चार सेक्सी टीचर मिल मिल मेरा रेप कर डाली

बलात्कार जिससे आप सभी भली-भांति परिचित हैं ! आज तक बलात्कार केवल लड़कियों का ही हुआ है लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि किसी लड़के का बलात्कार हुआ है ! यह कहानी भी मेरे बलात्कार से जुड़ी हुई है।

यह बात तब की है जब मैं कॉलेज में बी.एस.सी फ़ाइनल कर रहा था! मैं हमारी एक गणित की मैम के घर ट्यूशन पढ़ने जाता था। वो मैडम दिखने में बहुत ही ज्यादा सुंदर थी तथा उनकी उम्र यही कोई 35-36 साल होगी। मेरी परीक्षा निकट आ रही थी, एक दिन मुझे गणित में कुछ परेशानी आई तो मैंने सोचा कि क्यों न मैडम के पास चला जाये सो मैं दोपहर के समय मैडम के घर चल दिया। वैसे तो अक्सर मैडम के घर कोई नहीं रहता ! मैडम के पति भी एक बहुत बड़ी कम्पनी में काम करते है तथा घर पर महीने दो महीने में एक बार आते हैं।

मैं मैडम के घर जाकर घंटी बजाने वाला ही था कि मैंने सोचा की पहले अन्दर देख तो लूँ कि अन्दर कौन-कौन है ! तो मैंने चाबी वाले छेद से देखा। मैंने देखा कि अन्दर दूसरे कॉलेज की तीन मैडम और बैठी हुई है! फ़िर मैंने देखा कि मेरी वाली मैडम ने टी.वी. ऑन करके एक सी.डी. चला दी।

मैंने कुछ देर और ध्यान लगाये रखा तो मैंने देखा वो अश्लील वीडियो थी! मैं भी आँख लगाकर उन्हें देखने लगा। तभी मैंने देखा कि चारों मैडमों ने अपनी अपनी कमीज़ तथा ब्रा उतार दी तथा वे एक दूसरे के बोबों को दबाने लगी, मुँह में लेकर चूसने लगी।

इससे मेरा लिंग भी काफी कड़क हो गया लेकिन मैं यह सब नहीं चाहता था, इसलिए मैंने घंटी बजा दी। मेरा घंटी बजाना ही था कि सबने हड़बड़ाकर अपने-अपने कपड़े पहन लिए तथा टी.वी. बंद कर दिया। सभी एकदम सामान्य हो गई, जैसे कुछ नहीं हुआ है।

उसके बाद मेरी वाली मैडम ने आकर दरवाजा खोला, मैडम के दरवाजे खोलते ही मैंने उन्हें नमस्ते किया। मैडम मुझे देखकर कुछ आश्चर्य-चकित सी हो गई! आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है l
मैंने मैडम से कहा- मैडम, मुझे गणित में कुछ प्रोब्लम है इसलिए मैं समझने यहाँ आ गया।

मैडम बोली- चलो आओ अन्दर आ जाओ !

तभी मैडम ने मेरी पैंट की तरफ देखा, तो शायद वो समझ गई कि मैंने सब कुछ देख लिया है। मैं मैडम के घर के अंदर जाकर सोफ़े पर बैठ गया। मैडम दरवाजा बंद करके मरे पास आई और बोली- तुम मेरे बैडरूम में बैठो क्योंकि यहाँ पर ये मैडम बैठी हुई हैं, मैं अभी 5 मिनट में अंदर आती हूँ।

मैं मैडम के बैडरूम में जाकर अपनी पढ़ाई करने लगा, मैडम उन तीनों से कुछ बात करने लग गई!

तभी मैडम मेरे कमरे में आ गई और मुझे पढ़ाने लगी। फ़िर उनको पता नहीं क्या सूझा, उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर अपने वक्ष पर रख लिया। तो मैंने गुस्से से मेरा हाथ हटा लया तथा मैडम से कहा- मैडम, आप यह क्या कर रही हैं, आप मुझसे काफी बड़ी हैं !

मैडम मुझसे कहने लगी- अगर तुझे पढ़ना है तो मेरा यह काम भी करना पड़ेगा ! मैं कुछ सोच में पड़ गया तथा मैंने फैसला किया कि यह काम गलत है, इसलिए मैं किताबें उठा कर बाहर जाने लगा।

तो मैंने देखा कि बाहर मुख्य-द्वार का ताला अन्दर से लगा हुआ है और बाहर जाने के सभी दरबाजे बंद है। मैंने सोचा कि शायद मैडम ने अकेले की वजह से लगा दिए होंगे।

मैंने मैडम से कहा- मैं जा रहा हूँ, दरवाजा खोल दो !

तभी बाकी तीनों मैडम पता नहीं कहां से मेरे सामने आ गई और मुझसे बोली- अभी से कहाँ जा रहे हो?

तभी पीछे से मेरी मैडम ने मेरा मुँह पकड़ लया और बाकी तीनों मैडमों ने भी मुझे पकड़ लिया, मुझे पकड़कर बैडरूम में ले गई।

मैं जोर जोर से कहने लगा- मैडम, यह क्या हो रहा है?

लेकिन उन चारों ने मेरी एक नहीं सुनी और मुझे ले जाकर बिस्तर पर पटक दया। एक मैडम ने मेरे दोनों हाथ पकड़ लिए तथा एक मैडम ने मेरे दोनों पैर पकड़ लिए। अब मैं उठ भी नहीं सकता था।तभी बची दोनों मैडमों में से एक तो मुझे चूमने लगी तथा दूसरी मैडम मेरे कपड़े उतारने लगी तो मैं जोर जोर से चिल्लाने लगा। तो एक मैडम रसोई में गई तथा चाकू लेकर आई, तब तक दूसरी मैडम ने मेरी पेंट उतार दी थी।

तभी चाकू वाली मैडम आई और मेरे गाल पर तीन चार थप्पड़ लगा दिए। मैं जोर जोर से चिल्लाने लगा तो एक मैडम वोली- अब तू चिल्लाया तो मैं तेरा लंड चाकू से काट दूंगी !उन्होंने मुझे चाकू दिखाते हुए कहा।

मैं बहुत ज्यादा डर गया और बिल्कुल चुप हो गया। अब तक दूसरी मैडम ने मेरे पैंट और शर्ट उतार दए थे, अब मेरे शरीर पर केवल चड्डी-बनियान ही थे, और ये मैडमो से उतर नहीं रहे थे।

तो चाकू वाली मैडम ने चाकू से मेरे चड्डी-बनियान काटकर अलग कर दिए। अब मैं बिल्कुल नंगा चारों मैडमों के सामने था।

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …..