आखिर बीवी को गैर मर्द से चुदाई के लिए पटा ही लिया भाग -2

और मेरी फेंटसी पूरी हुई और फिर शनिवार का वो बहुप्रतीक्षित दिन आ गया बच्चों के स्कूल की छुटटी के बाद उनको गाव भेजने के बाद मैने प्रिन्स को फोन कर आने के लिए बोल दिया. शाम को अंधेरा होने के समय वो आ गया मैं स्टेशन जा कर उसको घर ले आया. उसको मैने सारी योजना पहले ही समझा दी थी वो अपने शहर से नीता के लिए एक खूबसूरत गिफ्ट और एक डिब्बा मिठाई भी लाया था नीता उसे देख कर खुश हो गई. प्रिन्स एक औसत कद काठी का साधारण लड़का था किंतु बात करने मे वो इतना कुशल था कि थोड़ी ही देर मे हम लोगों से ऐसा घुल मिल गया कि वो कोई बाहरी व्यक्ति नही बल्कि परिवार का सदस्य हो.

चाय नाश्ते के बाद हम दोनो उस से मसाज के लाभों के बारे मे पूछ्ते रहे और वो बहुत अच्छे ग्यान वर्धक जवाब देता रहा फिर डिनर के बाद जब मोहल्ले के लोग सोने लगे तब हमने तैयारी की. किसी अनजान व्यक्ति का साथ पहली बार था तो मेडम मसाज लेने को रेडी नही हो रही थी तो पहले प्रिन्स ने मुझे मसाज दी मुझे सच मे बहुत रिलेक्स फील हुआ.

नीता पास मे बैठी देखती रही फिर मैने बोला आप भी मसाज का आनंद लो. कुछ देर सोचने के बाद वो रेडी हुई और गाउन पहने हुए मसाज के लिए लेट गई. प्रिन्स ने उसके पैरों से मसाज देना स्टार्ट किया धीरे धीरे ऊपर की ओर आने लगा वो पूछ्ता जाता की आप कंफर्टबल तो हैं ना? जहा कोई प्राब्लम हो बता दीजिएगा. नीता बोलती हाँ अच्छा लग रहा है कोई प्राब्लम नही है. जांघों की मसाज के वक्त वो बोला आपके कपड़ों मे आयल लग जाएगा इनको उतार दू क्या वो कुछ नही बोली मैने उसके गाउन उतार दिया अब वो ब्रा और पैंटी मे थी.

प्रिन्स नीता की मसाज कर रहा था और मैं वही सोफे पर बैठ के उन दोनो का हौसला बढ़ा रहा था. जांघों की मसाज के बाद वो ऊपर की तरफ आया और नीता के कंधों और पीठ की मसाज करने लगा तो मैने बोला की ब्रा मे आयल लग जाएगा ब्रा उतार दूं क्या इस पर नीता बोली नही रहने दो ब्रा नही उतरना. मैने प्रिन्स को इशारा किया की वो अपनी फिंगर्स के हुनर से नीता को उत्तेजित करे उसने मुझे आश्वस्त रहने का इशारा किया फिर वो बोला की भाभी जी आपके सामने मसाज का पूरा आनंद ना ले पाएँगी आप दूसरे रूम मे चले जाएँगे क्या ?

मैं बोल ठीक है फिर नीता और प्रिन्स को बोला की मैं बेडरूम मे जा के सोता हू कोई ज़रूरत हो तो मुझे बुला लेना और मैं बेडरूम मे ना जा के स्टडी रूम मे चला गया वहाँ की विंडो मे ऑटो ग्लास था जिस से ड्राइंग रूम का सब कुछ दिखता था और ड्राइंग रूम से स्टडी रूम मे कुछ भी नही दिखता था. अब प्रिन्स ने खुल के नीता की हिप्स कमर और कंधों की मसाज करना चालू की वो बात भी करता जा रहा था और बेड रूम की तरफ देख लेता था.

इस बीच पीठ की साइड मसाज के बहाने उसने नीता के बूब्स को भी टच करना चालू कर दिया 4-5 बार बूब्स टच करने के बाद उसने पूछा भाभी जी आप कंफर्टबल तो हो ना? अच्च्छा फील हो रहा है ना?

नीता बोली बहुत मस्त फील हो रहा है. फिर प्रिन्स ने बोला की भाभी जी ब्रा मे आयल लग रहा है ब्रा की स्ट्रिप खोल दूं क्या तो नीता बोली हाँ खोल दो और उसने ब्रा की स्ट्रिप्स खोल दी और साइड की मसाज के बहाने साइड से ही बूब्स की भी मसाज करने लगा.

