भाभी की चुत अब मेरी हो गई

हाय दोस्तों मेरा नाम कुंदन  है। मे भोपाल का रहने वाला हु।  मेरी उम्र 24 साल है। मै इंदोर मै नोकरी करता हु। आज मै आपको अपने जीवन मै जो घटित हुआ । वह बताने जा रहा हु । ये कहानी मेरी ओर मेरी भाभी के बीच की है  मै बहुत ही कामुक इसांन हु। ओर हमेशा चुदाई के लिए तैयार रहता हु। मेरे लंड का साइज आठ इंच से जयादा है । हमारे घर मेरे पापा मम्मी भाई ओर मै रहते है।  मेरा भाई खुद का बिजनेस करता है। मेरे बडे भाई की शादी को  तीन साल हुऐ है। मेरी भाभी बहुत ही खुबसुरत है। ओर उनका एक लडका है।

मेरी भाभी का नाम कोमल है।मै जब से भाभी हमारे घर आई है तब से ही बहुत पसंद करता हु। ओर उनसे काफी हंसी मजाक भी करता रहता हु।  भाभी को भी इसबात का एहसास हो गया  था कि मे उनको पसंद करता हु।ओर उनकी चुदाई करना चाहता हु। शायद उनके दिल मै भी चुदाई की कसक थी। इसलिए जब मै उनके साथ हंसी मजाक मै उनको टच करतातो वे मुझे कुछ नही कहती थी। मै अकसर उनकी गांड पर हाथ फेर देता था। तो वे मेरा हाथ हटा देती पर कभी कुछ कहती नही ।

इससे मुझे भी लगने लगाकि वो भी मुझे पसंद करती है। पर अकेले मै मिलने का मोका नही मिल रही था  पर एक दिन घर  भाभी ओर मै अकेले थे घर वाले शादी मै गये थे। किसी रिश्ते दार के यहा  जो दो दिन बाद आने वाले थे उस रात भाभी ओर मैंने खाना खाने के बाद हम दोनो हाल मै बैठकर टीवी देख रहे थे।हम दोनो बहूत करीब बैठे थे। मेरा ध्यान टीवी पर नही भाभी पर था  कुछ देर बाद मै भाभी को हल्का सा उनकी जांघो पर हाथ फिराने लगा। जिससे शायद भाभी को मजा आने लगा ।

ओर मेरा कोई विरोध नही किया कुछ देर बाद मै पुरी तरह उनकी जांघो पर हाथ जोर से फिराने लगा । जिससे भाभी की आंखे बंद होने लगी । कुछ देर जांच सहलाने के बाद मै अपना हाथ उनके बोबो पर ले गया ओर उनके बोबे दबाने लगा।

ओर उनने मेरा कोई विरोध नही किया जिससे मेरी हिम्मत बढ गई ओर मैंने उनको पकड कर बांहो मे भर लिया ओर उनके होंठ पर अपने होंठ रख दिये। ओर उनके होंठो का रसपान करने लगा। भाभी भी मेरा पुरा साथ दे रही थी हम काफी देर तक एक दुसरे के होंठो को चुसते रहे जब हम अलग हुऐ तब भाभी की आंखे बंद थी।

फिर जेसे ही आंखे खोली तो उनकी आंखो मै सेक्स कि चाहत साफ दिख रही थी। मैंने उनको गोद मै उठाया ओर उनके बेडरूम मै ले जाकर बैड पर लिटा दिया ओर खुद उनके ऊपर चढ गया ओर उनको किस करने लगा हम दोनो ही एक दुसरे के होंठो बहुत जोर से खा रहे थे। हमने लगभग दस मिनट तक किस किया।

अनु की चुत का चबूतरा बना दिया

फिर मैंने उनकी साडी बलाउस पेटीकोड को  उतार दिया अब भाभी मेरे सामने सिफ पेंटी मे थी ब्रा नही पहनी थी उनहोने सच मे बहुत  मस्त लग रही थी । फिर मेरे भी कपडे उतार दिये ओर पुरा नंगा हो गया ओर उनके ऊपर चढ गया ओर उनको बेहतासा किस करने लगा । ओर बोबे चुसने लगा उनमे से दुध आ रहा था जो बहुत टेस्टी था ।

साथ ही उनकि पेंटी मै हाथ डाल दिया जो पुरी तरह गीली हो गई थी उनकी चुत भटटी की तरह तप रही थी।  मै उनकी चुत मै उगंली करने लगा।बोबे चुसने के बाद मे धीरे धीरे नीचे जाने लगा ओर उनकी नाभी पर किस करने लगा।

जिससे भाभी की बैचेनी बढने लगी मैने बहुत देर उनकी नाभी को चुसा ओर  फिर उनकी चुत पर मुंह ले जाकर पेंटी के ऊपर से उनकि चुत चाटने लगा उनकी चुत की महक ने मुझे पागल कर दिया कसम से कया महक थी सारी परफयूम फेल थी।

चुत की महक के आगे मैंने बहुत देर उनकी चुत  चुसी पेंटी के ऊपर से   फिर उनकी पेंटी उतार दी ओर उनकी नंगी चुत चुसने लगा भाभी बहुत बेचेन होने लगी । ओर मेरे सर को अपनी चुत पर दबाने लगी। ओर आवाज करने लगी। भाभी।   आहहहह ईईईई  आहहह करने लगी  भाभी    आहहहहहचुसो कुनदन  आहहहह ईईईईई बहुत मजा आ रहा हैआहहह उउउउईईई  मे अनदर चुत मै जीभ घुसा कर चाट रहा था। जब तक भाभी का पानी नही निकला । मे  उनकी चुत चाटता रहा । यह कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

भाभी तो बस आहहह आहहहह चाटो ओर जोर से चाटो   ओर चाटो मेरे जानू खा जाओ मेरी चुत। को कर रही थी।जैसे ही भाभी झडने को हुई मेरा सर अपनी चूत पर दबा लिया ओर मेरे मुहं मे झड गई।।

मैंने भाभी का पुरा पानी पी लिया ओर चुत को चाट कर साफ कर दिया । फिर मैंने भाभी को लंड चुसने का इशारा किया। मगर उनहोने मना कर दिया मैंने  भी कोई जबरजसती नही कि फिर मै भाभी के ऊपर आ गया ओर उनको किस करने लगा। फिर मैंने भाभी को पैर खोलने को कहा तो भाभी ने अपने पैरो को फैला लिया ।मे भाभी की जांघो के बीच आया ओर अपने लंड का सुपारा भाभी  की चुत पर घिसने लगा।

जिससे भाभी आहहहह आहहहहह उईईईई आहहह  करने लगी ओर मेरे झटके का इंतजार करने लगी। थोडी देर घिसने के बाद मै धीरे से चुत मै डालन ेलगा । फिर एक जोर का झटका दिया जिससे मेरा आधालंड चुत मै घुस गया भाभी बहुत जोर से चिल लाई ।

भाभी आहहहह ईईईईईई मममी कूनदन धीरे करो बहुत दरद हो रहा है। मगर मैने नही सुना ओर एक झटका ओर दिया अब पुरा लंड चुत मै घुस गया ओर भाभी कि जेसे जान ही निकल गयी हो।

भाभी। आहहहह उईईईई धीरे करो बहुत दुख रहाहै।मेरी बुर फट जायेगी धीरे करो आहह उईईई बहूत मोटा लंड है तेरा  मगर मै झटके देता रहा भाभी   आहहह उईईई करती रही कुछ देर बाद भाभी को भी मजा आने लगा ओर वो भी नीचे से गांड उठा उठा कर चुदाने लगी

मै आहह  आहहह   भाभी बहुत मजा आ रहा है। भाभी   आहहहह ईई उई जोर से करो ओर जोर से जानू  आहह फाड दो मेरी चुत को आज बेबी      आहह ओर तेज   आहहहहह मै तेज झटके लगाने लगा । भाभी बस आहहह आहहहह इइईईईईई घई करती रही शायद भाभी अपने चरम पर पहुच  गई उनका बदन अकडने लगा ओर उनकी चुत ने अपना लावा उगल दिया ओर ठंडी पड गई   मगर मेरा नही हुआ था |

इसलिए मे लगा रहा उनकी चुत से फचफचा फच की बहुत ही सुरीली आवाज आरही थी। भाभी आहहहह ईईईई करती रही । कुछ देर बाद मेरा भी पानी  भाभी की चुत मै निकल गया जिससे भाभी की चुत पुरी भर गई  ओर मै निढाल होकर उनके ऊपर लुढक गया  एक अजब सा सुकुन था  | यह कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | कूछ देर बाद भाभी मेरे सर मे हाथ फिराने लगी । ओर मुझे चुमने लगी। उस रात मैंने भाभी को चार बार चोदा।

एक बार उनके बोबो को भी चोदा ओर बोबो पर ही माल भी निकाला ओर   एक बार उनकी गांड मारी उनकी गांड कि खुशबू बहुत ही मादक थी मैंने उनकी गांड को खुब सुंघा ओर चाटा मुझे उनकी गांड चाटना मै बहुत मजा आता है। ओर उनको मुझसे भी जयादा मजा आता हे मै आज भी उनकी गांड चाटता हु ओर उनको बहुत चोदता हु।

मुझे डरटी सेक्स करना पसंदहै।  जिसमे उनको बहुत मजा आता है वह कहानी फिर कभी लिखुंगा । अगर आपको मेरे जीवन की घटना पसंद आई  हो तो मुझे मेल करना ताकी मे अपनी बहुत सी कहानी आप लोगो के साथ शेयर कर सकू मेरी ईमेल। [email protected]