आखिर बीवी को गैर मर्द से चुदाई के लिए पटा ही लिया

आखिर बीवी को गैर मर्द से चुदाई के लिए पटा ही लिया : नमस्कार दोस्तो मेरा नाम शुभ शर्मा है मेरी उम्र 47 वर्ष है मैं मध्य प्रदेश के एक छोटे से शहर का निवासी हूँ और एक बहुत ही साधारण मध्यम वर्गीय परिवार से हूँ. आज मैं आपको अपने जीवन की दास्तान बताने जा रहा हूँ आशा है आपको पसंद आएगी और जो लोग अपने जीवन मे कुछ नया करना चाहते हैं उन्हें कुछ जानकारी प्राप्त हो सकेगी.

मेरी हाइट 6 फिट वजन 80 और साइज 6 इंच है जबकि मेरी पत्नी नीता 41 वर्ष की हाइट 5.1 वजन 70 और फिगर 38-32-40 है. हमारी शादी को 20 वर्ष से अधिक समय हो चुका है शादी के बाद प्रारंभ मे तो हमारी सेक्स लाइफ अच्छी चली किंतु बच्चे होने के बाद धीरे धीरे नीरसता आने लगी हमारे दांपत्य जीवन मे कुछ उत्साह नही रह गया था घरेलू आर्थिक और स्वास्थ्य की समस्याओं से जीवन दूभर हुआ जा रहा था.

आए दिन हमारे बीच झगड़े होने लगे और जीवन तनावयुक्त हो गया था. उसी समय कंप्यूटर और इंटरनेट आया तो मैं मनोरंजन के लिए इंटरनेट पर बैठने लगा. सोशल साइट्स मे आईडी बना कर देश विदेश के लोगों से मित्रता कर टाइम पास करने लगा.

कपल ग्रुप्स से जुड़ने पर पता लगा कि पति-पत्नी आपस में पार्ट्नर बदल कर सेक्स का आनंद लेते हैं और उनका जीवन नव आनंद से भर जाता है जीवन से तनाव समाप्त हो जाता है और पति पत्नी के बीच अटूट प्यार हो जाता है. तो मेरी भी दिली तमन्ना हुई कि अपनी पत्नी के साथ किसी कपल से इस तरह का आनंद प्राप्त किया जाए.

अब समस्या यह थी कि नीता को कैसे मनाया जाए वो ठहरी गाँव की रहने वाली पुरातन पंथी विचारों वाली शुद्ध भारतीय नारी अपने पति के अलावा किसी अन्य पुरुष से सेक्स तो क्या सेक्सी हँसी मज़ाक के बारे मे भी वो कभी सपने मे भी नही सोच सकती थी.

किंतु मेरे लिए अब जीवन में उत्साह लाने का यही एकमात्र रास्ता नज़र आ रहा था अतः मेरे लिए कपल स्वैप करना सबसे बड़ी फैंटेसी बन गई और इसके लिए योजना बनाना आरंभ कर दिया. इसके लिए मैने अपनी योजना पर अमल करना प्रारंभ किया सेक्स के समय उस से उत्तेजक बातें करना आरंभ किया पार्ट्नर बदल कर अदला बदली सेक्स की कहानी सुनाता और पॉर्न वीडियो दिखाता और एक साथ मस्ताराम डॉट नेट की कहानियाँ पढ़ते.

इससे हम दोनों की उत्तेजना बढ़ जाती और सेक्स मे भरपूर मज़ा आता. लेकिन जब मैं उससे दूसरे मर्द के साथ मज़ा लेने के बारे मे बोलता तो वो नाराज़ हो जाती और उसका मूड बिगड़ जाता.

शुरू मे नीता को मुख मैथुन अच्छा नही लगता था वो इससे घ्रणा करती थी एक रात जब वो गहरी नींद मे थी तब मैने उसकी योनि को चाटना शुरू कर दिया उसकी योनि के अंदर पूरी गहराई तक जीभ डाल के अंदर बाहर किया और चूत के दाने को भी बहुत प्यार से चाट और सहला कर उसको बहुत उत्तेजित कर दिया उसकी नींद खुल गई और उसे बहुत मज़ा आया तब से वो मुख मैथुन का मज़ा भी लेने लगी और कुछ दिन में मेरा लिंग भी चूसने लगी.

अब हम 69 का मज़ा भी लेने लगे और खुल कर चुदाई की बातें करने लगे. मैं चुदाई के समय अपने दोस्तों की बात करता और बताता कि रमेश का 7 इंच का मस्त मोटा नुकीला लंड है और संजय का लंड 8 इंच लंबा है उस से तुम्हें मज़ा दिलाऊँगा तो वो एक भी बार सहमति नही देती थी बोलती थी कि मेरे लिए आपका ही लिंग दुनिया का सबसे अच्छा लिंग है लेकिन नाराज़ नही होती थी मतलब अब वो कुछ कुछ लाइन मे आ रही थी.

अब मैने आगे बढ़ने का मन बनाया और एक रात्रि को 69 पोज़ीशन में मज़ा लेते लेते एक लम्बा मोटा बैगन उसकी चूत में डाल दिया और धीरे धीरे सावधानीपूर्वक उस लंबे मोटे बैगन से उसकी चुदाई करने लगा वो बड़ी मस्ती से मेरा लंड चूस रही थी उसका मज़ा दोगुना हो गया और स्खलित होने लगी. तब मैने नीता से पूछा की दो लंड से एक साथ मज़ा लेना कैसा लगा? बहुत ही मस्त लगा वो मस्त हो के बोली.

मैं: तो फिर एक साथ दो लंड का मज़ा कब दिलाऊं?

नीता: ले तो लिया आज दो लॅंड का मज़ा.

मैं: ये तो बैगन था सोचो जब सचमुच के दो लंड एक साथ लोगी तो कितना मज़ा आएगा.

नीता: ऐसे ही ठीक है मुझे किसी दूसरे मर्द से मज़ा नही लेना.

दोस्तों एक बार फिर मुझे लगा कि सारे किए कराए पर पानी फिर जाएगा लेकिन फिर भी मैंने हिम्मत नही हारी और लगातार प्रयास मे लगा रहा.
दोस्तों सोशल साइट्स पर मेरे बहुत सारे कपल मित्र थे मैं भी कपल था किंतु आधा अधूरा.

जब भी कोई मित्र फ़ोन या वीडियो कॉल पर कपल कन्फर्मेशन करने को बोलता नीता कभी भी किसी से बात करने या कैमरा के सामने आने को राज़ी नहीं होती थी और ना ही किसी नये दोस्तों से मिलने को हाँ बोलती. मुझे कोई रास्ता नज़र नहीं आ रहा था तभी एक दिन फ़ेसबुक पर एक मसाजर से दोस्ती हुई. उसने बोला कि आप बस नीता को मसाज के लिए तैयार करो बाकी काम मैं कर दूँगा. उसे अपनी कला पर पूर्ण विश्वास था. मुझे भी यह उपाय सही लगा.

अब मैं रोज रात को सोने या सेक्स के पहले उसको मसाज देता और तरह तरह की मसाज से उसको मस्त कर देता वो भी मेरी मसाज करती थी. मैं बात बात मे उसको मसाज के लाभ बताता उसको भी बहुत मज़ा आता था. नीता को मसाज की आदत पड़ गई अब उसको मसाज के बिना नींद ही नही आती थी. आप यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

मैने उसे बताया कि मेडिकल मसाज से बहुत सारी बीमारियाँ ठीक हो सकती हैं और मोटापा भी कम हो जाता है. लेकिन उसके लिए प्रशिक्षित मसाजार से मेडिकल मसाज लेना या सीखना ज़रूरी है.

नीता किसी और से मसाज करवाने को तो तैयार नहीं हुई पर सीखने को तैयार हो गई. अब मैने नीता को बताया कि पास के ही शहर में एक बहुत अच्छा मसाजर है वो मेरा बहुत अच्छा दोस्त है वो हमारी मदद कर सकता है. वो 2-3 दिन के लिये यहाँ आकर हमें मेडिकल मसाज सिखा सकता है और पैसे भी नहीं लेगा.

तो वो खुशी खुशी तैयार हो गई और मैं उस मसाजर प्रिंस के साथ अपनी फेंटेंसी पूरी करने की योजना बनाने लगा.

इसके लिए हमने शनिवार रात का प्लान बनाया क्योंकि रविवार को बच्चों की छुट्टी होने के कारण उनको दादा दादी के पास भेज देते थे.

मैने प्रिंस को शनिवार शाम को आने के लिए बोल दिया और तैयारी मे लग गया. दोस्तों उसके बाद हमारे जीवन मे एक नया मोड़ आ गया हमारा जीवन नये उत्साह उमंग और खुशियों से भर गया ये सब कैसे हुआ आगे क्या क्या हुआ वो सब आपको बताऊँगा आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा.

आखिर बीवी को गैर मर्द से चुदाई के लिए पटा ही लिया भाग -2

आपका दोस्त
शुभ शर्मा
[email protected]