Tag: new sex story

माँ की फ्रेंड की चुदाई का मौका

मेरे लंड आंटी की गांड में पूरा चला गया और आंटी तड़पती रही पर मैने कुछ नही सुना और अपना लंड आंटी की गांड के अंदर बाहर करता हुवे झटके मारता रहा। आंटी की आवाज़ भी कम होती जा रही थी और उनको भी मज़ा आने लगा।

गांड की छेद पर धुवाधार चुदाई

मे भी अब बेशर्म हो गयी थी और उसका लन्ड चूसने लगी। वो बोला साली कुतिया आज तो तेरे तीनो छेद को मे फ़ाड दूँगा, मे बोली हा मेरे राजा आज तो मुझे अपनी रन्डी बना दे फ़ाड डाल मेरे छेदो को आह्ह्।

सुधा के साथ वो रात- 2

सुधा के साथ वो रात- 1 आप लोगो ने मेरी सुधा के साथ वो रात कहानी के कई मेल और रिप्लाइ किये. आप सभी का में आभारी हु माफ़ करना बहुत दिनों के बाद दूसरा भाग लिखा रहा हु. मेरी कहानी अच्छी लगे तो रिप्लाइ करना। चलिये तो अब कहानी कि ओर चलते हैं। रूम […]

मम्मी की बुर और गांड का भोसड़ा

गफ्फुर मम्मी की मुह मे जॉर् से कटुआ लौरा पीट ही उसकी दोनो चुचि जोर से मसलते ही बोल अरे मेरी रंडि जो 17 साल से नही पकड पाया तो अब कौंन पकड़ेगा ये सुनते ही मै हैरान रो गया की ये साली मेरी हाय तो बहुत बड़ी चुद्दकर छिनाल निकली।

रात अभी बाकी है और हुस्न अभी भी जवान है- 2

हैलो दोस्तो, ये कहानी का दूसरा पार्ट है अगर अभी तक आपने इस कहानी का पहला पार्ट नहीं पढ़ा तो नीचे दिये गए लिंक पे क्लिक कर पहले कहानी को पहले पार्ट को रीड कर आगे की कहानी के मजे ले। रात अभी बाकी है और हुस्न अभी भी जवान है- 1 भिखारी मानो मगन […]

पिता ने चखा कोमल बेटी के यौवन का स्वाद

कोमल के बाल ज़ोर से पकड़े और उसका सर दबा दिया अपने लॅंड पे. कोमल मासूम थी. ये उसका पहला अनुभव था किसी लॅंड के साथ खेलने का. लॅंड उसको गले तक जा चुका था. उसकी सासे दब रही थी. लेकिन थोड़ी ही देर में लॅंड चूसना आ गया.

चचेरे भाई की जवान बेटी की चुदाई

उसकी चूत में अपना माल गिरा कर मुझे जो सुकून मिला, वो मैं बयान नहीं कर सकता. थोड़ी देर उसके ऊपर पड़े रहने के बाद मैंने लंड उसकी चूत के बाहर निकाल लिया. लंड बाहर निकालते ही उसका और मेरा रस उसकी चूत से बाहर आने लगा.

पदमा पड़ोसन गांड उछाल उछाल चुदवाया

मैंने भी फटाफट अपने कपड़े उतारे और अपना लंड उसके आगे कर दिया। वो उसे लालापॉप की तरह चूसने लगी। मैं भी बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया था मेरा लंड पत्थर जैसा सख्त हो गया था।

सील तो अपने बॉयफ्रेंड से तुडवानी थी

मेरा नाम तृप्ति है मैं अपने जीवन में कुछ करना चाहती थी लेकिन मेरे पिताजी हमेशा मुझे कहते कि तुम एक लड़की हो और तुम कभी कुछ नहींकर पाओगी। वह मुझे हमेशा ही कम आंका करते थे और कहते कि तुम पढ़ने में भी ठीक नहीं हो लेकिन उसके बावजूद भी मैं अपनी पढ़ाई पूरे […]

सुहागरात की रात दोनों नंगे होकर खूब चुदाई की

अपने लिंग को मेरी योनी में से बाहर निकाल दिया. वो खून से लाल हो रखा था. चादर पर भी एक लाल धब्बा सा था और मेरी योनी की दीवारें भी खून से सनी थी.