बीवी ने दिलाई साली की चुत

गतांग से आगे …..

मेरी पत्नी दूसरे कमरे में चली गयी और बुलबुल मेरे पास बैठ गयी जीजू आपको क्या हो गया? आपका तो रंग उतर गया क्या मैं आपको किस नहीं कर सकती जीजू! मैं आपके साथ बैठ जाती हूँ मेरे प्यारे जीजू उदास क्यों होते हो? कहते ही मेरी साली ने अपनी बाहें मेरी गर्दन पर डाल दी और मेरी गोद में बैठ गयी मेरे लंड को करंट सा लगा और मेरा लंड तन गया और बुलबुल के चूतड़ के बीच की दरार में दाखिल होने लगा बुलबुल मेरे गालों पर अपना गाल रगड़ने लगी और मुझे जहां तहां चूमने लगी. मैं भी जोश में आ गया और मैने अपनी साली के रसीले होंठों पर अपने होंठ टीका कर किस कर लिया मेरी साली पहले तो मेरे साथ चिपक गयी और उसके होंठ खुल गये मे उसकी मीठी जीभ का रस पान करने लगा लेकिन जब मैने उसकी चूची ज़ोर से मसल डाली तो वो उठ कर भाग गयी मुझे लगा की वो मेरी कामुकता को समझ गयी और मुझसे नाराज़ हो गयी.

मुझे बहुत शर्मिंदगी हुई और डर भी लगा की कहीं अपनी दीदी से कुछ ना कह दे मेरी पत्नी तो मुझे पहले से ही साली का यार कहती रहती है अगर आज की ये बात आँचल को पता चल गयी तो ना जाने क्या सोचेगी? थोड़ी देर मे बुलबुल फिर आई और मेरे कान मे फुसफुसा कर बोली जीजू चलो एक चीज़ दिखाती हूँ और मेरा हाथ पकड़ कर आँचल के रूम की खिड़की के पास ले गयी बुलबुल ने आँख लगा कर अंदर देखा और मुझे भी देखने का इशारा किया मेने बुलबुल के पीछे सट कर अंदर का नज़ारा देखा. बुलबुल से इतना चिपक कर खड़ा होने से मेरा लंड एकदम तन गया और बुलबुल के चूतडो के बीच मे गड़ गया मेने बुलबुल के गाल से गाल सटा कर देखा की मेरी बीवी टीवी पर वो विडियो देख रही थी जो मैंने और उसने चुदाई करते वक़्त अपनी पहली मैरिज एनिवर्सरी पर बनायी थी.

विडियो में सीन चल रहा था की मेरे हाथ आँचल के नितंबो को भींच रहे थे। तो आँचल मेरा 9 इंच का लंड प्यार से सहला रही थी फिर मेरी पत्नी घुटनो के बल नीचे बैठ गयी और उसने मेरा विशाल लंड चाटना शुरू कर दिया और लंड को चूसने लगी बुलबुल के मुँह मे पानी आ गया उसने सुन्दर मुखड़ा मेरी और मोड़ा तो हमारी जीभे भी एक दूसरे का रस पान करने लगी. विडियो में मैं मेरी बीवी को बेड पर ले गया और हम दोनों 69 की पोज़िशन मे हो गये लंड और चूत का रसपान एक साथ शुरू हो गया थोड़ी ही देर मे आँचल के होंठो के किनारो से वीर्य छलकने लगा बुलबुल ये देख कर मुस्कुराने लगी. फिर आँचल ने लंड को दबा दबा कर आख़िरी बूँद तक चूसती रही तो मेरा लंड फिर खड़ा हो गया.

आँचल खुश हो कर चूतडो के नीचे तकिया लगा कर लेट गयी और जांघे चौड़ी करके बोली लाओ मेरे राजा अब एनिवर्सरी का असली गिफ्ट दो. मैंने जैसे ही विशाल लंड का सुपाड़ा अपनी बीवी की चूत पर रखा तो विडियो में आँचल के साथ-साथ असल में बुलबुल के मुँह से भी सिसकारी निकल गयी और पलट कर मुझसे लिपट गयी और मेरी कलाई पर बांधी गयी राखी को सहलाते हुए कान मे धीरे से बोली जीजू मेरा गिफ्ट?

मेने बुलबुल को गोदी में भर कर उठा लिया और दूसरे रूम मे बेड पर ले गया. और पहले लौट कर बाहर आया और सीधा आँचल के पास गया और उसे एक मदहोश कर देने वाल किस दिया और बोला – शोना तेरा आईडिया काम कर गया. तेरी बहन चुदने के लिए पागल हुई जा रही है.

आँचल बोली : तो जाओ ना मेरे राजा बना दो अपनी साली को भी अपनी इस मोटे लम्बे लंड का दीवाना. कोई ज़रुरत हो तो मुझे बुला लेना. बेस्ट ऑफ़ लक शोना मेरे.

मैं वापस बुलबुल के पास आ गया. तो वो पूछने लगी – कहाँ गए थे जीजू? मैंने भी बहाना कर दिया – बस मेरी जान तेरी दीदी के कमरे की कुण्डी लगाने गया था. तुम्हें तो उसके सामने मुझे किस लेने में भी शर्म आती है फिर अभी तो हम सुहागरात मनाएंगे साथ में. ठीक है न मेरी साली जान?

बुलबुल शर्म के मारे बेड पर उल्टी हो करके लेट गयी मेने उसकी मस्त गदराई जाँघो पर से स्कर्ट को कमर तक उपर किया तो मेरी आँखे चोक गयी बुलबुल ने चड्डी नही पहनी हुई थी और वही चौड़ा गौरा पिछवाड़ा बिना चड्डी के मुझे बुला रहा था मे झट से नंगा हो कर अपनी कमसिन साली के उपर चढ़ गया मेरा लंड सीधा उसके गदराये चूतड़ को अलग करता हुआ गांड पर जा टिका नीचे हाथ डाल कर मेने उसके दोनो अनारो को दबोच लिया और प्यार से उसकी गर्दन कान और गालों को चाटने और चूसने लगा उत्तेजना मे बुलबुल के मुँह से सिसकियाँ निकल रही थी। जैसे ही मेने लंड का दबाव गांड पर बढ़ाया तो बुलबुल दर्द मे बोली की जीजू अभी उपर-उपर से कर लो कहीं दीदी ना आ जाये.

मे उसकी ज़ुल्फो की महक लेता हुआ बोला की वो कई सो चुकी है अब 3-4 घंटे बाद ही उठेगी. फिर मेने उसके पेट के नीचे तकिया लगाया जिससे उसके चूतड़ उपर हो गये और मेने झट से उस ख़ज़ाने को चूमना चाटना शुरू कर दिया उसकी रोम विहीन योनि से लेकर गांड तक पागलों की तरह चाटने लगा. मेरी और मेरी बीवी की रासलीला की विडियो देख कर बुलबुल की झिझक ख़त्म हो गयी थी बुलबुल की चूत से अमृत की बारिश होने लगी मेने एक बूँद भी बर्बाद नही की बुलबुल ने बेबस होकर अपने चूतड़ उपर उठा लिए और बोली की जीजू जो करना है जल्दी कर लो कहीं दीदी ना आ जाये मे उसके गोरे पिछवाड़े को फिर चूमने और चाटने लगा तो बुलबुल बोली की हाय जीजू अब डाल भी दो. मेने भी गांड को जीभ से और गीला किया फिर आलू जैसा मोटा सुपाड़ा गांड पर रख कर दबाव बढ़ाया पर लंड नही घुसा बुलबुल बोली की जीजू मेरी गांड कुँवारी है और आपका लंड मोटा भी ज़्यादा है लाओ इसे चिकना कर दूँ.

यह कह कर वो मेरी और मुड़ी और लंड को मुँह मे लेने की कोशिश करने लगी मोटाई से पूरा मुँह ब्लॉक हो गया तो वो सारे लंड को जीभ से चाटने लगी जब लंड पूरा गीला हो गया तो उसने तकिये पर गाल टीका कर गांड को उँचा उठा लिया मे भी घुटनो के बल उसकी गांड पर लंड टिका कर दोनो चूचियों को पकड़ कर शॉट लगाया तो गांड के टांके उधड़ गये और आधा लंड साली की गांड मे घुस गया बुलबुल के मुँह से एक छोटी सी चीख निकली “उई माँ…हाय जीजू रूको” मेने एक और करारा शॉट मारा और मेरे अंडकोष उसके चूतडो से जा लगे अब पूरा 3 इंच मोटा लंड बुलबुल की गांड मे था और वो सिसक रही थी मे उसके गालों पर बहते आँसू को चाटने लगा ताकि उसे कुछ धीरज बँधा सकूँ.

एक हाथ नीचे ले जाकर मेने उसकी चूत के लहसुन को सहलाना शुरू कर दिया थोड़ी ही देर मे बुलबुल नॉर्मल हो गई और जाँघो को चौड़ा करके लंड को गांड मे अच्छी तरह एड्जस्ट कर लिया बुलबुल सी सी कर रही थी और मैं उसके चूची को दबा रहा था और अपना लंड उसकी मस्त गांड मैं अंदर बाहर कर रहा था बुलबुल आआहाहह आआआअहह आह ऊऊओह किये जा रही थी थोड़ी देर के बाद बुलबुल सिर्फ़ सीईईईईई सीयी सीईइ कर रही थी अब उसे भी मजा आ रहा था वो भी गांड को धीरे धीरे पीछे कर रही थी 10 मिनिट पूरे ज़ोर से धक्कों के बाद बुलबुल ने भी तेज़ी से जवाबी धक्के देने शुरू कर दिये और झड़ गयी मैने भी अपना पानी बुलबुल रानी की गांड मैं ही छोड़ दिया और मैं बुलबुल के होंठो को चूमने लगा और हल्के हल्के उसकी चूची दबा रहा था थोड़ी देर मैं हम दोनो ठंडे हो गये.

बुलबुल ने मुझे प्यार से मारते हुये कहा की मैं आप से कभी ये सब नही करवाउंगी आप बहुत ज़ोर से करते हो और मुझे प्यार से मारने लगी मैने उसे किस करके शांत किया और बोला मेरी प्यारी साली मुझे माफ़ कर दो मैने तुम्हारे प्यार मैं पागल होकर ऐसा किया और फिर बुलबुल ने कपड़े बदले और जाकर सो गई.

मैं भी आँचल के पास गया. मेरे चेहरे पर विजयी मुस्कान थी. उसके पूछने पर मैंने झूठ बोल दिया की बस ऊपर-ऊपर से ही प्यार किया. तुम्हारे आ जाने के डर से वो इतनी नर्वस थी की कुछ करने ही नहीं दिया.

आँचल : ओह्ह मेरे शोना का लंड बेचारा प्यासा ही रह गया? सो सॉरी शोना. ये लड़की ऐसे नहीं मानेगी. इसकी चूत चाहिए शोना तो इसे आपको अपनी बीवी बनाना पड़ेगा.
ये क्या बोल रही है तू बाबू? बुलबुल और मेरी बीवी? वो कैसे और क्यों मेरी बीवी बनेगी हाँ?

आँचल : क्यों नहीं बनेगी? जीजू का लंड चाहिए तो बीवी बनेगी और मैं जानती हूँ आपके लंड के लिए वो पागल हो चुकी है. और इसमें बुराई’ क्या है साली ही तो है उसकी शादी को अभी कम से कम 5-6 साल हैं तब तक आपकी बीवी बन के रहे. मुझे पता है आप मुझ से बहुत प्यार करते हो और अगर आपका मन है उसे चोदने का तो मैं कैसे मना कर सकती हूँ मैं तो बस रास्ता बना रही हूँ आपके लिए.

वो तो ठीक है बाबू पर बुलबुल इसके लिए राज़ी नहीं होगी.

आँचल : उसकी चिंता आप छोडो शोना आप बस अपने लंड की मालिश शुरू कर दो. आज रात ही आप दोनों की सुहागरात मनवाती हूँ मैं मेरा वादा है ये. कहके वो मुस्काने लगी. मुझे बहुत प्यार आया अपनी बीवी पर और मैंने उसे ढेर साड़ी किस दी.

फिर आँचल बुलबुल के कमरे में गयी और उसे जोर से हिला हिला कर जगाया और गुस्से से बोलने लगी “क्यूँ री तुझे बड़ा घमंड है क्या अपनी चूत पर? दुनिया में बस तू ही एक लड़की है क्या जिसके पास चूत है?”

बुलबुल : क्या हुआ दीदी आप इतना गुस्सा क्यूँ हैं मुझ पर?

आँचल : तो फिर जीजू जब अभी तुझे प्यार करने आये थे तो कुछ करने क्यूँ नहीं दिया तूने उन्हें? बड़ा घमंड आ गया है क्या तुझे अपनी चूत पर? मत भूल तेरी इसी चूत की प्यास को मैंने तेरे जीजू से चटवा के बुझवाया था.

बुलबुल सुबकने लगी और बोली – सॉरी दीदी मुझे बस आपका डर सता रहा था की आप बुरा मान जाओगी तभी मैंने जीजू को कुछ नहीं करने दिया वैसे मेरा भी बहुत मन है उनसे ही चुदने का बस (वो भी गांड मरवाने की बात साफ़-साफ़ छुपा गयी)

फिर आँचल ने उसका सर अपने गोद में रखा और सहलाते हुए उसे चुप करवाने लगी : अरे मेरी बच्ची वो तेरे जीजू हैं जितना हक उनका मेरे ऊपर है उतना ही तेरी शादी से पहले तुझे पर है मेरी बन्नो. एक काम करते हैं इस डर को निकालने का एक ही तरीका है आज मैं तेरी और तेरे जीजू की शादी करवा देती हूँ फिर तू उनकी बीवी बन जायेगी फिर अपनी शादी होने तक उनकी बीवी बन कर रह और खूब मज़े लूट मेरी जान. तुम दोनों के अलावा मेरा है भी कौन यार तुम दोनों बस खुश रहो यही चाहती हूँ और भगवान् की दया से मैं तो शादी के बाद से खुश हूँ ही तू जानती ही है.

