Tag: sex story

पहली बार चुदवाना घर से शुरू हुआ

जब उसका लंड अच्छे से टाइट हो गया तो मैंने उसको अपने मुंह में ले के चूसने लगी | उसे बहुत अच्छा लग रहा था मेरा ऐसा करना | मैंने उसका लंड 20 मिनट तक चूसा था फिर मैं नंगी हो गयी | और उसे कहा कि तू मेरे दूध पी जैसे तू मम्मी के दूध पीता है |

बीवी की बुर देख लंड उठने लगता

मेरा लंड प्यारी बीवी की चुत में जोर से अन्दर बाहर हो रहा था. मेरा वीर्य छूटने का वक्त आ गया था. मैंने एक तेज प्रहार किया और अपना लंड मेरी प्यारी बीवी की चुत में जड़ तक घुसा दिया.

एक्स बॉयफ्रेंड से शादी के बाद चुदवाने का मजा

मैंने अनिकेत और पिंटू दोनों से उनके रस को बाहर निकालने के लिए बोली, पर उन्होंने ध्यान नहीं दिया और बिना लंड को मेरी चूत और गांड से बाहर निकाले, मुझे बेड पर ले गए. जैसे तैसे मुझे बेड पर लेटाकर फिर से मेरी चूत और गांड को चोदने लगे.

शराफत के देवी मेरी बहन- 6

शराफत की देवी मेरी बहन- 5 दोस्तों मैं सूरज कुमार अपनी सच्ची घटना को छठा भाग एक बार फिर आप लोगों को कहानी के माध्यम से बताने जा रहा हूंपिछली कहानी में मम्मी पापा की चूदाई का**वीडियो देखने के ज़िद से बहुत मुश्किल से बहन को वीडियो दिखाकर चुदाई कर पाया था अब बहन का […]

कुल्फी की तरह लंड चूस के चुदवाई

मैं भी गांड उठा उठा कर उसका साथ देने लगी अब वो पूरे ज़ोश के साथ मेरी गांड मार रहा था और मैं भी मज़े से आआऊऊईई आह्ह आह्ह्ह मार मेरे राजा ओर ज़ोर से मार । फाड़ डाल मेरी गांड । ऐसे ही चोद मुझे आह्हह्ह रन्डी बना के चोद मुझे।

सेक्स के बिना हर प्यार अधूरा है

मैं उसकी बाहों में गई तो उसने मेरे स्तनों को दबाना शुरू किया और मेरे होठों को चूसना शुरू किया मेरे अंदर की गर्मी बढ़ने लगी थी, मैं अपने आप को काबू में ना रख सकी। उसने मेरे स्तनों को चूसना शुरू किया तो मेरे शरीर से गर्मी अधिक मात्रा में बढने लगी।

ससुरजी के लंड का राज आ गया- 2

मैं भाग कर उसके पास लेट गई और उसके मुहँ में चूची दे दी, वह चुपचाप दूध पीने लगा. पापाजी भी मेरे पास आकर लेट गए और मैंने बेटे को दूध पिलाने के साथ साथ एक हाथ से पापाजी के लण्ड को भी पकड़ लिया.

प्यासी चुत को अब ग्रुप मे लंड मिलने लगे

निखिल ने अपना लण्ड चूत से बहार निकला व चूत में थूक लगाकर चूत को और चिकना करके अपने लण्ड का सूपड़ा चूत में डाल दिया और मेरी कमर पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से चूत मरने लगा. चूत से फच -फच की आवाजें आ रही थी

ससुरजी के लंड का राज आ गया- 1

अपने जिस्म की नुमाइश करती हुई उनके पास आकर उनके हाथों को पकड़ा और अपनी चूचियों पर रख दिए. फिर उनके लण्ड महाराज को पकड़ कर हिलाती हुई बोली- पापाजी, अब तो आपका यह महाराज भी गर्म है और मेरी महारानी में भी आग लगी हुई है

बस मे अजनबी के साथ संभोग और कामरस

मैंने उसकी चूत में अपने लंड का प्रवेश कराया तो वो चिंहुक उठी। उसकी चूत तो पूरी गीली पड़ी थी, लंड अपने आप अन्दर सरकता चला गया और उसकी जड़ तक जाकर बैठ गया।
उसने मेरी कमर को अपनी टांगों से जकड़ लिया। वह भी मेरे लंड उसके साथ ही अपने हिसाब से चूतड़ों को आगे पीछे करने लगी ।