Tag: besthindisexstory

सेक्स की प्यास और प्यार

वह बहुत गर्म और यह रात मेरी ऐसी पहली रात है जो मैं कभी नहीं भूल पाऊंगा चूत पर जीभ लगाई और चातने में लगा बो पानी पानी होने लगी मैंने अपना लौड़ा उसकी चुत में झटके से अंदर कर दिया और प्यार प्यार से धक्का करने लगा।

मुठ मारना छोड़ चोदना शुरू कर दिया- 5

अगर प्यार और सहमति से चोदे और हमारी मदद भी करे तो चुदने में कोई बुराई नहीं है, बुर तो चुदने के लिए ही होती है पर अपने खुद के मर्द भी बुर का मज़ा पूरा लेते हैं और उसके बाद दो प्यार भरे शब्द भी नहीं बोलते.

ब्रेकअप से उदास बहन की चुदाई

मैंने दीदी की चड्डी उतार दी. अब दीदी पूरी नंगी मेरे सामने खड़ी थी, मैंने दीदी को बिस्तर पर लेटाया और उनकी चिकनी बूर चूसने लगा. थोड़े ही देर में दीदी की चुत गीली हो गयी और वो चुदने की भीख मांगने लगी.

गाँव की देसी भाभी की सेक्स लाइफ- 2

मैंने उन्हें लिटाकर उनकी टांगें अपने कन्धों पर रखी और गीला लण्ड उनकी चूत में उतार दिया।
फिर उनकी ठुकाई शुरू हो गई, पूरा कमरा हम दोनों की आवाजों से गूजने लगा, चूत और लण्ड एक-दूसरे को हराने में लगे हुए थे।

चचेरे भाई की जवान बेटी की चुदाई

उसकी चूत में अपना माल गिरा कर मुझे जो सुकून मिला, वो मैं बयान नहीं कर सकता. थोड़ी देर उसके ऊपर पड़े रहने के बाद मैंने लंड उसकी चूत के बाहर निकाल लिया. लंड बाहर निकालते ही उसका और मेरा रस उसकी चूत से बाहर आने लगा.

सर ने मौका देख मेरी चुत भर डाली

मेरी प्यास बुझने लगी मैं तड़प रही थी इस पल के लिए। सर बोले नीलांजना आज तक तुम कच्ची कली थी आज से तू छिनाल बन गई है। और पूरा लंड अंदर तक मेरी गान्ड में घुसेड़ कर लंड रस भर दिया और फिर मुझे सामने लिटा कर के मेरी टांगे फैलाकर मेरी चूंत का बहता हुआ रस चूसने लगे

विडिओज बनाकर नीग्रो जैसे लंड से चोदा

रूपेश मुझे दिन रात चुदाई करता रहा पर दिमाग़ तब खराब हुआ जब मुझे पीरियड नही आए मैं समझ गयी कुछ तो गड़बड़ है मैं रूपेश को बताई तो बोला बधाई हो मेरी रंडी मा बनने वाली है मैं बहुत रोई इस बार रूपेश को तरस आ गया

पदमा पड़ोसन गांड उछाल उछाल चुदवाया

मैंने भी फटाफट अपने कपड़े उतारे और अपना लंड उसके आगे कर दिया। वो उसे लालापॉप की तरह चूसने लगी। मैं भी बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया था मेरा लंड पत्थर जैसा सख्त हो गया था।

तीन गोरो से मेरी महराष्ट्रियन चुत चुदी

एक गोरे ने अपना मुँह मेरी चूत में डाल दिया और चूसने लगा और साथ में मेरी चूत में उंगली भी डालने लगा। दूसरा मेरे बगल में खड़ा हो गया और अपना खड़ा लंड मेरे मुँह में डाल कर मेरे मुँह को चोदने लगा। उसका लंड इतना कड़क था कि मेरे दांत उसके लंड को रगड़ रहे थे। वो बराबर मुझे अपना मुँह और खोलने के लिए कह रहा था।

पड़ोसी भाभी की चुदने की बेताबी

चुत मे से पहले से ही रस का दरिया बह रहा था, उन्हीं की पैन्टी से चूत साफ की और जीभ से चूत चाटने लगा, उन्हें मजा आने लगा। फिर हम 69 अवस्था में आ गए और वो भी मेरा लण्ड चूसने लगी।