लू को अपनी चूत में टिकाया और उसे धक्का मारने को कहा तो उसका लंड मेरी चूत में सरसराते हुए घुस गया | अब मुझे धक्के लगाते हुए चोदने लगा तो मैं भी आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ करते हुए चुदाई में उसका साथ देने लगी | कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद उसने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दिया और जोर जोर से शॉट मारते हुए चोदने लगा तो मैं भी आहा अहहहा अआहः ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्म्ह अह़ा आहहाआअ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाआ करते हुए चुदाई के मजे ले रही थी | फिर वो मेरी चूत के अन्दर ही झड़ गया | उसके बाद तो मैं रोज उससे अपनी चुदाई करवाती रही |