बीवी ने दिलाई साली की चुत

मैं पंकज उम्र 23 साल, 6 महीने पहले शादी करके आई 21 साल की मेरी बीवी आँचल और मेरी इकलौती साली बुलबुल, उस हादसे को भूल कर हम तीनो प्यार से रह रहे थे. रोज की तरह एक दिन मेरी प्यारी कमसिन साली बुलबुल ने स्कूल से आते ही बस्ता सोफे पर फेंका, टाई,बेल्ट और शूज उतारे और हाफ शर्ट के उपरी बटन खोलकर बेड पर लेट गयी स्कर्ट के नीचे से शर्ट निकाल कर नाभि के उपर तक चढ़ा लिया पंखा फुल स्पीड पर था जिसके कारण स्कर्ट गोरी जाँघो से हट गयी थी पैंटी का उभार साफ दिख रहा था मे उसके नुकिले चुचक,गहरी नाभि और गड्राई जांघों के बीच का फुला हुआ हिस्सा खिड़की से एकटक देख रहा था अचानक मेरी पत्नी आँचल ने मेरी चोरी पकड़ते हुए चिमटी काटी और खींच कर एक साइड मे लेजा कर बोली “कच्चे कच्चे नींबु देख रहे हो माल लगभग तैयार है.

बुलबुल अब जवान हो चुकी है कभी उसके जिस्म को नज़दीक से सूँघा है? उसकी जांघों के बीच से मर्दों को मधहोश करने वाली मादक गंध आती है अगर यकीन ना हो तो खुद कभी सोती हुई को सूंघ लेना और जवानी तो दीवानी होती है अपनी साली के चूतड़ का उभार तो देखना कैसे मस्त और कसी हुई गांड है उसकी और उसकी चूची तो अब नींबू से बढ़ कर क़िसी अनार जैसी लगती है मुझे यकीन है की कॉलेज के लड़के उस पर लाइन मारते होंगे जवान लड़की की टाँगें कब खुल जाये पता नहीं चलता और मेरी प्यारी बुलबुल पर तो बला का हुस्न चढ़ा हुआ है मेरे अच्छे बलमा मुझे ही चोदते रहोगे या फिर अपनी साली के लिए भी लड़के की, यानी की लंड की तलाश भी करोगे कहीं क़िसी अंजान ने चोद दिया अपनी बुलबुल को तो मुँह दिखाने के काबिल नहीं रहोगे जवानी और हुस्न को जल्दी से संभाल लेना चाहिए समझे?

यकीन ना हो तो अभी इसकी जांघों के बीच सूंघ कर देख लो कहकर मेरा हाथ पकड़ कर बुलबुल के बेड की तरफ ले जाने लगी मेने धीमी आवाज़ मे पर सख्ती से कहा पागल हो क्या, बुलबुल मेरी साली है, क्या सोचेगी?आँचल नही मानी मेरा सर बुलबुल की जांघों मे झुका कर बोली की अब इसकी आँख लग गयी हैं मैं उपरी दिल से नाटक कर रहा था की बुलबुल से ऐसा कुछ नही करना चाहता लेकिन आँचल के ज़रा से हाथ के दबाओ से मेरा नाक बुलबुल की पेंटी से ढकी उभरी चूत को लगभग छुने लगा.

मैने एक ज़ोर की सांस अंदर की तरफ खींची ओह गॉड! सचमुच अधपकी जवान चूत की ऐसी मादक गंध थी की मेरे सारे बदन मे करंट सा दौड़ गया और मेरा लंड खड़ा हो गया मेरी पत्नी आँचल ने मुझे बाहर की तरफ खींचते हुए कहा की चलो अब कहीं बुलबुल जाग ना जाए कमरे से बाहर निकलते ही आँचल ने मेरी पेंट को तंबू बनाये हुए लंड को पकड़ कर भींचते हुए कहा की देखो लंड साली की चूत सूंघते ही कितनी जल्दी अकड़ गया है अभी थोड़ी देर पहले तो मुझको घोड़ी बना कर चोद कर हटा था.

मेरी पत्नी मुझे बेडरूम में ले गयी और पूरी नंगी हो कर मेरे सीने पर लेट गयी मेरा लंड कुछ ढीला पड़ चुका था और आँचल की बड़ी बड़ी चूची मेरे सीने में धँसी हुई थी और मेरे हाथ उसके गोरे गोरे मांसल चूतड़ पर सैर कर रहे थे मेरा ध्यान अपनी साली बुलबुल की तरफ फिर चला गया मैं ये मानने को तैयार ना था की मेरी साली चुदाई की उम्र पर पहुँच चुकी है लेकिन मेरे अंदर का मर्द साफ देख रहा था की मेरी साली पर जवानी एक तूफान की तरह चढ़ चुकी थी बुलबुल अब 18 साल की हो चुकी थी मेरी साली अधिकतर स्कर्ट्स पहनती थी जिसमें से उसकी खूबसूरत जांघे झलक पड़ती थी गोरे रंग वाली मेरी प्यारी साली के चूतड़ मांसल थे और जब वो चलती तो उसकी गांड ठुमक ठुमक करती मेरी आँखों से छुपी ना रहती और मेरा हाथ उसकी गांड को सहलाने को मचल उठता बुलबुल का पेट सपाट था और चूची उठी हुई है.

जब वो बेडमिंटन खेलने जाती है तो उसके वाइट ब्लाउज से उसकी चूची दिखाई देती है और मेरा लंड खड़ा हो जाता है बाकी लोगों का क्या होता होगा मुझे नहीं पता बुलबुल के बाल लड़कों की तरह कटे हुए हैं और उसके मोटे होंठ हमेशा रस से भरे हुए दिखते हैं इन्ही ख्यालो मे मेरा लंड फिर खड़ा हो गया मेरी बीवी ने लंड को मूठी मे लेकर फिर बोली “मेरी बुलबुल रानी फिर याद आ रही है क्या? अब तो आपका काम बनवाना ही पड़ेगा लेकिन फिलहाल तो मुझे ही बुलबुल समझ कर चोदो मेरे राजा मेरे जीजू” बीवी के मुँह से जीजू सुन कर मेने आँचल को दबोच लिया और उठा कर टाँगे कंधों पर रख कर एक ही धक्के मे लंड जड़ तक पेल दिया हाय जीजू आहिस्ता करो आँचल ने सिसकी के साथ मेरे कान मे कहा ना जाने क्यों.
इससे मेरा जोश और बढ़ गया और मे उसे तेज तेज उचक उचक कर चोदने लगा ताज्जुब की बात थी की मुझे ऐसा लग रहा था की मे बुलबुल को ही चोद रहा हूँ आँचल भी नीचे से गांड उछलाते हुए बोल रही थी हाय जीजू फाड़ दो और ज़ोर से जीजू में गई झड़ने के थोड़ी देर बाद आँचल ने आँखे खोली और बोली की आप मुझे बुलबुल समझ कर चोदो और मे आपको जीजू कह के चुदवाउंगी फिर देखना चुदाई का असली मज़ा.

फिर वो बोली आजा मेरे राजा जीजू चोद ले अपनी साली को मेने भी कहा की हाय मेरी बुलबुल रानी दे दे मुझे और उसे दबोच लिया सचमुच इस बार मेने दुगुने जोश से उसकी चुदाई की और ऐसा जोरदार चरम आनंद पहले कभी नही आया\

अगले दिन रविवार था नहा धो कर सब नाश्ता कर चुके थे आँचल मेरे साथ ही बैठी थी अचानक रूम की खिड़की के पर्दे को हटा कर मेरी बीवी ने मुझे उधर देखने का इशारा किया मेने झाँक कर देखा तो आँखे वहीं जम गयी मेरी साली उधर पड़े बेड के नीचे कोई चीज़ उठाने के लिए घुटनो के बल झुकी हुई थी उसकी सिर बेड के नीचे लगभग फर्श पर टिका था जबकि उसके चौड़े भारी नितंभ उपर उठे हुये थे उसका स्कर्ट कमर तक उलट गया था जिससे उसके माखन जैसे चूतडो पर से मेरी नज़र नहीं हट रही थी काली पैंटी उसकी जवानी को संभाल नही पा रही थी जिससे उसकी गदराई गोरी चूत पैंटी के दोनो तरफ से चाँद की तरह झाँक रही थी.

अपनी साली के जिस्म को देखते ही मेरा लंड फिर से तन गया और मेरी बीवी के पेट पर चुभने लगा अभी से लंड खड़ा होने लगा अपनी साली की जवानी को देख कर के शोना? मेरी बीवी ने मेरे खड़े लंड का कारण ठीक तरह से अंदाज़ा लगाते हुए मुझे ताना मारा और फिर मुस्कुरा कर बोली की जा चाट ले रस भरी जवानी को नही तो कोई और खा जायेगा इस गुलकंद को मे नही चाहती की हमारे घर का ये नायाब ख़ज़ाना कोई पराया लूटे कह कर मेरे लंड को अपने होंठों से चूमने लगी मेरी पत्नी असल में ही एक चालू औरत है जो मेरे मन के अंदर का हाल जान ही लेती है.

थोड़ी देर मे नहा धोकर ताजे फूल की तरह महकती हुई बुलबुल भी हमारे कमरे मे जैसे ही दाखिल हुई मेरी बीवी के मुँह से लंड प्लॉप की आवाज़ के साथ बाहर निकल गया बुलबुल की नज़रें कुछ सेकेंड्स के लिए खड़े लंड पर टिक सी गयी फिर सॉरी बोल कर वापस जाने लगी तो मेने बीवी को डाटा की डोर तो लॉक कर लिया होता मेरी बीवी ने लंड को ढकते हुए बुलबुल को सॉरी बोला और कहने लगी आ जाओ वो मेने ढक दिया है बुलबुल शरमाती हुई अंदर आ गई और कहने लगी की दीदी आज तो सारा दिन बोर हो जायेगे क्या करें? आँचल बोली की अलमारी से ताश निकाल ले बुलबुल ताश लेकर हमारे साथ बेड पर बैठ गयी उसने हल्का सा मेकअप किया हुआ था उसके काले बालों और चाँद से मुखड़े से भीनी-भीनी खुशबू मेरे शरीर मे समा गयी मेरी बीवी ने कहा की बेट लगा कर तीन पत्ती खेलते हैं ताकि खेल मे रूचि बनी रहे बुलबुल बोली की बेट मे मेरे पास देने के लिए तो पैसे नही हैं.

आँचल बोली की बुलबुल रानी जो तुम दे सकती हो वही चीज़ माँगी जायेगी जो हारेगा उसको बाकी दोनो का हुकुम मानना पड़ेगा आँचल ने कार्ड्स बाट दिये पहली ग़मे बुलबुल जीत गयी बुलबुल ने तुरन्त आँचल को हुकुम दिया “दीदी डांस करके दिखाओ” मेरी बीवी ने दो-चार ठुमके लगाये और बैठ गयी दूसरी बाज़ी आँचल जीत गयी तो तुरन्त उसने मुझे ऑर्डर दिया की बुलबुल की स्कर्ट और टॉप उतारो मे हिचकिचाया और बुलबुल भी शर्म से सिमटी तो आँचल ने कहा ”ऑर्डर इज ऑर्डर कोई रियायत नही” बुलबुल मेरी तरफ सरकते हुए बोली की कोई बात नही जीजू उतार दो मेरा भी नंबर आयेगा| मैंने हाथ बढ़ा कर बुलबुल को बेड पर ही घुटनों के बल खड़ा किया और उसके हाथ ऊपर कर उसकी टॉप को निकाल दिया। टॉप निकालते हुए मैंने उसके इतने नज़दीक होने का थोड़ा फायदा उठाया और अपने हाथ लगभग उसके चूचों से टच करता हुआ ले गया और जवान शरीर के खुशबू को भी खूब जम के सूंघा।

अब आयी स्कर्ट की बारी मैंने उसे अब बेड पर लिटाया और उसकी जांघें अपने पैरों पर रख के कमर के दोनों तरफ से उसकी स्कर्ट का इलास्टिक पकड़ कर नीचे खींचने लगा. इस बार भी जब स्कर्ट का इलास्टिक उसके चूत के पास तक पहुंचा तो अपनी हथेली से उसके चूत के उभारों के बीच सहला दिया। उसकी हलकी सी सिसकारी निकल गयी। ये सब देखकर मैंने देखा आँचल मुस्कुरा रही थी। अब बुलबुल सिर्फ पिंक कलर की ब्रा और पैंटी मे थी अगली गेममैं जीत गया मेने बुलबुल को हुकुम दिया की आँचल के बदन से पैंटी के अलावा सारे कपड़े उतार दो| अब मेरे सामने मेरे बीवी सिर्फ पैंटी में और मेरी प्यारी साली सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी| अगले गेम मे आँचल जीती तो उसने बदले की भावना से मुझे बुलबुल का चुम्मा लेने को कहा मेने बुलबुल की और देखा तो उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया और नज़रें झुक गयी.

मेरी बीवी ने बुलबुल को भी हुकुम दिया की चुम्मा दो बुलबुल ने अपना सर मेरे कंधे पर टीका दिया मेने बुलबुल के सुन्दर मुखड़े को उपर उठा कर गाल का चुम्मा लिया और जोश मे दाँत गड़ा दिए बुलबुल गाल छुड़ाने की कोशिश करती हुई बोली “दाँत नही जीजू, अब छोड़ो मुझे” तो आँचल बोल उठी “आज कुछ मीठा हो जाये होठों का चुंबन लो बुलबुल लाल हुए गीले गाल को पोंछने लगी जिस पर दाँतों के निशान साफ दिख रहे थे बीवी का हुकुम मानते हुए मेने बुलबुल का सलोना मुखड़ा दोनो हाथों मे लेकर रसीले होंठो को चूसने लगा तो मादक सिसकी के साथ बुलबुल की सांस फूल गई साँसे उखड़ गयी.

मेरा भी लंड खड़ा हो गया आँचल की मोजूदगी का अहसास होते ही बुलबुल ने मुझे धकेलते हुए कहा अब छोड़ भी दो जीजू हमारे अलग होते ही आँचल ने कहा बुलबुल रानी कार्ड बाँटो तुम्हारी बारी है बुलबुल ने कार्ड बाटे इस बार मे जीत गया मेने बुलबुल को थोड़ी देर बाहर जाने को कहा उसके बाहर जाते ही मेने तने हुए लंड पर से लूँगी हटा दी और आँचल को लंड चूसने का ऑर्डर दे दिया मेरी बीवी एक मंजी हुई एक्सपर्ट की तरह लंड को चाटने और चूसने लगी इतने मे मुझे एक परछाई का अहसास हुआ मेने खिड़की से देखा, ओह गॉड! बुलबुल खिड़की से लंड चूसने को इतना मग्न हो कर देख रही थी की उसको ये भी पता नही चला की मेने उसे देख लिया है.

आँचल लंड को मुँह से बाहर निकाल कर बोली बुलबुल को बाहर क्यों भेज दिया वो भी लंड चूसना सीख लेती शादी के बाद काम आता मेने उसका कान खींच कर कहा तुम नही सुधरोगी मेने लंड को ढक कर बुलबुल को आवाज़ दी बुलबुल आ गई मेने कार्ड्स बाटे आँचल जीत गयी तो उसने बुलबुल को ऑर्डर दिया चलो अपने जीजू से लिपट कर किस करो बुलबुल शरमाई और बोली की मेरी उधार लिख लो खेलते-खेलते बुलबुल की तरफ मेरे 21 चुंबन उधार हो गये आँचल बोली बुलबुल रानी अगले रविवार तक रोज 3 बार किस करोगी तो तेरे जीजू का कर्ज चुकता होगा रात को डिनर के बाद आँचल और बुलबुल किचन मे बर्तन सेट कर रही थी उनका हँसी मज़ाक सुन कर मेने खिड़की से कान लगा दिये आँचल कह रही थी हाँ तो बुलबुल रानी जीजू का किस कैसा लगा मज़ा आया की नही? बुलबुल बोली आप बताओ ना मेरे जीजू के लंड का स्वाद कैसा लगा? मे खिड़की से सब देख रही थी.

आँचल ने कहा की मुझे तो लंड चूसने मे बड़ा मज़ा आता है कहो तो तुम्हे भी स्वाद चखवा दूँ? बुलबुल शर्मा कर बोली दीदी आहिस्ता बोलो जीजू सुनेगे तो क्या सोचेंगे आँचल ने बुलबुल से कहा की अगर तुम्हारा जी करता हो तो मे तुम्हे लंड का स्वाद चखा सकती हूँ.
मगर किसके लंड का?

तुम्हारे जीजू के लंड का और किसका मे किसी बाहर के लड़के से परिवार की इज़्ज़त को धब्बा नही लगाने दूँगी मेरे पास एक ऐसा आइडिया है की तुम्हारे जीजू को भी इस बात का पता नही चलेगा की तुमने उनका लंड चूसा है बस तुम ये बतलाओ की लंड चूसने को दिल करता है या नही बुलबुल सर झुका कर बोली दीदी दिल तो तभी से कर रहा है जब मेने खिड़की से आपको जीजू का लंड चूसते देखा था मगर क्या आपको बुरा नही लगेगा और ऐसा कैसे हो सकता है की मे जीजू का लंड चूसू और उनको पता भी ना चले.

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …..