Tag: devar bhabhi

कमलदास और अनुपा की अनोखी चुदास

कमलदास ने अपनी संधन अनुपा की चुदाई की और उनकी चुदाई होते हुये उनकी बेटी और उसके देवर ने देख लिए जिसे देखने के बाद शुभा ने भी अपने देवर से अपनी चुत चुदवाई।

भाभी गांड मरवाने के लिए तैयार हुई

वह अपने पैरों को चौड़ा कर लेती और मुझे कहती मुझे बड़ा मजा आ रहा है मैंने उन्हें घोड़ी बनाकर चोदना शुरू किया तो उन्हें और भी अच्छा लग रहा था। जैसे ही मैंने अपने लंड को उनकी गांड के अंदर डाला तो वह कहने लगी मुझे दर्द हो रहा है

भाभी की बेचैनी को समझ गया

मुझे उनकी साफ चमकती हुई रस से भरी कामुक गुलाबी चूत नजर आ गई. वो दिखने में ऐसी नजर आ रही थी कि जैसे वो कब से मेरे लंड का इंतज़ार कर रही थी और उसी समय मैंने उसका वो इंतज़ार खत्म किया और मैंने अपने लंड का टोपा उनकी खुली हुई चूत पर लगाकर चूत के दाने को रगड़ने लगा

भाभी ने चूत की आग मे चुदवा ली

मेरे लंड को पहले से ज्यादा जोश आ गया और अब में भाभी को बड़ी तेज रफ़्तार के धक्कों के साथ चोदने लगा था। फिर करीब तीस मिनट की चुदाई के बाद मैंने अपने लंड को भाभी की चूत से बाहर निकाला और उसको अपने सामने घोड़ी बनाकर मैंने पीछे से उसकी चूत में एक ही तेज झटके में अपना पूरा लंड अंदर डाल दिया।

मेरी और मेरी बहन की चुत अकेले देवर ने चोदी

एक दिन में कम से भी कम उसके साथ अपनी पांच बार चुदाई करवाना चाहती थी, लेकिन ऐसा अकेले पिंटू नहीं कर सकता था। फिर उसी शाम को मैंने पिंटू से कहा कि हम दोनों और ज्यादा चुदाई के मज़े लेना चाहती है, कुछ देर सोचने के बाद पिंटू कहने लगा कि मेरा एक खास दोस्त जिसका नाम जॉन है, उसका लंड मेरे लंड से भी ज्यादा लंबा और मोटा है