नवीनतम कहानियाँ

नयी नयी कहानिया (Resent Updated)

  • जवानी के निशानी के लिए बुर चुदवानी पड़ती है- जब मैं उसकी बाहों में गई तो उसने मेरे स्तनों को दबाना शुरू किया और मेरे होठों को चूसना शुरू किया मेरे अंदर की गर्मी बढ़ने लगी थी, मैं अपने आप को काबू में ना रख सकी। उसने मेरे स्तनों को चूसना शुरू किया तो मेरे शरीर से गर्मी अधिक मात्रा में बढने लगी
  • भाभी की बेचैनी को समझ गया- मुझे उनकी साफ चमकती हुई रस से भरी कामुक गुलाबी चूत नजर आ गई. वो दिखने में ऐसी नजर आ रही थी कि जैसे वो कब से मेरे लंड का इंतज़ार कर रही थी और उसी समय मैंने उसका वो इंतज़ार खत्म किया और मैंने अपने लंड का टोपा उनकी खुली हुई चूत पर लगाकर चूत के दाने को रगड़ने लगा
  • दीदी की भारी गांड की चुदाई- मैंने दीदी की बूर को फैलाया और अपना 7” का लौड़ा पेल दिया. दीदी बहुत जोर से चीखी. पर मैंने २-३ धक्को में पूरा लंड बूर में डाल दिया। फिर मैं दीदी को बहुत तेजी से चोदने लगा.. मेरा लंड दन दनाता हुआ दीदी को बूर चोद रहा था. हर एक शॉट के साथ दीदी की मॉनिंग बढ़ रही थी..
  • मासूम सी दीदी की कामुक कहानी- में उसे ग्रुप में चोदू लेकिन ये भी चाहता था पहली बार में ही सील तोड़ू जोकि मेरा सपना ही रह गया लेकिन ग्रुप सेक्स करने के रास्ते खुल गए उसकी बातें सुनते सुनते मेरा लंड खड़ा हो चुका था
  • घर की चाचियो की चुदाई मेरी ज़िम्मेदारी- में अब उसको अपनी तरफ से मस्त मजेदार धक्के देकर उसकी चुदाई करने लगा था कुछ देर धक्के देकर में अब उसकी चूत में झड़ गया। फिर मैंने अपना पूरा गरम ताज़ा वीर्य उसकी चूत की गहराइयों में अपने तेज धक्को के साथ डाल दिया था और उस दिन मुझे बहुत मज़ा आया।
  • कविता भाभी की कामान्ध वासना की तृप्ति- मैंने लंड अंदर बाहर करना शुरू किया और वो आह ऊह् की सेक्सी आवाज करने लगी और जिससे मेरी स्पीड और तेज हो गयी वो कहने लगी चोदो मुझे, हहहाहा और तेज और तेज और में बहुत तेज-तेज चोद रहा था और करीब आधे घंटे के बाद में झड़ने वाला था तो उन्होंने कहा कि मेरी चूत में ही झड़ जाओ
  • ससुरजी के लंड का राज आ गया- 2- मैं भाग कर उसके पास लेट गई और उसके मुहँ में चूची दे दी, वह चुपचाप दूध पीने लगा. पापाजी भी मेरे पास आकर लेट गए और मैंने बेटे को दूध पिलाने के साथ साथ एक हाथ से पापाजी के लण्ड को भी पकड़ लिया.
  • चौकीदार के साथ मैंने भी मम्मी को चोद दिया- 2- उसने मम्मी के मुँह को पकड़कर अपना लंड मम्मी के मुँह में दे दिया और मैं मम्मी की चूत को चाट चाट कर चिकना कर रहा था. फिर फिरोज़ ने अपना लंड मम्मी के मुँह से निकाल कर उसकी चूत पर लगा दिया.उसका लंड टोपी दार था. उसने पहले झटके में ही आधे से ज्यादा लंड मम्मी की चूत में डाल दिया. मम्मी की चीख निकल गयी।
  • प्यासी चुत को अब ग्रुप मे लंड मिलने लगे- निखिल ने अपना लण्ड चूत से बहार निकला व चूत में थूक लगाकर चूत को और चिकना करके अपने लण्ड का सूपड़ा चूत में डाल दिया और मेरी कमर पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से चूत मरने लगा. चूत से फच -फच की आवाजें आ रही थी
  • ससुरजी के लंड का राज आ गया- 1- अपने जिस्म की नुमाइश करती हुई उनके पास आकर उनके हाथों को पकड़ा और अपनी चूचियों पर रख दिए. फिर उनके लण्ड महाराज को पकड़ कर हिलाती हुई बोली- पापाजी, अब तो आपका यह महाराज भी गर्म है और मेरी महारानी में भी आग लगी हुई है