दीदी हो तो ऐसी

हेलो दोस्तों मेरा नाम बिट्टू हे, में आपको मेरी एक कहानी बताने जा रहा हु,  मेरी उम्र 22 साल हे। मेरी  बहन का नाम पिंकी शर्मा हे। उनकी उम्र 30 साल हे । मेरी बहिन के सादी को 8 साल हो गये हे, उनका फिगर 34 ,30,37 का हे बहुत ही खूब सूरत मॉल हे ।

बात आज से 3 साल पहले की हे, जब उनकी सेहली की शादी के लिए घर आयी हुइ रही। किस्मत से उस दिन हमारे गांव में भी किसि रिस्तेदार के घर में भी शादी थी। तो पापा और मम्मी दोनों गांव गये हुए थे।
रात को में और दीदी शादी में जाने के लिए रेडी होने लगे। में तैयार हो गया मेने दीदी को आवाज ला गई कहा चलो दीदी लेट हो रहा है वह पर बारात आ गयी होंगी।
वो बोली बस आ ही रही हु , जब दीदी तैयार हो के आयी सुर्ख लाल रंग की साड़ी जो उनके कामुक बदन को ढक रही थी। उनकी साड़ी से उनकी गोरी गोरी कमर ऐसे लग रही थी। जैसे बिसन शर्दी में कोई आग का सहारा मिल गया हो।
में उनको देखता ही रह गया क्या तो कायम ढा देने वाली राजकुमारी लग रही थी। में तू उनको देखता ही रहा गया । में बोला दीदी तुम तो बहुत ही मस्त लग रही हो।
वो बोल चल शादी में लेट हो रहा है। दीदी जब बाइक में मुझे बैलेंस ज़माने ले लिए जैसे हे छुआ मेरे शारीर में एक सिहरन सी हुई, मेरा लैंड खड़ा हो गया, शादी में बस दीदी के सेक्सी बदन को देखा रहा था  , उनके चुदने के बारे में बस सोच रहा था। शादी से लौटते समय भी बस दीदी को कैसे चुदा जाये बस में ये ही सोच रहा था।
हम घर  पहुचे मुझे आईडिया मिल गया। दीदी माम्मी के बैडरूम में थी। सोने की तैयारी कर रही थी। दीदी ने साड़ी भी नही बदली और सोने लगी।
 में दीदी के पास आया में बोला दीदी मुझे आपके साथ सोना हे, वो बोली अपने रूम में जा तू अब बड़ा हो गया है, में बोल शादी के पहले भी तो हम साथ में सोते थे, जबसे आपकी शादी हुए आप एक बार भी मेरे साथ नही सोये । मेने कहा आप बहुत बदल गयी  हो। में ये बोल के जा ही रहा था। वो बोल ठीक है सो जा मेरे साथ, मेने लाइट बन किया , दीदी और में एक ही रजाई में सोए हुए थे। दीदी की परफ्यूम की खुशबू मुझे और उत्तेजित कर रही थी.
मेरे से अब रहा नही गया मेने दीदी से लिपट गया। दीदी कोछ नही कही, मेने दीदी के नाभि पे अपना हाथ रख दिया, मेने दीदी के स्तन पे एक हाथ रख दिया , दीदी बोली क्या कर रहा हे तू सीधे सोके नही आता तुझे,  मेने कहा जब हम साथ सोते ते जब में ऐसा करता था आप कुछ नही बोलती थी। अब  वो बोली ठीक है छूले। मेने मेरे दोनों हाथ को उनके स्तन को दबाने लगा । पहले आपके इतने बड़े नहि थे। मुझे एक बार देखने दो ना। वो बोली नही तू ऐसे ही कर , मेने बहुत जीत किया वो बोली ठीक है, ब्लोउस खोल देती हूं। मेने कहा में खोलूंगा। वो बोला ठीक जो लगता कर।
मेने उनके बूब्स को आज़ाद कर दिए बहुत बड़े बड़े मुलायम थे। में दीदी के ऊपर चढ गया उनके बूब्स को चूसने लगा दीदी ऊऊ ईईई गहरी गहरी सांस लेने लगी थी। दीदी के नीप्पल खड़े हो गए थे मेने एक सीधे दीदी की साड़ी के अंदर चुत में दो ऊँगली डाल दी  , दीदी ने एक जटके से आँखे खोली बोली ये सब बहुत ज्यादा हो रहा हे, बंद कर सो जा । मेने कहा दीदी मुझे आपकी चुत चटनी हे। फिर बंद कर दूंगा। दीदी बोली नही ये नही हो सकता , मेने कहा दीदी मेने एक मूवी देखि जिसमे लड़की की चुत चाटता हे। मेने बहुत जिद करने के बाद वो मान गए ।
मेने उनकी  साड़ी और पेटीकोट खोल दिया। दीदी की चुत एक  दम साफ दी , मेने दो ऊँगली उनकी चुत में डाल दी, अपनी जीभ को उनके चुत की मुलायम चूतड़ में टच किये दीदी एक जो से सिस्काई,हहहहह हहहह उनकी चुत का वो खुसब्बू मुझे और मदहोश किये जा रहा था। उनकी चुत का वो नमकीन अम्रत जैसा रस  मनो मेरे सरीर में वासना की उत्तेजना को बड़ा रहा ,  तभी दीदी की मुह से सिसिकिया हहह ईईई ऊऊऊऊ ईईईईई मममम की साथ मेरे सर को पिंकी दीदी ने अपनी चुत पे जोर से दबा के अपना सोम रास मेरे मुह में दे दी। और जोर जोर से सासे लेने लगी।
में समझ चूका का मेरी बहिन भी सेक्स के लिए आतुर हो चुकी है । मेने देर न की मेने मेरे लण्ड को दीदी के मुह में लेने को कहा दीदी बोली ठीक है। मेने कहा दीदी आप ही मेरे लण्ड को मेरे चड्डी से निकालो दीदी ने जैसे ही मेरे लण्ड को देखा उनका आँख बड़ी और मुह खुला ही रह गया वो बोली इतना मोटा और लंबा लुण्ड मेने नही देख। 9 इंच का लैंड तो मेरे मुह में ही नही सामने वाला। मेरे लैंड को दीदी चूसने लगी उनके मुह की गर्मी और उनके दातं मेरे ललौड़े लगड़ के मुझ उत्तेजित कर रहे थी। 8 से 10 मिनेट तक चूसने के बाद ,, मेने दीदी को कहाः में आपको चुदना चाहता हु, वो कुछ नही कही। ,
लेकिन में उनके बिन बोले उनके इसारा समझ चुके था।मेने अपना लैंड का टोपा 3 इंच ही अंदर डाला था की दीदी ऊऊ माँ माँ हहहहह ईईईईई ईईई सिसिकिया निकल रही थी । उनकी चुत बहुत टाइट थी या मेरे लण्ड मोटा मुझे नही पता ,पता  तो ये था कि में बहनचोद बन चूका हूँ। मेरे हर धककके के साथ मेरे बहन की सिसिकिया की आवाजें और भी तेज़ होती जा रही थी। पूरा कमरा ऊऊऊऊ इईईईईई आआआआआ मार। मां मां इईईईईई की और पच पच की मदुर सिसिकिया से गूंज उठा। में आधा ही लैंड उनकी चुत में डाल रहा था। दीदी बोली चुद मज़ा आ रहा । बहुत मोटा लैंड हे मेरे पति से भी मोटा और लम्बा।
मैनें एक जोर से  एक धकका दिया मेरा पूरा नो इंच का लैंड उनकी चुत फाड़ता हुआ अंदर तक गुस गया। वो दर्द के मारे बहुत ही जोर से चिल्लाई माँ माम्मी मर गयी। ऊऊऊऊ इईईईईई आआआआआआ ईऊऊऊऊऊऊऊऊ चोद बहन को अपनी बहन चोद, मेरे बहिन के आँख के आशु थे । चेहरे  और चुदने की खुसी। दीदी बोली don’t stop    करते रहो है हहीईईई इईईईईई ऊऊऊऊइयू यययययय इईईईईई ऊऊऊऊ आआआआआआ ऊऊऊऊऊऊऊ ऊऊऊऊऊ ईईईईईईईईईई don’t stop    और एक दीदी की चुत ने एक दम से बहुत सारा पानी छोड़ दिया मेरा लैंड पूरा गिला हो गया लेकिन में  रु खा नही धककके मरता रहा, कुछ झटको के बाद फिर उनकी चुत ने पानी बाहर निकाल दिया, मनो वो मूत रही हो।।
मेने दीदी को पॉसिशन बदली दीदी मेरे लैंड पे उछाल उछाल से चोद रही थी। ऊऊ ओईईई  चोद मुझे चोद बोल के ओर जोर से उचक रही थी। मेने उनको कुतिया बनने को कहा । उनको गण्ड में एक ऊँगली बड़ी ही मुश्किल से उनकी गण्ड बहुत ही ज्यादा टाइट कुवारी गण्ड थी। मेने दीदी को कहा अपने गण्ड क्यों नही मारवाई कभी। आपकी    मुझे  गण्ड मारनी हे। दी दी तेरे जीजाजी ने बहुत कोसिस की उनसे कभी अंदर ही नही गया। मेऊऊऊऊ ऊऊऊऊ इईईईईई ययययययय आआआत्स्स्स ऊऊऊऊ तू मुझे चोद ऊऊऊऊऊ ऊऊऊऊ इईईईईई ,  ऊऊऊऊ इईईईईई मआआआ ऊऊऊइयूई । मैनें कहा दीदी तुम्हारी गण्ड मारना हे वो बोली ठीक है।
मेने दीदी की गण्ड में बहुत सारे थूक लगा । मेरे लण्ड का टोपा बहुत हु मुश्किल से उनकी गण्ड में जा पा रहा था, दीदी बोली धिरे दर्द हो रहा है। गण्ड बहुत टाइट थी मेरे लैंड पे उनका दबाव में महसूस कर रहा था। मेने धीरे धीरे लण्ड अंदर कर रहा था दीदी ऊऊऊऊ इईईईईई आआआआ की आवाजें दीदी बोल रही दर्द तो हो रहा पर मज़ा भी आ रहा है । दीदी के मुह से इतना सुन के  एक जोर से लैंड का धक्का गण्ड में दिया मेरे लण्ड उनके गण्ड फाड़ता हुआ अंदर चला गया । ।। दीदी दर्द के मारे चिल्ला उठी बहुत मोटा हे। निकाल मेरे गाण्ड से दीदी की आँखों में असू  आ गए।
में और जोर जोर से उनको चोदता रहा वो ऊऊऊऊ ओईईई ममममममम ऊऊऊऊ ईईईईईईऊऊ त्तत्त्तिऊऊऊ ऊऊऊऊऊ ,, बोली आज कुछ देर बाद में उनकी गांड में ही जड़ गया।।  दीदी बोली आज बहुत मज़ा आया। इतना सुनते ही मेरे लण्ड फिर से खड़ा हो गया । उस रात में न और दीदी ने 7 बार चुदाई की 3 बार तो केवल गांड ही मारी, इतनी चुदाई के बाद में और दीदी बहुत थक गयी थे। । उस दिन से आज तक में दीदी के हमेसा जब भी मौका मिलता है हम दोनों चुदाई करते हे। ।