पलंग पे लेटा कर लौड़ा चुस्वाया

यह कहानी तब की है जब मेरा घर पर किसी कारण झगड़ा होने की वजह से मैं 3 साल के लिए घर से दूर एक कमरा किराए पर लेकर रहता था और खर्चे के लिए मिनी बस पर खलासी का काम करता था। उस वक़्त मेरी मुलाकात एक बस ड्राईवर से हुई.. जिसका नाम सोनू था। मेरी सोनू से काफी अच्छी दोस्ती हो गई।

कुछ दिनों बाद सोनू का खलासी किसी काम से अपने घर चला गया।
अब उसे एक खलासी की आवश्कता थी.. तो उसने मुझसे बात की और कहा- तू मेरे साथ परमानेन्टली मेरी गाड़ी पर चल और मेरे साथ ही रह।

मैंने कहा- ठीक है.. पर मैं हफ्ते में एक दिन की छुट्टी करूँगा।

उसने कहा- ठीक है।

मैंने कहा- एक तारीख को आ जाऊँगा।

जब मैं एक तारीख को सोनू के घर पहुँचा तो सोनू की पत्नी ने दरवाजा खोला और पूछा- आप कौन हैं और किससे मिलना है?

तो मैंने कहा- मुझे सोनू ने गाड़ी पे चलने के लिए बुलाया है।

तो उसने मुझे बताया- सोनू तो किसी काम से अपने गाँव गए हुए हैं.. 4-5 दिनों में आयेंगे.. पर सोनू ने मुझे बताया था कि कोई आने वाला है।

यह कहकर उसने मुझे अन्दर आने को कहा और मुझे कमरा दिखाया और कहा- नहा-धोकर खाना खाने आ जाओ।

मैंने कहा- ठीक है..

मैं फ्रेश होकर खाना खाने आ गया।

खाना खाते समय मैंने पूछा- आपका नाम क्या है?

तो उसने अपना नाम सुहानी बताया..

उसने मुझसे पूछा- क्या तुम यहाँ जयपुर में अकेले ही रहते हो?

तो मैंने कहा- यहाँ मैं अपने परिवार के साथ रहता हूँ.. पर किसी कारण से अभी अलग कमरा लेकर अकेले ही रहता हूँ..

अब हमने खाना खाया और काफी सारी बातें की।

खाना खाकर मैं अपने कमरे में आ गया और अपने कपड़े उतार कर सो गया।

मुझे पता नहीं.. मेरी आँख कब लग गई। जब आँख खुली तो देखा सुहानी मेरे सामने चाय लेकर खड़ी थी।

मैं एकदम से चौंक गया.. तो सुहानी ने मुझसे कहा- कोई बात नहीं.. घर पर ही तो हो.. पर आगे से ध्यान रखना।

मैंने कहा- ठीक है।

सुहानी ने मुझे चाय दी और बाहर चली गई। कुछ देर बाद सुहानी ने मुझे बुलाया और कहा- मेरे साथ बाजार चलो।

मैंने कहा- ठीक है।
मैं तैयार होकर सुहानी के साथ बाजार निकल गया।

यह कहानी भी पढ़े : बड़ी बहन के देवर से चटवाई अपनी चुत

बाज़ार से खरीददारी करके जब हम घर लौट रहे थे.. तब बस में भीड़ होने के कारण सुहानी मेरे आगे चिपक कर खड़ी हो गई.. सुहानी की गाण्ड मेरे लौड़े के बिल्कुल नजदीक होने से और चिपकने के कारण मेरे लौड़े में एक अजब सा तनाव पैदा हो गया.. जो मेरे साथ पहले कभी नहीं हुआ था।

अब मेरा लौड़ा पूरा खड़ा हो चुका था। शायद जिसका अहसास सुहानी को भी हो रहा था.. लेकिन सुहानी ने मुझे कुछ नहीं कहा।

थोड़ी देर बाद हम घर पर आ गए। सुहानी अपने कपड़े बदल कर रसोई में चली गई। मैं भी कपड़े बदल कर हॉल में टीवी देखने बैठ गया।

तभी सुहानी ने मुझे बुलाया- पिंटू जरा रसोई में आना।

मैं खड़ा होकर रसोई में चला गया।
मैंने देखा सुहानी ने बिल्कुल ही पतला सा नाईट-गाउन पहन रखा है.. जिसके कारण सुहानी का जिस्म मुझे बिल्कुल साफ दिख रहा था।
मेरी नजर एकटक सुहानी को देख रही थीं।

तभी सुहानी ने कहा- मुझे ऐसे क्या देख रहे हो.. पहले कभी किसी को नहीं देखा?

