Tag: Group Sex

Group Sex,एक साथ कई लोगो से चुदाई,threesome sex,hot sex stories,hindi sex story,antarvasna chudai ki kahaniya,chut chudai,ग्रुप में चुदाई की कहानिया,अदल बदल कर चुदाई की कहानिया,चुदाई का मेला

सभी जवान लौंडो के लिए चैलेंज

में तुम्हारी चूत चाटता हूं। फिर क्या था जैसे ही उस लड़की ने मेरा लंड मुंह में लिया। मुझे ऐसा लगा जैसे कुछ गर्म चीज़ अपनी तरफ खींच रही हो। मेरा पानी भी निकलने लगा था। फिर मैंने उसको कहा पूरी नग्नावस्था में आ जाओ दोनों मां बेटी नग्न हो चुकी थी।

ग्रुप मे दो बहने हम दोस्तो से चुदी

मेरा लंड पूरी तरीके से छिल चुका था मैं उसे तेज गति से धक्का देता। जैसे ही मेरा वीर्य पतन हुआ तो मैंने सुमंती की योनि से लंड को बाहर निकाला उसकी योनि से मेरा वीर्य अब भी टपक रहा था।

दोनों दोस्तो ने अपनी प्यास उस कॉल गर्ल पे मिटाई

मैंने जब उसे घोड़ी बना कर चोदना शुरू किया तो विनोद का लंड उसने अपने मुंह में ले लिया था, मैं उसे धक्के दे रहा था मुझे उसकी चूतडो को पकड़कर उसे चोदने में बड़ा मजा आ रहा था। उसकी गोल और बड़ी चूतडो का रंग मैंने लाल कर दिया था जैसे ही मेरा वीर्य गिरने वाला था तो मैंने अपने लंड को बाहर निकाला

दो औरतों की गाँड़ चाटी और चुदाई

मैंने डॉगी स्टाइल में करके उनको अपना 8 इंच का लंड उनकी गांड पर टिका दिया और एक झटके में पूरा अंदर घुसा दिया और उसके बाद 1 घंटे तक लगातार उनकी गांड की चुदाई की फिर भाभी बोली में बहुत अच्छा लग रहा है.

चौकीदार के साथ मैंने भी मम्मी को चोद दिया

मम्मी की चुत मे अपनी ऊँगली आगे पीछे करने लगा थोड़ी देर मे ही मम्मी गरम हो गयी और उसके मुंह से सिसकारी निकलने लगी. इधर सूरजपाल ने मम्मी की चुत से मेरा हाथ हटा कर अपना मुंह मम्मी की चुत पर लगा दिया. अब वह मम्मी की चुत को मलाई की तरह चाटने लगा मम्मी की शरम ख़त्म हो चुकी थी.

मेरी मैनेजर ही मेरी कस्टमर निकली

मैंने मन में ठान लिया कि आज तो पलंग तोड़ परफॉरमेंस दूंगा और इसकी चूत फाड़ दूंगा. मेरे पास जोश बढ़ाने वाली गोली रखी थी तो मैंने वो गोली खा ली. अब मैं उसके पास गया और उसको बिस्तर पर धक्का दे दिया. वह बिस्तर पर जा गिरी और मैं अपने कपड़े उतारने लगा पर मेरी बॉस ने मुझे बीच में ही रोक दिया.

पति के दोस्तो से ग्रुप मे चुदी

पति के दोस्तो से ग्रुप मे चुदी मयंक ने अब मुझे सीधे लिटा दिया और मेरी टांगों को अपने कंधे पर रख कर मेरी चूत में लण्ड डाल कर चूचिओं को दबाने लगा. मयंक ने जब ज़ोर-ज़ोर से चूत में धक्के मारे तो उसका लण्ड चूत को अंदर से रगड़ रहा था और उसके आंड मेरी गांड पर टकरा रहे थे मुझे मयंक ज़न्नत की सैर करा रहा था.. अब मै भी झड़ने वाली थी

घर की औरतों की चुदास जाग उठी- 2

उसने मेरी चूत के दाने को मसलते हुए पूछा- भाभी यहाँ सब लोग रंडियां लेकर आते हैं, आप गुस्सा तो नहीं हो इस गंदे हाल में आकर? मुझे इस समय बहुत आनन्द आ रहा था, बोली- गुस्सा क्यों होऊँगी? यहाँ मुझे कौन जानता है, सब लोग यही समझ रहे हैं कि मैं रंडी हूँ ! यह सोचकर गुदगुदी और हो रही है। अब तुम भी जल्दी से अपनी भाभी रांड को चोद दो और हाल में कोई पूछे तो रंडी ही बताना। अब चोदो, देर न करो !

दोनों कुतिया चुदने के लिए तैयार थी

मेरा लण्ड तना हुआ था, मैंने देर किये बिना अपना लण्ड श्यामली की चूत में पेल दिया। अब श्यामली के दोनों छेदों में लण्ड घुसे थे, शिवशंकर और मैं दोनों श्यामली को एक साथ चूत और गाण्ड में चोद रहे थे। श्यामली दर्द से चिल्ला रही थी, माधवी सिगरेट पीते हुए बोल रही थी- श्यामली, ऐसा मज़ा घरेलू औरतों को बार बार नहीं मिलता ! चुदने के मज़े ले ले !

घर की औरतों की चुदास जाग उठी- 1

मैंने अपना कुरता ऊपर उठाया और बोली- सिर्फ एक-एक बार दोनों चुचूक चूस लो और काटना नहीं। मेरे दोनों चूतड़ों को दबाते हुए विशाल ने दोनों चुचूक एक एक करके मुँह में लिए और लॉलीपोप की तरह एक एक बार चूसे। इस बीच विशाल झड़ गया। मेरी बुर भी पूरी गीली हो गई थी, मेरा देवर के साथ यह पहला सुंदर कामुक अनुभव था।