बीवी ने दिलाई साली की चुत

गतांग से आगे …..

बुलबुल के दोनो हाथ मेरे सिर पर कस गये और ” हाय जीजू मे गयी” कहते हुए वो झड़ गयी मेने उसका सारा अमृत रस चाट लिया कुछ देर की शांति के बाद उसने मुझे लेटने को कहा और बेठकर मेरे खड़े लंड को चूमने और चाटने लगी फिर वो सारे लंड को गले मे उतारने की कोशिश करने लगी लेकिन 9 इंच के लंड का आधा भाग ही उसके गले मे समा सका और उसकी साँसे घुटने लगी मे भी उसके भारी नितंभो और चूत को चाट-चाट कर मदहोश हो गया था इसलिये मेरे लंड ने उसके गले मे वीर्य की पिचकारी मारनी शुरू कर दी ज़्यादा होने के कारण कुछ वीर्य उसके होंठो के किनारों से निकलने लगा बुलबुल भी दूसरी बार मेरे मुँह पर झड़ी और मेने उसके कुवांरे खट्टे रस का स्वाद चखा बुलबुल ने वीर्य की एक एक बूँद को चाट कर ही मेरा लंड छोड़ा बुलबुल समझदार थी इसीलिये उसने मुझे पहले ही हल्का कर दिया ताकि संभोग मे उसे ज़्यादा टाइम दे सकूँ हम अभी भी 69 की पोज़िशन मे थे जल्दी ही मेरा लंड ताजे माल को देख कर फिर अकड़ गया.

मेने उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया तो उसने तकिये के ऊपर एक कपड़ा बिछाया और टाँगे चौड़ी करके मेरे कंधो पर रख दी और नीचे हाथ ले जा कर लंड तलाश करने लगी लंड को पकड़ कर उसने सुपाडे को चूत के मुँह पर रखा उसकी आँखो मे खुशी की चमक साफ दिखाई दे रही थी मेने पहाड़ी आलू जैसे सूपडे का दबाव चूत पर बढ़ाया पर ये तो कोरा फ्रेश माल था सूपड़ा कैसे अंदर जाता बुलबुल मेरे कान मे फुसफुसा कर बोली जीजू साइड मे कोल्ड क्रीम रखी है उसने पूरी तैयारी कर रखी थी मेने कुछ कोल्ड क्रीम उसकी योनि के मुँह पर और कुछ सूपडे पर लगाई और लंड को पुश किया तो योनि के होंठो ने रास्ता देना शुरू कर दिया मेरे लंड का टोपा अंदर ही गया था की वो ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने ओर चीखने लगी मूठी जैसा फूला हुआ सूपड़ा चूत मे फँस चुका था.

मेरे लंड का सूपड़ा योनि मे ढक्कन की तरह फिट हो गया फिर मे रुक गया ओर उसके बूब्स दबाने लगा ओर किस करने लगा ओर वो शांत हो गई फिर मैने धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू किया ओर किस करने लगा फिर मेने एक ज़ोर का धक्का लगाया ओर मेरा लंड उसकी सील तोड़ता हुआ 4 इंच अंदर चला गया उउउईई माँ में मरर गई मर जाऊँगी मम्मी मैं मररर गइई जीजू प्लीज जीजू निकालो इसे फिर मेने निपल्स को बुरी तरह चूसते हुए तुरंत दूसरा शॉट लगाया ये शॉट इतना तेज लगाया की मेरा आधा लंड मेरी छोटी सी मासूम साली की चूत के पतले होठो को चीरते हुए अंदर चला गया.

बुलबुल की दर्द के मारे जान निकलने लगी और मुँह से जोरदार चीख निकल गई …अहहा आहह… …में मर गई जीजूआ…आआअहह जीजू में मर गई प्लीज छोड़ दो मुझे उसकी आँखों से आँसू आने लगे उसे बहुत दर्द हो रहा था ओर मेरे लिप्स उसके लिप्स पर होने की वजह से अब उसके मुँह से चीख नही निकली वाह्ह्ह क्या अजीब मज़ा आने लगा बुलबुल की चूत लेसदार पानी से भरी हुई उफ़फ्फ मे बूब्स को चूसते हुये लंड पर ज़ोर बडाने लगा ओर लंड 6 इंच अंदर चला गया। ओर बुलबुल की हल्की सी चीख निकली होई होई ही जीजू ये क्या कर रहे हो सारा ना डालो प्लीज मे मर जाऊंगी मेने कहा बुलबुल थोड़ा सा अंदर करने दो बुलबुल अपनी टांगो को भींचने लगी ओर आगे पीछे होने लगा लगता था अब बुलबुल को मज़ा आ रहा है बुलबुल ने टाँगे पूरी खोल दी ओर उसकी चूत से चिप चिप की आवाज़ आ रही थी.

अब बुलबुल भरपूर मज़ा ले रही थी उसकी पायल की छम छम और चूडियों की खन खन मेरे कानो के पास मधुर संगीत पैदा कर रही थी क्योंकि उसकी बाहें मेरे गले मे और टाँगे कंधो पर थी अब बुलबुल ने टांगो को और खोल दिया ओर मेरा लंड पूरा अंदर चला गया था। चूत मे बुलबुल के पानी की चिप चिप ओर कीच कीच की आवाज़ आ रही थी अब मेरा जोश ज्यादा बड़ने लगा ओर मेने भरपूर ज़ोरदार तरीके से एक बूब्स को पकड लिया ओर दूसरे के ऊपर अपने होठ खोल कर रख दिये बुलबुल ने और टांगो को खोल दिया ओर मेने सारा लंड अपनी सग़ी साली की चूत मे उतार दिया मेरे अंडकोष उसके चूतडो से जा लगे बुलबुल दर्द से कराहने लगी ऊहह ही ओह मर गई मार दिया जीजू आपने सग़ी साली से सुहागरात मना ली ओर मे तेज़ी से आगे पीछे तेज़ी से लंड अंदर बाहर करने लगा बुलबुल मजे वाली आवाज़ से “आआहह आअहह जीजू हाअ उईईइ आहह ऊहह ऊहह ऊहह “करने लगी ओर मुझे अपनी बाहों मे ज़ोर से क़स लिया ओर नीचे से खुद धक्के मारने लगी.

अब हम दोनो जी भर के एक दूसरे को चोद रहे थे उफ़फ्फ़ ओर 20 मिनिट के बाद मेरे लंड से लेसदार पानी सग़ी साली की चूत मे निकलने वाला था की बुलबुल फिर झड़ गयी उफ़फ्फ़ अब ओर ज्यादा कीच कीच पिच पिच चिप चिप की आवाज़ आने लगी ओर मे फिर थोड़ी देर बाद बुलबुल की चूत मे ही झड़ गया ओर बूब्स पर अपना मुँह रख कर लेटा रहा बुलबुल की चूत मेरे वीर्य से पूरी भर गयी थी। वो मेरी कमर पर हाथ फेरने लगी ओर कभी मेरे सर मे उंगली फेरने लगी ओर 5 मिनिट के बाद वो बोली आख़िर जीजू आपने मेरे दिल की तमन्ना पूरी कर ही दी.

कुछ देर तक आराम करने के बाद बुलबुल फिर मेरे लंड को चूसने लगी और बोली की जीजू अभी टाइम है जी भर के कर लो आपके लंड ने तो मेरा दिल जीत लिया है. जीजू प्लीज़ एक बार और मुझे चोदो. मैं फिर बुलबुल पर चढ़ गया मेने बुलबुल की जमकर चुदाई की चूत की भी और गांड की भी.

सुबह जैसे ही मेरी बीवी हमारे सुहाग कमरे में आई तो बेड पर खून देख कर समझ गयी की बुलबुल की सील टूट चुकी है. आते ही उसने मुझे और बुलबुल को बारी-बारी से किस किया.
मेरा लंड फिर से अकड़ के खड़ा हो गया. फिर तो मैंने आव देखा न ताव बुलबुल तो नंगी थी ही मैं आँचल को भी पूरा नंगा किया और दोनों बहनों को एक साथ चोद डाला. अब तो हर रात हम तीनों एक साथ ही सोते हैं औत मिल कर खूब चुदाई करते हैं.

साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,