छोटी बहन की चूत एक बार जरुर मारूँगा

जब में उठा तो मेरा लंड खड़ा हो चुका था और मैंने सोते हुए ही क्रिश्टी को चोदना शुरू कर दिया.. वो जाग गयी और उसने भी मेरा पूरा साथ दिया और में फिर से उसकी चूत में झड़ गया और इसके बाद मैंने क्रिश्टी को गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया.. क्योंकि उससे खुद चला भी नहीं जा रहा था.. वहाँ पर जाकर मैंने उसकी चूत साफ की और उसको अपने हाथ से नहलाया और उसके बाद हमने बाथरूम में भी सेक्स किया

सेक्स संबंध से जरा हटके

उस समय तक पूरा शरीर थक कर चूर-चूर हो चूका था. एक, उपर से लम्बी यात्रा की थकान; दूसरी, रात भर की अनिद्रा. ऐसा लग रहा था मानो शरीर का पुर्जा-पुर्जा ढीला हो गया हो. लेकिन लोगों का आना-जाना जारी था. जल्दी-जल्दी, घर साफ़ कर पहले जैसी साफ-सुथरी अवस्था में लाने की कोशिश कर रही थी मिष्टी

शेठ की बीवी और बहु दोनों ने लेना चाहा

उसके लाल लाल होंठो को मैं दांतो से चबाने लगा और उसका मुख रस अपने मुँह मे लेने लगा. मैने सेठानी को बोला “तुम यहा आई अपनी मर्ज़ी से हो जाओगी मेरी मार्जिसे रंडी” और वो थोड़ी डर सी गयी. मैने उसकी सारी खोलने लगा. जैसे ही सारी खोल रहा था उसका वो असीम सौन्दर्य अपनी खुली आँखो मे समाने लगा, अब मेरे लंड के सूपदे से पानी निकलने लगा

अनजान औरत की जानपहचान कर चुदाई

मैंने उनको गोद में उठा लिया और उनको बेड पर ले जाकर लिटा दिया मैंने एक – करके उनके सारे कपडे निकाल दिए और उनको नंगी कर दिया | उन्होंने ने भी मेरी पैंट को निकाल दिया और मेरे लंड को निकाल कर सहलाने लगी | अब हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये वो मेरे लंड को चूसने लगी और मैं उनकी चूत के दानो को अपनी जीभ से सहलाने लगा

बुआ अपने यार से चुदकर मुझसे चुदी

मैं उसके बड़े बूब्स को हाथ में पकड कर दबाते हुए उसके एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा | मैं उसके दूध को चूसने के साथ में उसके एक दूध पर जोर जोर से हाथ मार रहा था | जब मैं उसके दूध पर हाथ मारता तो वो आ अ अ… अह अह अह अह…. हूँ हु ह ह ह….. की आवाजे करती हुई मेरे सर को दबा रही थी | मैं उसके एक दूध को मुंह में रख कर चूसने के साथ में उसकी गांड पर हाथ मारने लगा

बहु से लंड चटवा चटवा के उसकी चूत मारा

मैं उसकी चूत को जीभ से रगड़ते हुए जोर जोर से चाटने लगा और चूत कि झिल्ली को भी होंठ में दबा कर खींच खींच कर चूसने लगा तो वो आआहा ऊउन्न्ह हाआअ करते हुए मदहोश होने लगी | फिर मैं उसकी चूत को ऊँगली से अन्दर बाहर करते हुए चोदने लगा उसके बाद मैंने अपने मोटे लंड को उसकी चूत में रगड़ते हुए अन्दर डाला तो आधा ही गया होगा कि उसकी चीख निकल गई पर उसने लंड बाहर निकलाने को नही कहा

ताऊजी के थिरकते हुए लंड

क्रीम अपनी धोती में घुसा कर अपने लंड पर रगड़ लिया. उसपर लगी क्रीम ताऊ जी के लंड पर चिपक गयी और ताऊ जी के लंड का पानी क्रीम रोल पर.. जब दोनो बाहर आई तो ताऊ जी ने बिस्कुट के पैकेट के साथ वो क्रीम रोल भी उन्हे थमा दिए और बोले : “ये लो , ये स्पेशल तुम दोनो के लिए है

वासना की प्यास जगी तो चुद्वाकर बुझी

मैं धीरे धीरे पंकज को अपनी नंगी फोटो भेजना शुरू की और कुछ दिन बाद वो भी अपने लंड की फोटो मुझे भेजने लगा | ऐसे कुछ दिन तक हम यूँ ही अपनी फोटो एक दुसरे को भेजते थे और कभी कभी कहीं बाहर जाते थे तो किस कर लिया करते थे | कभी कभी मैं पंकज को अपने दूध भी दिखा दिया करती थी और उससे अपनी चूत पे हाँथ रखवाती थी

मुझे उसकी गांड चाटने का मन हुआ

मैंने भी अपने कपडे उतारे और उसको भी नंगा किया और पहले तो उसके मखमली नंगे बदन को देखा | फिर चूमा और उसके बड़े दूध चूसने लगा | उसके बाद मुझे उसकी गांड चाटने का मन हुआ तो मैंने उसकी गोरी गांड अन्दर तक चाटी | वो ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह जैसी आवाज़े निकल रही थी | उसने मेरा मुंह उठाया और अपनी सपाट चूत पे रख दिया

गांड में लंड और चूत में जीभ डाल चोदा

वो मेरे पास आया और एक ही बार में, मेरी नाइटी फाड़ दी और मैं एकदम से नंगी हो गयी. मुझे नाइटी के नीचे ब्रा और पेंटी पहन कर सोने की आदत नहीं है. उस दिन लाइट चले जाने की टेंशन में, मुझे कुछ ध्यान ही रहा. मोमबती में मेरा शरीर सोने के जैसे चमक रहा था. उमेश मुस्करा रहा था और उसकी आँखों में एक चमक थी