चुत में लंड घुसाने में बड़ी मसक्कत करनी पड़ी

गतांग से आगे …..

फिर कुछ देर बाद जब मेरे लंड ने उसकी चूत में अपनी जगह बना ली तभी उसने मुझे कहा कि मेरे राजा और ज़ोर से आअहह प्लीज़ मुझे अपना बना लो मज़ा आ रहा है आअहह प्लीज़ और ज़ोर से। फिर ना जाने मुझे कहाँ से जोश आ गया और में उसकी कमर को पकड़ कर जोर जोर से धक्के पे धक्के दिये जा रहा था। फिर इसी बीच शायद वो एक बार झड़ चुकी थी और करीब 20 मिनट तक जोरदार चुदाई करने के बाद में भी झड़ गया और मैंने उसकी चूत में तेज और अनगिनत धक्को के साथ अपना वीर्य छोड़ दिया और वो जाकर उसकी चूत की गहराइयों में खो गया।

फिर में उसके ऊपर ही कुछ देर पड़ा रहा और जब मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाला तो उस पर थोड़ा खून लगा था। वो शायद उसकी चूत ने मेरे लंड को इनाम दिया था। तभी मैंने अपने लंड को गौर से देखा तो वो अब भी कई लड़ाइयों में मेरा साथ दे सकता था। वो एकदम तनकर उसकी चूत को सलामी दे रहा था और कह रहा था में अभी हारा नहीं हूँ।

फिर हम दोनों बाथरूम में चले गये और शावर में नहाना शुरू कर दिया। तभी मैंने उसकी चूचियों पर साबुन लगाया और उन्हे ज़ोर से दबाया वो फिर से गरम हो गयी थी और मैंने फिर से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया लेकिन इस बार मुझे और उसे लंड के चूत में चले जाने का कोई भी अहसास नहीं हुआ और फिर उसने फिर से आवाज निकालनी शुरू कर दी आहह ओइईईईईई माँ मर गयी और फिर आघे घंटे के बाद हम दोनों शांत हो गये।

फिर थोड़ी देर तक हम दोनों नंगे एक दूसरे के साथ बातें करते रहे और फिर उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया और में फिर गरम हो गया। फिर मैंने उसे नीचे बैठाया और उसके मुहं में अपना लंड फिर डाल दिया और ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा। वो आअहहाअ की आवाज़ें निकाल रही थी और गरम हो रही थी। फिर करीब 10 मिनट बाद मैंने अपना पूरा वीर्य उसके मूँह में डाल दिया और उसने पूरा वीर्य पी लिया।

फिर उस दिन मैंने 3 बार उसके साथ सेक्स किया। फिर शाम को में उसको किस करके अपने घर आ गया। लेकिन दोस्तों मैंने उसकी चूत की आग को कई बार शांत किया कभी उसके घर पर जाकर तो कभी उसे अपने पास बुलाकर। लेकिन दोस्तों फिर कुछ दिनों के बाद उसके पति का तबादला कहीं और हो गया और वो वहाँ से चली गयी और हमे उसके बाद दोबारा सेक्स करने का मौका नहीं मिला ।

आज की एक और नई कहानी पढने के लिए यहा क्लिक करे >>