मोटी गांड वाली सेक्सी भाभी के बड़े बूब्स

प्रेषक रूद्र,

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रूद्र है और में कर्नाटका से हूँ। में 21 साल का हूँ और में दिखने में स्मार्ट हूँ ऐसा सब कहते है। में बंगलौर से बी.टेक कर रहा हूँ और ये बात कुछ समय पहले की है, हमारे यहाँ किराये से एक कपल रहने आया था, भैया का नाम दिलीप था और भाभी का नाम पूनम था और पुनम क्या माल थी? गोरी इतनी कि पूछो मत।

फिगर साईज 32-30-36। वो जीन्स में निकल जाए तो उसकी गांड देखकर लोग सड़क पर ही पागल हो जाए, वो ज्यादातर सूट पहनती थी। में तो उसे देखते ही उसका आशिक़ हो गया था। में रात दिन उसे चोदने के सपने देखा करता था और सोचता था कैसे बात करूँ? लेकिन मुझे मौका नहीं मिल रहा था।

फिर एक दिन में सीढ़ियों से ऊपर चढ़ रहा था, तो भाभी मुझे खुद रोककर बोली कि आपसे एक काम है। तो मैंने खुशी में हाँ बोल दिया, तो वो बोली कि अंदर आ जाओ। फिर में और खुश हो गया, तो वो अंदर जाकर बोली कि बेड सरकवाना है, तो मैंने कहा कि ओके। अब एक तरफ से में धक्का दे रहा था और दूसरी तरफ से वो खींच रही थी।

फिर जैसे ही वो सामने झुकी तो मैंने उसके बड़े-बड़े गोरे बूब्स देखे और पुनम के बूब्स ऐसे हिल रहे थे जैसे अभी बोलेगें कि आओ दूध पी लो, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। फिर थोड़ी देर के बाद में वहाँ से चला गया। फिर कुछ दिन हमारी कोई बातचीत नहीं हुई। पुनम भाभी के पति 8 बजे के आस पास काम से वापस आते थे, तो में भी जानबूझ कर उसी समय बाइक पर घूमकर वापस घर आता था। अब भैया और मेरी बातचीत बढ़ने लग गई थी, अब में तो बस भाभी को चोदने के सपने देखता था।

फिर वो हमारे घर अचानक से कुछ दिन कपड़े सुखाने के लिए डालने आने लगी। अब मौका अच्छा था, अब वो हर दूसरे तीसरे दिन आने लगी थी। अब में जब भी बालकनी से नीचे देखता था, तो भाभी पड़ोस की औरतों के साथ बैठी रहती थी। में उसके सूट में से उभरते बूब्स देखा करता था, उसने मुझे कई बार नोटिस किया था।

अब पहले तो उनका रिएक्शन अजीब हुआ करता था, लेकिन एक दिन उसने स्माइल कर दी, तो में खुशी से पागल हो गया। फिर एक दिन वो हमारे यहाँ कपड़े सुखाने आई, तो मैंने अचानक से गिरने का नाटक किया और कहा कि कमर में मोच आ गई है। फिर वो भागकर आई और फ्रिज के ऊपर से बाम उठाई और मेरी कमर पर लगाने लगी।

अब मेरा लंड खड़ा हो गया था और इतनी खूबसूरत लड़की अगर कमर पर मसाज करेगी तो खड़ा तो होगा ही। अब में समझ गया था कि उसकी मुझमें दिलचस्पी है। फिर मैंने उन्हें उनका हाथ नीचे करने को कहा तो उनका हाथ मेरी गांड तक आ गया। दोस्तों आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

अब वो मदहोश होने लगी थी और नीचे मेरी पेंट के अंदर अपना हाथ मारने लगी थी। फिर में सीधा हो गया और वो धीरे-धीरे नीचे आ गई। फिर मैंने उसके लिप्स को टाईट किस किया और 5-7 मिनट तक स्मूच करने लगा और उसकी कमर पर और पेट पर अपना हाथ रखकर फैरता रहा। अब वो मेरे ऊपर और में उसके नीचे था।

फिर मैंने पीछे से उसकी गांड में अपनी एक उंगली डाल दी और उसे नीचे कर दिया और उसके होंठ चूसते-चूसते उसके बड़े-बड़े बूब्स दबाने लगा। अब में उसकी चूत में अपनी उंगली डालकर अंदर बाहर करने लगा था और वो सिसकियाँ मारने लगी थी।

फिर मैंने उसका सूट उतार दिया और अब वो मेरे सामने सिर्फ़ बिकनी में थी, उफ़फ्फ़ उसका बदन। अब मैंने उसे पूरा नंगा कर दिया था, अब में पागल हो गया था और में ज़िंदगी में पहली बार किसी लड़की को नंगा करके चोद रहा था। जिसे सारा मौहल्ला चोदना चाहता था, वो अब नंगी होकर मेरे हाथ से अपनी चूत में उंगली डलवा रही थी।

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …..