विडिओज बनाकर नीग्रो जैसे लंड से चोदा

गतांग से आगे …..

2 मिनट बाद मेरी पूरी चूत गीली हो गयी लगा जैसे सास मे आग लगी हो आवाज़ ठीक से निकल नही रही थी रूपेश ने एक बार मेरे मूह मे लंड डालने की कोशिश की मैं दाँत लगाने का सोच ली पर एकदम से रूपेश रुक गया और मेरे दोनो पैरो को वी जैसे खोल कर मेरे पैरो के बीच आ गया .. उसने जैसे ही अपने लंड का टोपा मेरी चूत के मूह पर रखा मुझे लगा जैसे किसी ने गरम सरिया टच कराया हो मैं चूत हटाने लगी और कमर को मूव करती ताकि लंड पेल ना सके.. पर कब तक मैं अपनी खेर मानती रूपेश मेरे उपर चढ़ गया और अपने हाथ से अपने लंड का टोपा मेरी चूत पर रखा और बोला बोल पेल दू तुमको …

मैं: नही प्ल्ज़्ज़ नही मेरी छोटी इस चूत मे नही जाएगा..प्ल्ज़्ज़ मत चोद्न रूपेश स्माइल कर के मेरे कान के पास आया और बोला फिर से माना करो मैं: प्ल्ज़्ज़ मत पेलना प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ एकदम से रूपेश ने अपना टोपा मेरी चूत मे डाल दिया मैं आआआअहहहहहहहअअअअअहहहहहहहहहह; कर चीखने लगी उसकी चीखो को सुनके रूपेश और मस्ती मे आ गया मेरे सुंदर जिस्म को चूमना, चाटना, सहलाना, नोचना शुरु कर दिया। मैं;नही नही ; चिल्लाए जा रही थी लेकिन वो नही रुका रूपेश ने अपना तना बडा लंड मेरी की चूत मे थोड़ा और अंदर किया रखा और उसके बुब्स पकड के एक जोर का धक्का मारा।

आआआआआहहहहहहहहहह मैं ज़ोर से चीखी। मेरी रोलाई निकल गयी और मैं रोते जेया रही थी…. शायद अभी रूपेश का एक चोथाई लंड भी नही गया था पर मैं सच में दर्द से तड़प रही थी रूपेश ने और जोर से धक्का मारा और उसका लंड आधा अंदर चला गया। यह कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है। मुझे बिहोशी आने लगी और लगा जैसे किसी ने चाकू मार दिया मैं एकदम तड़प गयी रूपेश एक मिनट बिना लंड हिलाए मेरे बूब्स को चूमता रहा और और फिर तोड़ा सा लंड बाहर किया …कुछ लगा शायद रूपेश को तरस आ गया ..पर ये ग़लतफहमी भी अगले जोर से धक्के से दूर हो गयी रूपेश मुझे पेल ही नही रहा था बल्कि दर्द दे रहा था

उसको मेरे तड़प मे मज़ा आ रहा था मैं नही नही नही आँआँहाहाहाहा हा हा आँआँहाहाहाहा हा हा; कर अपना सिर हिलाते हुए फूट-फूट के रोने लगी और रूपेश बिना रुके लंड अंदर डालता रहा…एक बार रूपेश ने अपना पूरा लंड लगभग निकल दिया केवल टोपा ही था। यह कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है। फिर तूफ़ानी तेज़ी से दे मारा मेरी चूत ही नही लगा जैसे मेरी बच्चेदनि मे चोट लगी रूपेश ने मुझे हल्के हल्के 2 थप्पड़ मारे और बोला होश मे रह देख पूरा अंदर फिट कर दिया रूपेश ने सच मे 12 इंच का लंड और 3-4 मोटा लंड मेरी चूत मे पेल दिया था वो बात अलग थी की में कभी भी दर्द से बिहोश हो सकती थी…. आआआआआहहहहहहहहहह मैं चीख पडी।

अब रूपेश से रहा नही गया। वो मेरे पर लेटा और उसे प्यार करते हुए उसकी चूत मे अपना १२ इंच का लंड एक झटके मे पेल पेल कर चुदाई करने लगा; आआआआआहहहहहहहहह मुझेको रूपेश का लंड अपनी बच्चेदानी से टकराता प्रतीत हुआ। रूपेश अरे साली तेरी बच्चेदानी ना फट जाए मैं रोने लगी मेरी चूत की चुदाई करते करते मेरे होंठो को चूम रहे थे और साथ साथ मेरे बूब्स को भी दबाते जा रहे थे और मेरी निप्पल को अपनी उंगलियों के बीच मसलते जा रहे थे.

फिर मुझे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन में कुछ नहीं कर पा रही थी और वो नशा भी ऐसा था कि मेरे पूरे बदन में एकदम गर्मी छा गयी और मुझे उनका बदन भी गीला महसूस होता जा रहा था,मेरे रूम मे एसी चल रहा था पर जैसे कि वो पसीने में भीगे हुए है. वो मुझे हर जगह चूमते चाटते जा रहे थे और मेरी चूत में ज़ोर से लंड अंदर बाहर करते जा रहे थे और उन्होंने ऐसा लगभग 30 मिनट तक किया होगा. मैंने आँखे बंद की और बदन ढीला किया रूपेश मेरी सिसकियो को पूरा एंजाय कर रहा था फिर में उसकी चूत में लंड को अंदर बाहर करने लगा.. उसका दर्द भी कुछ कम हो रहा था और उसको भी मज़ा आने लगा. में उसको अब ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा..

हर झटके के साथ मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था..लगभग 1 घंटा लगातार उसने चोदा.. और मेरे बूब्स को हाथों से मसल रहा था. उसके बूब्स पर मेरे हाथों के निशान बन गये थे और उसकी चूत फूल गई थी. अचानक मुझे मेरे पेट के अंदर गरम पानी भरने जैसा महसूस हुआ फिर हम एक साथ झड़ गये.. में उसके ऊपर ही गिर गया. यह कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है। मैं अपनी चूत मे रूपेश का वीह से भर गयी थी रूपेश ने मेरा हाथ खोला और मुझे अपनी बाहो मे भर कर बोला कुतिया जैसे तुमको मैं चोद दिया बोल किससे बोलेगी तू… मैं : सबसे बोलुगी.. पापा मा और पोलीस रूपेश : बोल दो मैं बिना तेयरि के थोड़ी हूँ तुमको चोद्ते टाइम मैं पूरा वीडियोस बना लिया हूँ और जिस दिन तुम मूह खोली मैं ये वीडियोस दुनिया दे देखने के लिए लोड कर दूँगा में वॉशरूम जाने को उठी बेड पर चूत से निकला खून का दाग.

मैं ठीक से थोड़ा सा चल भी नहीं पा रही थी.. मैं रूपेश को देखकर बोली कि तुमने तो मुझे चलने के लायक भी नहीं छोड़ा और मुझे सड़क कि कुत्तिया की तरह चोदा. मैं बातरूम मे गयी अपनी चूत की हालत देख रोना रुक नही रहा था पीछे से आवाज़ आई सुप्रिया आ जा जिल्दी पूरी रात चुदाई करनी है तेरी और रूपेश मुझे बातरूम से वापस उठा कर ले गया बेड पर गिरा कर फिर से चुदाई शुरू उस रात रूपेश मुझे 5 बार चोदा और हर बार अपना वीय मेरे अंदर ही डालता सुबह 5 बजे थे रूपेश मेरे रूम से बाहर निकल गया और मुझे एक पेन किल्लर दे गया मैं कपड़े पहनी और दवा खा ली नेक्स्ट दे मेरी नींद बूब चूसने के अहसास से हुवे मेरी आखे खुली रूपेश बोला मम्मी ऑफीस गयी मैं सोचा तोड़ा नाश्ता कर लू …

वो 1 महीना रूपेश मुझे दिन रात चुदाई करता रहा पर दिमाग़ तब खराब हुआ जब मुझे पीरियड नही आए मैं समझ गयी कुछ तो गड़बड़ है मैं रूपेश को बताई तो बोला बधाई हो मेरी रंडी मा बनने वाली है मैं बहुत रोई इस बार रूपेश को तरस आ गया और वो मुझे एक डॉक्टर के पास के गया मेरा पति बन कर और सारी बात बताई डॉक्टर ने टेस्ट किए मैं प्रेग्नेंट थी .. डॉक्टर ने एक दवा दी बोला इससे बच्चा गिर जाएगा पर इसको खाने के बाद 4-5 दिन तबीयत खराब रहेगी रूपेश ने मुझे मुझे पूरे हफ्ते आराम करने दिया… पर मेरे ठीक होते फिर मेरे साथ दुर्कम शुरू कर दिया |

मेरी शादी होने के पहले तक रूपेश ने शायद ही मुझे किसी एक दिन ना चोदा हो .. बल्कि जिस दिन मेरे शादी थी उस दिन सुबह मुझे चोदा | मुझे अब अपने मयके जाने मे डर लगता है क्यूकी रूपेश अब भी काम करता है और आज भी वो अपने पास मेरा वीडियोस रखा है और मुझे . चोदाना जैसे उसके लाइफ का ड्रीम वर्क है।