जीवन साथी बनी मां- 2

दोस्तों मैं अनिल कुमार अपनी मां उषा देवी  के साथ बीती सच्ची घटना को कहानी का रूप देते हुए “जीवन साथी बनीं मां” का दूसरा भाग आप लोगों के बीज प्रस्तुत करने जा रहा हूं दोस्तों पहले भाग में आपने पढ़ा होगा कि मैं कितने संघर्षों और कड़ी लगन मेहनत के साथ अपनी मां को प्यार करने के लिए मजबूर कर दिया. मां मेरे प्यार में बदल गई. अब उसको समाज और रिवाज का  डर खत्म हो गया है. अब मैं रोज मां को अपनी बाहों में लेकर सोता हूं. उनकी चुचियों को मसलता हूं और दिन भर में कई कई बार चुदाई करता हूं.

अब  तो पूरा खुल गई है  सोया रहता हूं तो खुद ही मेरे लौड़े को पकड़ लेती है और चूसने लगती .हैं मां को लंड के लिए इतना खुराफाती है कि मैं कभी सोचा नहीं था कभी ऐसा होगा.

एक बार तो ऐसा हुआ कि मां मुझे बिस्तर में बांध दिया  और मेरे सारे कपड़े उतार दिए और खुद नंगी हो गई. मेरी नींद खुली तो मैं देखा मां अपने चूत को मेरे मुंह पर रगड़ रही थी. मैं मन में इतना खुश हुआ  मां को कभी इन चीजों से लड़के के साथ जुदाई करने में इतना डर बना हुआ था. आज वह मां खुद  चूदाई का इंजॉय ले रही है और अपने बेटे को सुख दे रही है मुझे समझ नहीं आता मेरा लंड मां के नाम के सोचने मात्र से ही हमेशा तैयार रहता हैं मां मेरे मुंह पर अपने चूत का पानी गिरा दिया और जोर जोर से कह रही थी.

मां चूत के गंगाजल को पहले पी ले बेटा तुम्हारी जिंदगी धन्य हो जाएगी, और  चूत को मेरे मुंह पर रख दिया और कुछ देर बाद मेरे मुंह में पेशाब कर डाली, मैं पहली बार मां की खारे नमकीन पानी को गटक गटक का पी गया मानों वह अमृत से कम ना हो ,, मां बोली मेरा बेटा मैं हर चीज को  नजायाज नहीं होने देता.

आज मेरे राजा ने मेरे समंदर के खारे पानी को भी पी लिया मैं बोला हां रानी यह तो बहुत छोटी बात है. मैं तुम्हारे लिए किसी भी पानी को पीने को तैयार हूं  फिर मां ने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और कहने लगी बेटा अपना खारा पानी अपनी मां के मुंह में डाल दे. मैं भी मां के मुंह में पेशाब करने लगा मटक मटक कर सारा पानी पी रही थी और कुछ पानी उसके मुंह और सूचियों पर टपक रहे थे. इसके बाद मां मेरे लंड** को चुत** में डाल दिया जोर जोर से चोदने लगी मैं नीचे रस्सी में बंधा हुआ नीचे से हल्का हल्का अपने लंड* को उछाल मार रहा था ऊपर से मां जोर जोर से अपने चूतड को हिला रही थी. अब बोल रहे थी चोद बेटा अपनी मां को अब तो हम सब रिश्ते भूल गए बस एक ही रिश्ता याद है वह भी सिर्फ चुदाई का जो मेरा बेटा पति बनकर अपनी मां के सारे  अरमान को पूरा कर रहा है. मां जोर जोर से चिल्ला रही थीं, चोद चोद बेटा अपनी मां को चोद बेटा अपनी मां को मां की चूत को  स्वर्ग का रास्ता दिखा  चोद बेटा  बेटा चोद बेटा अपनी मां को चूत का पानी और मेरे लौड़े का पानी एक साथ ही गिर गया हम दोनों शांत होकर चिपक कर सो गए.

मुझे 1 महीने पहले मां ने बताया कि मैं तुम्हारे बच्चे की मां बनने वाली हूं क्या करूं मुझे बहुत टेंशन हो रही है तुुुुम दवा लाकर दे दो ,  बच्चे को गिरवा दो लेकिन मैं नहीं माना मैं बोला मेरे प्यार की पहली निशानी है. यह हमाराा बेट होगा मां बोली सब तो ठीक है लेकिन हम सबको बताएंगे क्या हमें तो घर पर जाना ही पड़ेगा मैं बोला मैं बच्चे का बाप हूं, तो मेरी जिम्मेदारी है इसके भविष्य के लिए मुझे सोचना पड़ेगा तुुुम टेंशन ना लो, अपने गांव गया मां को भी साथ लेे गया.
जमीन को बेच दिया गांव वालों को यह बोला कि मैं दिल्ली में जमीन खरीद रहा हूं और बिजनेस डाल रहा हूं, जमीन बेचकर अपने मामा के घर मम्मी को लेकर गया और मां से बोला मां अंतिम बार मुलाकात कर लो इसके बाद अपनेेेे बच्चे के लिए हमें अपने पुराने समाज को हमेशा के लिए छोड़ना पड़ेगा हम बच्चे को एक नई दुनिया देंगे और उससे बताएंगे तुम्हारे लिए हम लोग क्या-क्या किए हैं. मां से बोला मामा लोग को यह मत बताना कि हम  अमदाबाद रहते हैं तुम मामा लोग को यह बता देना हम दिल्ली में मकान ले रहे हैं, मामी मांं को देख कर बोली आप तो जवान हो गई हैं ऐसे लग रहा है कि आपकी उम्र कम हो रही है.
पड़ोस के एक औरत बोली की अब टेंशन दूर है ना लड़का कमा रहा है और इनका ध्यान दे रहा है, मामा मां से बोले रहे थे कि तुम अपने लड़के की शादी करोगी एक बहुत सुंदर लड़की मेरे दोस्त की है बताओ तो इसी समय रिश्ते की बात की जाए, मां बोली पहले मैं उससे पूछ लु वह क्या करना चाहता है उसके बाद फैसला कुछ लियाा जाए. मामा मुझको ही बुला लिया और कहने लगे तुम शादी अब कर लो , मैं बोला ठीक है तो बताओ अगर करना चाहते हो तो आज ही बात की जाए, मैं बोला ठीक है दिखाइए बात कर लिया जाए.
मां मुझे आश्चर्य से देख रही थी मानो उसके ऊपर कोई पहाड़ गिर गयाा हो वहांं से उठ कर बाहर चली गई. मां के बाहर जाने के बाद मैं मामा से बोला मामा अभी मैं 2 वर्ष शादी नहीं करूंगा क्योंकि मुझे घर और अपने बिजनेस को पहले मजबूत करना है उसकेेे बाद में शादी करूंगा, मामा बोले शादी कर लो बिजनेस तो होता रहेगा. मामा को कहां पता था कि मेरी शादी हो ही चुकी है. जो मेरे सारे अरमानों को पूरा करती है मैं.  मामा से बोला नहीं मामा मेरे 2साल  बाद ही करूंगा.  बोले ठीक है जैसी तुम्हारी मर्जी, मैं मां के पास गया मां की आंखोंं में आंसू थे वह बोली मुझे दवा लेनी है . ठीक है मैं मामा से कहा केि मां को दवा दिलाने के लिए जा रहा हूं मामा बोले तुम रहो यहीं पर मैं दिला आता हूं मां मामा की बात काटते हुए बोली नहीं मुझे कुछ सामान भी लेने हैं. इसे ही जाने दीजिए मामा ठीक है लेकिन जल्दी से दिला कर आना कोई दिक्कत हो तो कॉल कर लेना.
कुछ टाइम मां नहीं बोली उसके बाद कहने लगी तुम भी तो आखिर मर्द ही निकले धोखेबाज की तरह मैं तुम पर विश्वास कर ली, समाज भगवान और रिति रिवाज सब भूलकर मैं प्यार  कर रही थी कि मेराा बेटा मुझसे प्यार करता है जो मेरे लिए पुरी दुनिया की समाज की परवाह नहीं करता है. जो मेरे बिना जीने के लिए तैयार नहीं था. आज मुझे अपना गिरगिट का रंग दिखा रहा .है तुम्हें अगर यही करना था तो इस बच्चे को क्यों लाना चाहते थे. तुमने मेरे साथ ऐसाा क्यों किया मैं तुमको कह रही थी. यह ठीक नहीं है. तुमने बहुुुत प्यार का नाटक मेरे साथ किया तुमने आज मुझे तोड़ दिया मर्द  जाति दिखा देी.
चलो इस बच्चे को गिरवा दो और आज केे बाद तुम्हारा हमारा सारा रिश्ता खत्म तुम जाओ जहांं रहना रहो और शादी करो मैं तुम्हारेेे साथ नहीं जा पाऊंगी क्योंकि मुझेेेे ऐसे आदमी के साथ नहीं रहना जिसकी बातों का भरोसा ना किया जा सके. मैं कहने लगा अरे जानू गुस्सा क्यों होते हो चलो मामाा से पूछो क्या बात हुई है मैंं तुमको छेड़ रहा था कि मम्मी को क्या होता है. मम्मी रोने लगेी मुझे गले लगाकर, बोली बेटा मेरा कुछ नहींं बचा है। मैं अकेली नहींं जी पऊंगी अगर तुम मेरा साथ छोड़े तो मर जाऊंगा लेकिन इस दुनिया में नहीं रहूंगी मां गले लगा कर बोला शांत हो जाओ मैं भी तुम्हारे  बिना नहीं जी पाऊंगा मांं को लेकर घर चला आया, मां मुझसे बोली  मुझे अब  नहीं रहना है यहां मुझे जल्दी से ले चलो मैं बोला ठीक है शाम को हम सब खाना खा रहे थे. मां मामा से पूछा क्या बोला है शादी करेगा कि नहीं करेगा मामा बोले कि अब यह नहीं कह रहा हैै कि तुम उसको समझाओ मांं बोली  शादी इसी साल कर दूंगी.
 हम  लोग अहमदाबाद आ गए मां आप को अब शादी में देरी नहींं करना है. अगले महीने मुझे शादी करनी है चाहेे जैसे पंडित से मुहूर्त निकाल के किसी मंदिर मेंं हम  शादी करते हैं मैं मां से बोला कि पहले हम एक फ्लैट लेते हैं. अपने मकान में एक पत्नी-पति तरह खुलकर जीवन जिएंगे और दिखलाा देंगे प्यार क्या होता है मां मान गई 1 महीने के अंदर है हम एक फ्लैट ले लिए, मांं के लिए शादी का जोड़ा और आभूषण सब खरीदा सुहागरात केे लिए नाइटी ब्रा बिकनी दर्जनों खरीदा में जमीन बेचने आया था. मेरे पास फ्लैट खरीदने के बाद भी काफी पैसे बचे थे. मैं जिंंदगी में एक बार शादी करनाा चाहता मुझे अफसोस ना हो पैसे की वजह से हम अपनी शादी कोई कोताही करें. हम शादी बहुत धूमधाम से आर्य समााज मंदिर विधि विधान से कर ली और अपनी मां को अपनी पत्नी  बना लिया, मां लाल जोड़े में किसी अप्सरा से कम नहीं लग रहे थे मां मुझे पकड़ कर रोने लगी मैंं बोला क्यों रो रही हो.
अब तो हमारी सारी ख्वाहिशें पूरी हो गई है ना मां बोली खुशी के आंसू हैं और पगले तुम मुझे मां मत बुलाया करो. अब अपनी रानी बुलाया करो मैं बोला तुम मेरी मां हो रानी भी हो पत्नी हो…
अब हम अपने घर आ गए नए घर जहां आज मेरी जिंदगी की  की नई शुरुआत हो रही है मैं अपने मां को पत्नी के रूप में पाकर मानो संसार की सारी खुशियां पाली हो, हम अपने मकान में सुहागरात मना रहे है और उस रात से  मां के सारे कपड़े उतार कर और 4 दिनों तक छुट्टी ले लिया और मां को 4 दिन तक कपड़े नहीं पहने दिया नंगा ही उन्हें घर में रहने को कहा और उनके मेराा मन जो भी करता था  मां के चूत में अपना लंड दे देता था और उनको बाहों में भर कर चुचियों को मसल ने लगता था. मां जैसेेेे 20 की हो  पति को पा कर संसार की सारी खुशियां मिल गई हो मां बहुत खुश दिख रही थी, मां मुझसे कहने लगी मुझे गोवा ले चलो. वहां मैंं तुम्हारे साथ तुम्हारे साथ एंजॉय करूंगी. सब लोगों के बीच में बिकनी और ब्रा में तुम्हारे साथ समुंद्र की के पानी में नहाना चाहती हूं. हर लड़की का भी यही सपनाा होता है. लड़किया शादी करने के बाद अपने पति के साथ हनीमून मनाने कहीं ना कहीं जाती हैं मेरा भी सपना है कि मेरा पति भी मुझेेेे हनीमून मनाने के लिए कहीं ले जाएं, मां कि इच्छा कैसे अधूरी रख सकता था.
मैं भी हनीमून  केे लिए फ्लाइट से दो टिकट निकलवा लिया और हनीमून मनानेे चला गया. वहां हम पति पत्नी समुंदर केे बीच बीच पर खूब इंजॉय की वहां पर मां बिकिनी ब्रा पर मेरे साथ समुंदर में खूब मजा किया .कोई हम लोगोंं को देख कर ही बता देता यह लोग बहुत एक दूसरेेे से प्यार करते हैं अब तो मैं काम पर जाता हूं तो खाना बना के  लंच बॉक्स तैयार करती है और मुझे जाते वक्त किस करती है और मेरे पैर को छूती है. मुझे पति धर्म का सब कुछ सिखा दी है. दोस्तों मेरी कहानी कैसी लगी आप लोगों को मुझे जरूर बताएं….