Mummy ki Burfar chudai Badi Mausi k sasur se

mummy ki bur ki rass tip tip gir rahi thi aur mummy dard se karahti hui bol rahi thi aaahhh maaarrr gyi plz chhor dijie sasur ji marr jaaungi aahhh aur ye sab dekh mera loura kadak tite ho gya tha aur mai mera loura hilaate hue dekhne lga aur kashiram mummy ki dono chuchio ko blouse k upar se nikal k masalte hue

भईया की नजर मेरी चूचियो ओर गांड की उभार पे

मेरा दिल कर रहा था कि खुद ही लण्ड चूत में डाल लूँ और गाण्ड उपर उठाने लगी। भईया समझ गये कि मैं तैयार हूँ और उन्होंने कमर पकडकर एक झटका मारा। उनका लगभग 3 इन्च लण्ड चूत में चला गया। मेरी न चाहते हुए भी चीख निकल गई- आ अ म मर गई ई . .भ भईया न निकालो ओ !
भईया ने मेरे हाथ पकड़े और होंठ अपने होंठों में दबा लिए। मेरी आवाज मुँह में ही रह गई

जिस्मानी होने की चाह हर किसी को होती है

सर्वेश लॉन में बैठा था. वो भाग कर उसकी बाहों में जा समाई, दोनों के होंठ मिल गए.. सर्वेश ने उसे गोद में उठाया और अंदर ले आया और धीरे से सोफे पर लिटा दिया. दोनों सोफे पर ही चिपट गये… कब उनके कपड़े उतर गए, कब दो शरीर एक हो गए… दोनों के चेहरे एक दूसरे के थूक से चमक रहे थे… दोनों की जीभें पूरे चेहरे पर घूम रहीं थी. सर्वेश ने पूरी गहराई तक जाकर उसकी चुदाई की थी

अनु की चुत का चबूतरा बना दिया

मैंने उसके चूचुकों को भी चुसना शुरू किया- चूचुकों पर जीभ घुमा रहा था, उसके बूब्स मेरे हाथो में मचल रहे थे और मैं चूचुकों के आगे पीछे गोल गोल जीभ घुमाते हुए बूब्स चाट रहा था। उसी दौरान मेरा लण्ड उसकी चूत पर रगड़ रहा था… उसकी चूत का गीलापन मेरे लौड़े पर महसूस हो रहा था, लौड़ा मस्त हुए जा रहा था.. बूब्स गोरे से लाल होने चले थे

बुआ के लडके की चुदाई

मैं पहले भी एक भाई के लण्‍ड से चुद चुकी थी लेकिन इस बुआ के बेटे के चोदने के तरीके से मैं बिल्कुल मदहोश हो गयी थी और इतनी अच्छी चुदाई मेरी आज तक मेरे भाई ने भी नहीं की थी। उसका जोश इतना ज़्यादा था कि वो मुझे आधे घंटे से भी ज़्यादा समय से वो मुझे अलग-अलग स्टाइल में लेकर चोदता रहा। कभी घोड़ी बनाकर तो कभी मुझे अपने लण्ड पर बैठने को बोलते

गर्लफ्रेंड को बेस्ट फ्रेंड से चुदवाया

मै सुचिता को लिटा कर किस करने लगा और सुमित ने भी कपडे निकल कर हिलने लगा तो मैंने कहा की देखो सुमित कैसे हिला रहा रहा . तो सुमित ने कहा की भाभी बूब्स बस टच कर सकता हु क्या तो सुचिता ने कुछ सोचा फिर बोली ओके कर लो टच . फिर मैंने सचिता की छूट में अंगुली करना सुरु कर दिया सुचिता पागल होने लगी और पास में ही सुमित भी बैठ का कर लंड हिला रहा था तो सुचिता ने उसका लंड पकड़ कर हिलने लगी

ओरल प्यार करना कितना मजेदार है

मेरा लौडा़ स्वीटी की प्यार भरी बातों को सुनकर भन्नाता हुआ ठन्ना-ठ्न्नाकर लहरा रहा था और वह प्यार से तसल्ली देती अपनी मुट्ठी से सहलाती हुई अपने होठों के बीच चूसती और निगलती जा रही थी मुझसे सहा नहीं जा रहा था आओ भाभी, अब हो जाने दो” कहकर मैने स्वीटीभाभी के कन्धों को दबाते हुए पटक दिया. उसकी पानी-पानी हो रही चूत की फांक पर

पति से मजेदार पति के बाप का लौड़ा

उन्होंने मेरे होंठों पर गहरा चुंबन अंकित कर के मुझे अपने से अलग कर दिया. वे मेरा निःवस्त्र बदन देखना चाहते थे. इसलिए स्वयं ही दो फुट पीछे सरक कर मेरे बदन का अवलोकन करने लगे. कुछ छण बाद वे बैठ गये फीर थोड़ा उठ कर उपर से निचे तक नजर दौड़ाने लगे.

कैसे नंगा कर इसके यौवन का रसपान करू

काफी फूली हुई थी उसकी चूत, एकदम डबलरोटी की तरह! दूसरे संतरे को मुंह में लेकर चूसने लगा तो वो मेरे गर्दन और पीठ पर जोरों से हाथ रगड़ने लगी। फिर मैंने साये का नाड़ा खोलकर जैसे ही शरीर से उसे अलग किया तो उसकी चिकनी, बेदाग, दूधिया गठी हुई जांघों को देखकर तो मैं अपने होश ही खो बैठा, लगा कि इसकी चुत मारने से पहले ही लंड वीर्य की पिचकारी मार देगा

मेरी जवानी देख मम्मी भी जवानी के मजे लेने लगी

मैंने उसका लण्ड काफ़ी देर तक चूसा… इतना कि मेरे गाल के पपोटे दुखने से लगे थे। फिर मम्मी ने बताया कि लण्ड के सुपारे को ऐसे चूसा कर… जीभ को चिपका चिपका कर रिंग को रगड़ा कर… और… मैंने अपनी मम्मी को चूम लिया। उनके दुद्दू को भी मैंने सहलाया। “मम्मी… लण्ड लेने से दर्द तो नहीं होगा ना