मैं डर गया और कहा- ऐसी कोई बात नहीं है.. आज से पहले कभी इतनी खुबसूरत स्त्री को नहीं देखा है.. खाश तौर पर ऐसी नाईट-ड्रेस में तो किसी को नहीं..

तो सुहानी ने मुझसे पूछा- ऐसा इस ड्रेस में क्या है?

तो मैंने कहा- ड्रेस में नहीं.. इसे पहनने वाले में कुछ बात है।

तभी सुहानी ने मुस्कुरा कर कहा- कोई तारीफ़ करना तो तुम बस वालों से सीखे.. अब तारीफ करना बंद करो और मेरी कुछ मदद करो।

मैंने कहा- ठीक है.. पर मुझे रसोई का काम नहीं आता।

तो सुहानी ने कहा- कोई बात नहीं.. मैं सब सिखा दूंगी।

यह कहकर सुहानी मेरे पीछे खड़ी हो गई जिससे सुहानी के मम्मे मेरी कमर में चुभने लगे, मुझे बहुत आनन्द आ रहा था।

तभी सुहानी ने मुझसे कहा- बस में तुम क्या कर रहे थे?

मैंने कहा- कुछ नहीं.. वो भीड़ होने के कारण.. मैं आपसे चिपक गया था और कोई बात नहीं।

सुहानी ने कहा- ठीक है।

फिर मैं हॉल में बैठकर टीवी देखने लग गया।

सुहानी ने खाना लगा कर मुझे बुलाया- पिंटू खाना तैयार है.. आकर खा लो।

मैं खाना खाने चला गया.. खाना खाने के बाद मैं फिर टीवी देखने बैठ गया।

कुछ देर सुहानी ने भी मेरे साथ बैठ कर टीवी देखा, फिर उसने मुझसे कहा- मैं सोने जा रही हूँ.. किसी चीज की जरूरत हो तो मुझे बुला लेना।

मैंने कहा- ठीक है।

वो कमरे में चली गई और मैं टीवी देखने लगा।

तभी सुहानी ने मुझे आवाज लगाई- पिंटू जरा कमरे में आना..

जब मैं कमरे में गया.. तो मैंने देखा सुहानी सिर्फ ब्रा और पेटीकोट में थी। जिसे देखकर मैं पागल हो गया।

एक मन तो हुआ कि जाकर सुहानी को चोद दूँ.. प्यार से नहीं तो जबरदस्ती ही चोद दूँ..

लेकिन मैंने खुद को संभाला और बोला- क्या बात है?

इस पर सुहानी ने कहा- मेरी पीठ में दर्द हो रहा है.. जरा सी बाम लगा दो।

मैंने कहा- ठीक है आप लेट जाओ।

वो औंधी हो कर लेट गई.. और मैंने उसकी पीठ पर बाम लगानी शुरू कर दी।

जैसे-जैसे मैं उसकी नरम पीठ पर अपना हाथ फेर रहा था.. धीरे-धीरे मेरी हालत खराब होने लगी। मुझे फिर से बस वाला दौरा पड़ना चालू हो गया.. मेरा लौड़ा पूरी तरह से तन कर पैन्ट से बाहर आने के लिए उछलने लगा।

यह कहानी भी पढ़े : मेरी प्यारी बहन मेरा मुठ मारती है

पीठ पर मालिश करवाते समय सुहानी ने मुझसे कहा- पिंटू.. जरा मेरी इस ब्रा के हुक को खोल कर.. ‘अच्छी’ तरह से मालिश कर दे।

मैंने ठीक वैसे ही किया.. सुहानी के ब्रा का हुक खोल कर उसके नंगे जिस्म की मालिश करने लगा.. मालिश करते हुए धीरे-धीरे मैंने अपना हाथ सुहानी के मम्मों पर लगाया और उसकी तरफ से कोई आपत्ति न होते देख मैं उसके मम्मों को मसलने लगा।

थोड़ी देर के बाद मैंने अपना हाथ हटा लिया.. इस पर सुहानी ने कहा- क्या हुआ..? मालिश करो न.. मुझे बहुत मजा आ रहा है।

इस पर मैंने कहा- आपको तो मजा आ रहा है.. पर मेरी हालत ख़राब हो रही है।

तो सुहानी ने हँस कर पूछा- क्यों.. क्या हुआ?

मैंने कुछ नहीं कहा.. तभी सुहानी ने मेरा हाथ पकड़ कर बिस्तर पर खींच लिया और मेरी छाती पर बैठ गई।

कहने लगी- मुझे मालूम है.. तुम्हें क्या हुआ है।

यह कहकर उसने अपनी लटकती हुई ब्रा खोल दी.. अब मेरे सामने उसके मम्मे बिल्कुल नंगे थे।

सुहानी ने अपनी चूचियों की तरफ इशारा करते हुए कहा- पिंटू इनको पकड़ के इनका दूध निकाल कर पी जा..

मैंने भी ठीक वैसे ही किया। जब मैंने सुहानी के मम्मों को छुआ तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि किसी के मम्मे इतने नाजुक कैसे हो सकते हैं?

मैं सुहानी के मम्मों को जोर से मसलने लगा.. तभी सुहानी ने कहा- आह्ह.. जरा आराम से..

थोड़ी देर तक अपने मम्मों को दबवाने के बाद सुहानी मेरे ऊपर से उठी और अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया।

जैसे ही सुहानी का पेटीकोट नीचे गिरा तो मैंने देखा कि उसने पेटीकोट के नीचे कुछ भी नहीं पहना था।

मैं उसे अपलक देखता ही रह गया।

तभी सुहानी ने कहा- क्या हुआ मेरे राजा?

मैंने कहा- मैंने आज से पहले कभी किसी को ऐसे नहीं देखा।

तो सुहानी ने पूछा- क्या आज से पहले तुमने कभी चुदाई नहीं की?

मैंने कहा- नहीं.. मगर ब्लू-फिल्म बहुत देखी हैं और मुठ मारकर रह जाता था।

तो सुहानी ने कहा- मतलब मुझे ही तुम्हें सब कुछ सिखाना है।

मैंने कहा- मुझे कुछ-कुछ पता तो है.. जो नहीं मालूम है.. वो आप बता देना।

इस पर सुहानी ने कहा- ठीक है.. मगर मेरी एक शर्त है।

यह कहानी भी पढ़े : नौकरानी की कोमल मखमली चूत की चुदाई

मैंने कहा- मुझे आपकी सारी शर्त मंजूर हैं।

तो सुहानी ने कहा- सुन तो लो.. मेरी पहली शर्त है कि तुम मुझे ‘आप’ नहीं बल्कि सुहानी कहोगे..

मैंने कहा- ठीक है।

‘और दूसरी शर्त यह है कि मैं जब भी कहूँ.. तुम मुझे चोदोगे।’

मैंने कहा- ठीक है..

अब सुहानी ने कहा- पहले अपने सारे कपड़े खोल दो और पलंग पर लेट जाओ।

मैंने अपने सारे कपड़े खोल दिए और पलंग पर लेट गया। सुहानी मेरे पास आकर बैठ गई और मेरे लौड़े को हाथ में लेकर हिलाने लगी.. मेरा लौड़ा तन्ना गया।

फिर अचानक सुहानी मेरे लवड़े को अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।

मुझे बहुत मजा आ रहा था.. तभी एकदम से मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया और मेरे लौड़े से कुछ रस सा निकला.. जो सीधा सुहानी के मुँह में गिर गया।

इस पर सुहानी ने कहा- कोई बात नहीं.. पहली बार ऐसे ही होता है।

थोड़ी देर बाद सुहानी मेरे ऊपर आकर बैठ गई और मुझे चुम्बन करने लगी।

कम से कम 8 -9 मिनट बाद मैंने सुहानी से कहा- सुहानी.. चल कुछ नया करते हैं।

इस पर सुहानी ने अपने मुँह में लौड़े को लेकर फिर चूसने लगी.. जिसके कारण मेरा लौड़ा दुबारा तन कर खड़ा हो गया।

अब सुहानी ने कहा- पिंटू तुम भी मेरी चूत को चाटो।

मैं सुहानी की चूत को चाटने लगा.. जैसे ही मैंने चूत पर अपना मुँह लगाया.. सुहानी ने सिसकारियाँ भरनी शुरू कर दीं।

कुछ देर बाद सुहानी की चूत से कुछ पानी निकला.. मैं उसे पी गया।

ऐसा रस मैंने कभी नहीं पिया था। मुझे बहुत अच्छा लगा।

हम काफी देर तक ऐसे ही एक-दूसरे को चाटते रहे।

फिर मैंने सुहानी से कहा- सुहानी.. अब मुझे लगता है कि मेरा पानी निकलने वाला है..

यह कहानी भी पढ़े : आखिर जिस्मानी रिश्ते की चाहत पूरी हुई

तभी सुहानी ने मेरे लौड़े को मुँह से बाहर निकाला और मुझसे कहा- पिंटू अब तुम अपने लंड को नीचे मेरी चूत में पेल दो.. लेकिन आराम से.. क्योंकि तुम्हारा सुपारा बड़ा है।

मैंने कहा- ठीक है.. जब दर्द हो तो कह देना.. मैं रुक जाऊँगा।

अब मैं लंड लगाने को हुआ और सुहानी की चूत पर अपने लौड़े को लगाया तो गीलेपन के कारण लौड़ा फिसल गया।

इस पर सुहानी ने गुस्से में कहा- भोसड़ी के.. अब मुझे ही बताना होगा कि तेरे लंड को चूत में कैसे डालना है।

उसने मेरे लौड़े को पकड़ कर अपनी चूत पर लगाया और कहा- अब जोर से धक्का मार..

मैंने वैसे ही किया.. एक जोर का धक्का लगाया और इसके साथ ही मेरा सुपारा सुहानी की चूत में घुस गया।

सुहानी जोर से चिल्ला उठी और बोली- हरामी.. धीरे डालने के लिए कहा था न..

मैंने- सॉरी यार.. अनाड़ी हूँ..

तो उसने कहा- कोई बात नहीं.. मैं समझ सकती हूँ.. लेकिन किसी और के साथ ऐसे मत करना.. वरना वो कहीं मर न जाए।

मैंने कहा- गुरू जी.. तुम्हारे होते हुए मुझे क्या डर और वैसे तुम हो ना.. मुझे सिखाने के लिए।

इस पर सुहानी ने मुझसे कहा- कभी मैं न हुई तो?

मैंने कहा- अभी तुम मुझे अच्छी तरीके से तैयार कर देना।

सुहानी ने कहा- ठीक है.. लेकिन अभी तो जो काम कहा है.. वो तो करो.. मुझे चोदो और मेरी प्यास बुझा दो।

मैंने कहा- ठीक है..

मैंने एक जोर का झटका लगाया.. मेरा पूरा लंड सुहानी की चूत में घुस गया। फिर मैंने जोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए।

करीबन आधा घंटे के बाद मैंने उससे कहा- मेरा अब पानी निकलने वाला है..

तो सुहानी ने कहा- मुझे तुम्हारा पानी पीना है.. तुम अपना पानी मेरे मुँह में निकाल दो।

मैंने वैसे ही किया.. अपना लंड सुहानी के मुँह में डाल दिया और सारा पानी सुहानी के मुँह में निकाल दिया.. और थक कर सुहानी के पास ही लेट गया।
सुहानी भी थक चुकी थी।

थोड़ी देर बाद सुहानी ने कहा- पिंटू आज के जैसा मजा मुझे पहले कभी नहीं मिला।

सुहानी ने मुझे चुम्बन किया और सो गई रात को सुहानी ने मुझे जगाया और चोदने के लिए कहा।

उस रात मैंने सुहानी को कम से कम 4 बार चोदा.. सुबह मेरी आंख 9 बजे खुली जब सुहानी मेरे पास चाय लेकर आई।

मुझे चाय पीकर फिर से रात का कार्यक्रम चालू करने के लिए कहा।

दोस्तों में पहले ही थका हुआ था.. मगर शर्त के कारण मना भी नहीं कर सकता था।

सुहानी ने मुझसे सोनू के आने तक खूब चुदवाया और मुझे नए तरीके भी बताए।