अब वो खुल के नीता के हिप्स जांघों और बूब्स की साइड से मसाज कर रहा था और भाभी जी अच्छा तो लग रहा है ना बोल रहा था. आप यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | नीता भी मसाज से उत्तेजित हो चुकी थी. फिर पीछे की मसाज पूरी होने के बाद प्रिन्स बोला भाभी जी सीधे हो जाइए तो सामने की मसाज कर दूं.

नीता सीधा हो के लेट गई और खुली हुई ब्रा से अपने बूब्स को ढक लिया. सामने की तरफ भी प्रिन्स ने नीता के पैरों से मसाज स्टार्ट की और घुटने से होते हुए जांघों पर पहुच गया. जांघों की मसाज के बहाने वो नीता की चूत को भी पैंटी के साइड से टच कर रहा था . और पूछ रहा था की भाभी जी आप कंफर्टबल तो फील कर रही हैं ना? कैसा लग रहा है? नीता बोलती हाँ अच्छा लग रहा है मस्त फील हो रहा है.

अब दोनो को विश्वास हो गया था की मैं बेड रूम मे सो गया हू.जबकि मैं स्टडी रूम की विंडो से सब कुछ देख सुन रहा था और उनको डिस्टर्ब करना मैने ठीक नही समझा. पेट की मसाज करते करते प्रिन्स ने नीता की ब्रा हटा के दूर फेक दी मुझे आश्चर्य हुआ की नीता ने इस पर कुछ नही बोला. फिर वो सामने से उसके पेट और कंधों की मसाज करते हुए बूब्स पर जा पहुचा और बारी बारी से उसके बड़े बड़े बूब्स की मसाज करने लगा. और बोला भाभी जी आपकी बॉडी बहुत मस्त है इतनी अच्छी बॉडी तो फिल्मी हेरोइनों की भी नही होती.

मसाज आपको अच्छी तो लग रही है ना? नीता बोली हाँ सच मे मुझे नही पता था की मसाज से इतना आनंद आता है. बहुत मस्त फील हो रहा है. मैं स्टडी की खिड़की से देख देख के बहुत उत्तेजित था और मुठ मारते हुए 2 बार अपना माल गिरा चुका था.

प्रिन्स फिर नीता के नीचे की तरफ आया वह पेट वा जांघों हाथ चला रहा था और फिर बिना कुछ बोले उसने दोनो हाथ उसकी पैंटी पर लगा दिए और उसे नीचे की तरफ खीचने लगा. घोर आश्चर्य कि नीता ने अपने हिप्स उठा दिए और प्रिन्स को अपनी पैंटी उतारने मे हेल्प कर दी. फिर तो प्रिन्स सीधे उसकी पूसी पर आ गया और पूसी की मसाज करने लगा और फिर एक हाथ से बारी बारी से दोनो बूब्स और निपल्स को रगड़ने लगा. नीता और प्रिन्स दोनो बहुत उत्तेजित हो गये उनकी सिसकियाँ निकलने लगी. उसने नीता का हाथ पकड़ के अपने अंडरवियर के अंदर डाल दिया और अपने लंड पर दबा दिया.

फिर अंडरवियर उतार के नंगा हो गया.उसका लंड 7 इंच से ज़्यादा लंबा और मस्त मोटा था जबकि मेरा 6 इंच से थोड़ा कम है. नीता हाथ से उसका लंड पकड़ के सहला रही थी प्रिन्स ने अपना लंड उसके मुह मे डालने की कोशिश की लेकिन नीता ने ऐसा करने को मना कर दिया. प्रिन्स नीता की चूत के अंदर उंगली डालने लगा और अंदर बाहर करने लगा.

और बोला भाभी जी अब मुझसे रहा नही जाता. आप कैसे कन्ट्रोल किए हुए हैं? आपका कुछ करने का मन नही हो रहा क्या? थैंक गॉड ! नीता बोली सब कुछ तो कर लिया अब इसके आगे कुछ भी करने के लिए शर्मा जी की अनुमति चाहिए होगी, उनकी मर्ज़ी के बिना मैं कुछ भी नही कर सकती.

जब प्रिन्स को लगा की ऐसे बात नही बनेगी तो उसने नीता को टॉवेल ओढ़ा दी अंडरवियर पहना और टॉवेल लपेट के बेडरूम की तरफ आया और मुझे आवाज़ दी भैया भाभी आपको बुला रही हैं.

मैं जल्दी से बेडरूम मे गया और वहाँ से निकल के सामने आया और पूछा कैसी रही मसाज मज़ा आया ? प्रिन्स बोला मस्त रही भाभी जी ने बहुत एंजाय किया और अब वो आपको बुला रही हैं. मैं रूम मे आया और नीता से पुछा कैसा रहा, मसाज एंजाय की?

नीता बोली मस्त रही मस्त एंजाय की अब प्रिन्स का सेक्स करने का मन है. मैने पूछा और आपका भी मन है क्या? आपको प्रिन्स के नये यंग लंड से एंजाय करने का मन है क्या? वो बोली जैसा आप बोलो. मैने बोला अगर आपका मन है तो एंजाय कर लो. वो बोली आप बोलो तो कर लू.

मेरा तो सपना पूरा हो रहा था मैने भी बोल दिया एंजाय कर लो ऐसा मौका बहुत किस्मत से मिलता है. वो बोली ठीक है जैसी आपकी मर्ज़ी? फिर मैने प्रिन्स को बेड पर बैठाया और उसका हाथ नीता के बूब्स पर रख दिया. कॉन्डोम निकाल के दिया और बोला बिना कॉन्डोम के सेक्स मत करना. वो मेरे सामने झिझक रहा था तो कुछ नही किया मैने स्थिति को समझा और बोला आप लोग एंजाय करो मैं बेडरूम मे जाता हू. और मैं फिर से बेडरूम से होते हुए स्टडी रूम मे आ गया.

वहाँ प्रिन्स स्टार्ट हो चुका था पर उसका लंड अभी पूरा खड़ा नही हुआ था उसने अपना लंड नीता के हाथ मे दे दिया नीता ने सहलाया तो उसका 7 इंच का लंड फिर से टनटना गया फिर उसने अपना लंड नीता के मुह मे दे दिया तो वो मस्त हो के चूसने चाटने लगी और वो दोनो 69 की पोज़िशन मे आ गये. प्रिन्स नीता की चूत चाटने लगा दोनो की सिसकियाँ तेज हो रही थी. फिर प्रिन्स ने नीता को सीधा लिटाया और अपने 7 इंची लंड पर कॉन्डोम चढ़ाया और नीता की चूत मे रगड़ने लगा नीता बोली अब तडपाओ मत प्यारे जल्दी से अंदर डाल दो.

प्रिन्स ने धक्का दिया तो नीता की आह निकल गई धीरे धीरे उसने अपना पूरा लंड नीता की चूत मे अंदर डाल दिया और चुदाई करने लगा. नीता तुरंत झाड़ गई. प्रिन्स के धक्के तेज हो गये नीता जल्दी जल्दी 5-6 बार झड़ती चली गई पर प्रिन्स का नही हो रहा था.

गजब का स्टॅमिना था उस वंडर बॉय मे. आख़िर कार नीता बुरी तरह थक गई और बोली बस अब मुझसे और नही किया जाएगा. और प्रिन्स को लंड बाहर करने को बोलने लगी प्रिन्स का नही हुआ था पर उसको लंड बाहर निकलना पड़ा और नीता ने अपने हाथ से मुठ मार के उसका माल निकल दिया. प्रिन्स बाथरूम चला गया फिर नीता ने मुझे बुलाया.

प्रिन्स के आने के बाद वो भी बाथरूम गई. फिर वो गरमा गरम दूध लाई हम तीनो ने एक एक ग्लास दूध पिया. मैने प्रिन्स को वही सोने की व्यवस्था की और हम दोनो बेडरूम आ के सोने लगे. नींद तो आनी नही थी मैने नीता को स्टोरी बताने को बोला तो बोली ज़्यादा कुछ याद नही है आज मस्त मसाज और चुदाई हुई है बस.

फिर बात करते और चिपकते हुए हम सोने की कोशिश करने लगे पर नींद कोसों दूर थी. तो मैने बोला सुबह प्रिन्स चला जाएगा अभी टाइम है चाहो तो एक बार और मज़ा ले लो तो वो बोली मज़ा तो बहुत आया पर अब मेरा बिना कॉन्डोम के यंग लंड का मज़ा लेने का मन है उसके माल की पिचकारी अपनी चूत मे अंदर फील करने का मन है मैने बोला ठीक है जैसा आप चाहो. तो चलें ड्रॉयिंग रूम मे प्रिन्स के पास? वो बोली अगर वो सो गया हो तो उसको डिस्टर्ब ना करेंगे और अगर जाग रहा हो तो एंजाय कर लेंगे. तो मैं ड्रॉयिंग रूम गया और प्रिन्स को धीरे से आवाज़ दी . प्रिन्स सो गये क्या?

वो बोला नही भैया नींद नही आ रही. मैने पूछा और एक बार एंजाय करने का मन है क्या वो बोला अगर आपका और भाभी जी का मन हो तो बिल्कुल . आप यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | मैने बोला हा हमारा तो मन है आप रेडी हो? वो बोला जी भैया. तो फिर रेडी हो जाओ. वो तो रेडी ही था मैने नीता को बुलाया और हम दोनो भी प्रिन्स के साथ बेड मे लेट गये. एक साइड प्रिन्स था बीच मे नीता और एक साइड मैं था.

मैने और प्रिन्स ने धीरे धीरे नीता को सहलाना किस करना चालू किया तो माहौल पूरी तरह से हॉट हो गया. जल्दी ही हम तीनो ने एक दूसरे के कपड़े उतार के नंगा कर दिया. मैं नीता का एक बूब दबा और चूस रहा था तो प्रिन्स दूसरा बूब मस्ती के साथ दबा दबा के चूस रहा था.

फिर मैने अपना लंड नीता के मूह मे दे दिया वो मस्ती के साथ मेरा लंड चूसने लगी तो प्रिन्स उसकी पूसी को चाटने लगा. फिर नीता प्रिन्स का 7 इंची लंड चूसने लगी तो मैं उसकी पुसी को चाटने और जीभ से चोद्ने लगा. फिर उससे सहन नही हुआ तो बोली अब मत तड़पाव डाल भी दो तो मैने अपना 6 इंची मोटा गोल टोपी वाला लंड एक ही झटके मे नीता की चूत मे अंदर डाल दिया वो मस्ती से तड़पने चीखने लगी.

और वहशी तरीके से प्रिन्स का लंड और गोलियाँ चूसने चाटने लगी. फिर कुछ देर की चुदाई के बाद मैंने अपना लंड चूत से निकाला तो प्रिन्स ने अपना 7 इंची नॉकदार टोपे वाला लंड नीता की रसीली चूत मे डाल दिया और मस्ती के साथ चोद्ने लगा. और नीता मेरा लंड चाटने चूसने लगी.

इस तरह की घमासान चुदाई के बाद प्रिन्स थकने लगा तो वो रुक गया और सीधा लेट गया और नीता ऊपर से उसके लंड मे अपनी चूत सेट करके बैठ गई और जोरदार चुदाई करने लगी. इस बीच नीता 6-7 बार झाड़ चुकी थी पर मेरा और प्रिन्स का नही हुआ था. जब नीता धक्के मार मार के थक गई तो हमने उसको डॉगी पोज़िशन मे किया और प्रिन्स ने पीछे से उसकी चूत मे अपना मस्त लंड डाल के घमासान चुदाई चालू कर दी और मैं सामने से उसको अपने लंड से उसका मुह चोद्ने लगा.

15-20 मिनिट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद प्रिन्स बोला भाभी मेरा होने वाला है कहाँ गिराउ? नीता बोली अंदर ही गिरा दो 8-10 जबरदस्त धक्कों के साथ प्रिन्स ने अपने माल नीता की चूत मे गिरा दिया नीता आह आह करके उसके माल की पिचकारियाँ महसूस करती रही और मैने भी अपना माल निकल दिया. हम तीनो बहुत थक चुके थे लगभग आधा घंटा हम लोग बेसूध पड़े रहे फिर होश आया तो सुबह के 4;30 हो चुके थे. हम तीनो बाथरूम गये फ्रेश होने के बाद नीता ने हम सबको चाय बना के दी चाय पींने के बाद मैं प्रिन्स को स्टेशन भेज आया.

अगली बार जल्दी ही आने का वादा कर वो अपने घर चला गया. इसके बाद तो हमारा जीवन नये उत्साह उमंग से भर गया और हमने बहुत एंजाय किया.

आपको मेरी सच्ची दास्तान कैसी लगी अपनी प्रतिक्रियाओं से अवगत अवश्य कराईयेगा.

आपका दोस्त
शुभ शर्मा
[email protected]