अब रंडी को न चोदना अब सिर्फ भाभी को चोदना

संदेश प्रजापतिअपनी इस फ्रेंड को बार बार घर पर ले के आता था. रश्मी भाभी तो पहले दिन से ही सब खेल समझ गई थी. बस पूखता सबूत नहीं थे उसके हाथ में. आज जब संदेश दोपहर में अपनी फ्रेंड मियरा के साथ घर पर आया तो रश्मी ने उन्हें ऊपर के कमरे में जाते हुए देखा.. आज रश्मी ने सब बंदोबस्त जमाया हुआ था. पड़ोस के कमरे की वेंटिलेटर को हटा के वो ऊपर चढ़ी. और अन्दर देखा तो चोदमपट्टी चालु हो चुकी थी.

वो लड़की मियरा संदेश का लंड बहार निकाल के उसे चूस रही थी. पढ़ाई का बहाना कर के वो दोनों कमरे में साथ में घुसते थे. और दोनों के बगल में खुली हुई किताबे अभी भी पड़ी हुई थी. वो लड़की अपने बूब्स खुद दबा रही थी संदेश का मोटा लंड चूसते हुए.

देवर संदेश का लंड देख के रश्मी की आँखे भी एक मिनिट के लिए खुली की खुली ही रह गई. वो लंड पूरा 7 इंच का था और मोटाई भी 2 इंच से अधिक थी. रश्मी ने ऊपर से ही संदेश को कहा, देवर जी किताबें तो बंद कर लेनी थी.

आवाज सुन के मियरा ने जल्दी से मुहं से लंड निकाला और संदेश ने भी फटाक से उसे पेंट में घुसा के ज़िप को खिंचा. लेकिन वो दोनों जानते थे की अब बहुत देर हो चुकी थी क्यूंकि रश्मी भाभी ने सब कुछ देख लिया था.

रश्मी वहां वेंटीलेटर से उतर के कमरे के पास आई. हल्का नोक किया और संदेश ने ही खोला.

रश्मी ने अन्दर आ के दरवाजा लोक किया. मियरा ऊपर भी नहीं देख पा रही थी.

रश्मी बोली, देवर जी काफी दिनों से इस लड़की के साथ गुलछर्रे उडाये आज पकड में आये. अब आप कहो बाबु जी को कहूँ या माई को?

संदेश पानी पानी हो चूका था. वो बोला, भाभी आप सोचती है वैसा कुछ नहीं है!

रश्मी ने अपने स्मार्टफोन को हाथ में घुमा के कहा, इस फोन में आप का मुखमैथुन हैं कहो तो लाइव दिखा दूँ बाबु जी को? आप मेरे से कम से कम जूठ तो ना बोले!

फिर मियरा की तरफ देख के रश्मी बोली, क्यूँ री कोलेज करने जाती हैं या लंड लेने!

मियरा बोली, अरे कोलेज कौन जाता हैं रे, चुप कर.

फिर वो संदेश को देख के बोली, ला पैसे चल मैं जाती हूँ, साले होटल के 300 बचा ले अब, खड़े लंड पर धोखा हो गया न!

संदेश ने उसे तिन सौ रूपये दिए और मियरा वहां से जाने लगी. उसने रश्मी को देख के कहा मैं धंधेवाली हूँ जिसे तूने बहुत चाय पकोड़े खिलाये!

बाप रे रश्मी का दिमाग ही सन्न रह गया. अपनी क्लासमेट बोल के जिसको संदेश घर पर ले के आता था वो तो एक धंधेवाली रंडी ही थी और संदेश उसे घर पर ला के उसको चोदता था!

मियरा के जाने के बाद संदेश ने बोला, भाभी प्लीज़ एंड कीजिये अब ये सब, सोरी!

रश्मी ने खुद को संभाला. दरअसल उसने तो ये सब खेल देवर जी का लंड लेने के लिए ही किया था. वो कैसे उतनी जल्दी जाने देती अपने देवर को. उसने कहा, उस से क्या फर्क पड़ता है लेकिन मेरे पास क्लिप है आप का!

संदेश बोला, आप चाहती क्या है?

रश्मी उसके पास आई और पेंट के ऊपर से ही उसके लौड़े को पकड के बोली, वही जो तू उसके साथ करता था वो मेरे साथ कर ले!

संदेश का दिमाग फिर गया. वो बोला, अरे बहन की लौड़ी तुझे लंड लेना था तो बोल देती, इतना रायता फैलाने की का जरूरत थी.

रश्मी ने कहा, देवर जी अब क्या नंगी आती तेरे सामने, इतने इशारे दिए लेकिन तूने कभी कुछ किया ही नहीं!

संदेश ने रश्मी के बाल पकडे और बोला, चल वो रंडी की जगह अब तू मेरी रंडी बन, और वो लंड चूस रही थी वही से तू चालु कर काम को.

रश्मी अपने पल्लू को खुद खोल के घुटनों पर बैठ गई. और संदेश ने अपनी ज़िप को खोल दिया. संदेश का लंड डर की वजह से सिकुड़ गया था. लेकिन अब रश्मी ने जिम्मा ले लिया था वापस इस लंड को टाईट करने का. उसने लौड़े को मुहं में लिया और चूसने लगी और वो साथ में देवर जी की जांघो को सहला रही थी उसका जल्दी से खड़ा करने के लिए.

एक मिनिट के अन्दर ही संदेश का लोडा तक का टारजन हो चूका था. और रश्मी उसे बड़ी जल्दी जल्दी से चूसने लगी थी. संदेश ने हाथ आगे बढ़ा के भाभी के मम्मे पकड लिए और उन्हें मसलने लगा.

रश्मी का पति यानि की संदेश का बड़ा भाई उपेन्द्र उसे बहुत चोदता है लेकिन रश्मी एक नम्बर की हवसखोर लेडी है जिसे और भी लंड की हमेशा ही जरूरत सी रहती है. इसलिए वो कब से देवर को भड़काने की ट्राय में थी लेकिन देवर ने उसकी हिंट कभी समझी ही नहीं. इसलिए आज उसको ऐसे टेढ़ी ऊँगली से लंड लेना पड़ा.

संदेश का लंड एकदम कडक हो गया था उसने रश्मी भाभी के बाल पकडे और माथे को लंड पर और भी जोर से दबा दिया. पूरा लंड मुहं में भरने की वजह से रश्मी के गाल पुरे फुले फुले से लग रहे थे. संदेश ने उसे ऊपर किया और लंड को मुहं से निकाला. लेकिन निकालते वक्त भी रश्मी ने जिस तीव्रता से सुपाडे को किस दिए संदेश ने एक पल के लिए सोचा साली रंडी तो घर में ही थी!

संदेश ने भाभी को खड़ा किया और उसके पेटीकोट के नाड़े को खोल दिया. पेटीकोट को निचे सरकाने के बाद अब संदेश ने भाभी की जामुन रंग की पेंटी को निचे कर दिया. रश्मी भाभी की झांट एकदम सेक्सी थी. उसे देख के संदेश का लंड और भी टाईट हो गया था.

रश्मी भाभी को पलंग पकड़ा के घोडी बना दिया उसने. और वो खुद उसके पीछे खड़ा हो गया. फिर चूत को चिकना करने के लिए उसने लंड को उसके ऊपर थोडा घिसा.

रश्मी भाभी बोली, घुसा दो देवर जी कब की गीली है आप के लौड़े को देख के.

रश्मी की कमर को दोनों हाथ से पकड के संदेश ने धक्का दिया. जैसे मख्खन में गरम छुरी घुसी हो वैसे ही लंड अन्दर चला गया. और संदेश अपनी कमर हिला के भाभी को चोदने लगा. भाभी भी अपनी गांड को मजे से आगे पीछे कर के चुदवा रही थी.

संदेश ने कंधो के ऊपर हाथ रख के और भी जोर जोर से चोदना चालू कर दिया था. और रश्मी कह रही थी और जोर से मारो मेरी पुसी को देवर जी, फाड़ दो साली को और उसकी आग को शांत कर दो अपने लौड़े से.

संदेश को ये सब सुन के बहुत ही मजा आ रहा था. और वो और भी कस कस के चोदने लगा था. एक दो मिनिट और चोदा था की वो और उसकी भाभी दोनों साथ में ही झड़ गए. संदेश ने भाभी को गोदी में ले लिया और किस करने लगा.

अब संदेश ने कहा, भाभी आप की चूत इतनी मस्ती है तो आप की गांड कैसी होगी?

रश्मी ने बोला, मार के देख लो ना!

संदेश का लोडा ठंडा पड़े उसके पहले ही रश्मी ने फिर से लंड को हिलाया. लंड एकदम कडक कर दिया उसने. अब रश्मी ने दोनों टांगो को संदेश की जांघो पर रख दिए. और वो उसके ऊपर चढ़ गई. संदेश ने निचे से अपने लंड पर थूंक लगाया और भाभी की गांड पर भी. गांड पर मसल के उसने लंड को घुसा दिया उसने.

संदेश का लंड आधा गांड में गया था की भाभी उछल पड़ी. लेकिन संदेश ने उसको छाती से पकड लिया और बूब्स को मसलते हुए उसने बाकी का लंड भी गांड के अन्दर पेल दिया. रश्मी को लगा जैसे उसकी गांड में लोहे की गर्म की हुई सलाख दे दी गई थी.

एक मिनिट बहुत पेन हुआ लेकिन फिर उसे मजा आ गया. वो भी ऊपर निचे हो के गांड मरवाने लगी थी. संदेश ने पांच मिनिट गांड मार के अपना पानी अन्दर ही निकाला. रश्मी की गांड से लंड निकाला और वो थोडा ऊपर हुई तो आधे से बी ज्यादा वीर्य निकाल के उसकी ही जांघो पर आ गया.

संदेश को बहुत मजा आ गया. रश्मी ने अपने कपडे पहनते हुए कहा, देवर जी रंडियां घर मत लाना अब मैं जो कहूँगी वो करवा लुंगी!!!