बुलबुल : ओके दीदी जैसा आप बोलें मैं तैयार हूँ जीजू की बीवी बन ने के लिए.

आँचल : चल फिर पार्लर चलते हैं तू मेक उप करवा ले.

फिर दोनों बहनें बुलबुल की चूत की सिलाई तुडवाने की तैयारी में चले गए.

शाम को मेरी साली शादी के जोड़े में एक परी जैसी लग रही थी मेरी पत्नी ने उसे सुहागरात के लिए खूब सजाया था मेहन्दी लगे हाथों मे हरी-हरी चूड़ीयां,नाक मे नथनी,कानो मे झुमके,पावं मे चम-चम करती पायल मैं तो बुलबुल को देख-देख कर पागल हो रहा था मैं भी दूल्हा बन कर तैयार बैठा था.
फिर यूँ ही कंप्यूटर पर शादी की विधियां चाला कर मेरी और बुलबुल की शादी की गयी.

रात को बुलबुल और आँचल सुहाग कमरे मे गयी जहाँ बुलबुल सुहागरात के सपनो मे खोई हुई थी मे खिड़की की आड़ मे सुन रहा था मेरी पत्नी कह रही थी मेरी प्यारी बहन बुलबुल तुम्हारे जीजू तो आज तुम्हें देखते ही पता नहीं होश में रहेंगे भी या नहीं. बहुत प्यारी एकदम परी सी लग रही है आज मेरी बहना. अब तुम्हारे जीजू को मे यहाँ भेजती कहकर वो मुस्कुराते हुए चल दी.

आँचल ने बुलबुल के गाल चूमे और बाहर आ गई मेने बेचैनी से पूछा की क्या प्लान है आँचल बोली आप बुलबुल के पास जाओ और आहिस्ता-आहिस्ता उससे प्यार करो वो आपका इंतज़ार कर रही है मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना ना था मेरी बीवी ने फिर कहा लुंगी पहन लो और अंडरवेयर उतार कर जाना बुलबुल को धीरे-धीरे प्यार करना सारा एकदम मत घुसेड देना आपका बहुत मोटा और लंबा है मुझे यकीन है की आहिस्ता-आहिस्ता करोगे तो वो आपका लंड झेल लेगी एक बार एड्जस्ट होने के बाद उसे इतना मज़ा आयेगा की वो खुद आपको नही छोड़ेगी मेरी बेचारी बीवी को क्या मालूम था की हमें तो मौका चाहिये था जो उसने खुद दे दिया मैं बुलबुल के रूम मे पहुँचा और अंदर से कुण्डी लगा दी बुलबुल दुल्हन की ड्रेस मे सेज पर बैठी थी उसने उठ कर मेरे पावं छुये तो मेने उसके कंधे पकड़ कर ऊपर उठाया और हम दोनो एक दूसरे से लिपट गये.

फिर बुलबुल बोली ठहरो जीजू मे सेज पर ही जाती हूँ इतना उतावलापन भी ठीक नही बुलबुल ने सुहाग सेज पर बैठ कर घूँघट निकाल लिया मे समझ गया की मन ही मन उसने मुझे अपना पति मान लिया है मेने दोनो हाथो से बुलबुल का घूँघट उठाया बुलबुल की आँखे झुकी हुई थी मेने उसकी ढाढ़ी के नीचे उंगली रख कर मुखड़ा ऊपर उठाया हमने एक दूसरे की आँखो मे देखा और हमारे होंठ मिल गये वाह क्या खुशबू थी मेरी साली की साँसों की जल्द ही बुलबुल ने अपनी जीभ मेरे मुँह मे डाल दी और मे उसका मीठा-मीठा मुखरस पीने लगा फिर बुलबुल मेरे कान मे फुसफुसा कर बोली जीजू आज हम पना सपना पूरा करंगे.

मेने बुलबुल का सुर्ख जोड़ा उतार दिया फिर उसकी नथ भी उतार दी और उसे पूरा नंगा करके चूतडो के नीचे तकिया लगा दिया बुलबुल ने खुद ही टाँगे चौड़ी कर ली मे उसकी योनि देखता ही रह गया आज तो उसकी योनि कुछ ज़्यादा ही खूबसूरत लग रही थी जो थोड़े से रुये थे वो भी उसने हेयर रिमूवर से सॉफ कर रखे थे बिना टाइम बर्बाद किए मेने अपना मुँह उसकी फुली हुई योनि पर टीका दिया और योनि को चूमने और चाटने लगा बुलबुल की उंगलियां मेरे सिर के बालो को सहला रही थी उसकी चूत का लहसुन एकदम खड़ा हो गया जिसे मे मुँह मे लेकर चूसने लगा.

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …..