मेरी और मेरे दोस्त की बीवी की घमासान चुदाई

ये मेरी सच्ची कहानी है जो मै आज आप सभी को मस्ताराम डॉट नेट के माध्यम से आपके पास पंहुचा रहा हूँ | ये कहानी मेरी बीवी की चुदाई की है | मेरी शादी २०१६ में हुयी थी हमारा जीवन खुशहाल था हमें किसी चीज की कमी नहीं थी | मै अपनी बीवी को रोज चोदता हूँ एक दिन मै ब्लू फिल्म देख रहा था और मेरी वाइफ ने आवाज सुन लिया वो किचन में थी मै बेडरूम में था वो भागती हुयी आई और मेरे से चिपक के साथ में ब्लू फिल्म देखने लगी उस फिल्म में दो लड़के एक लड़की को चोदा रहे थे मेरी वाइफ ने कहाँ छि ये कैसा है | मै बोला बेबी बहुत मज़ा आता है लड़की को फिर रात को मै जब अपनी वाइफ को चोद रहा था तो वो बोली बेबी एक बात बोलू गुस्सा तो नहीं करोगे ना मै बोला नहीं यार बोलो ना |

फिर उसने बोला मुझे भी वैसे ही चुदवाना है जैसे वो विडियो में देखा मै खुश हो गया इतना सुनते ही मै अपनी वाइफ की चूत में ही झड़ गया | दुसरे दिन मैंने अपने एक दोस्त को बताया वो मेरा बहुत क्लोज दोस्त है | वो भी शादीशुदा है मैंने जब उसे अपनी बात बताई तो वो रेड्डी हो गया | मेरा दोस्त संजय दुसरे शहर में रहता है हमने सैटरडे का दिन तय किया उसे भी आने में १२ घंटे लगते है तो मैंने संजय को बोला एक काम कर तू सैटरडे को सुबह उधर से निकल और शाम तक आ जायेगा | वो अपनी वाइफ को लाने में संकोच कर रहा था तो मैंने बोला नहीं यार तू अपनी वाइफ को भी लेकर आएगा तो ठीक रहेगा | उसने अपनी वाइफ से बात किया वो भी तैयार हो गयी शाम को दोनों घर आ गये मैंने पिने खाने का इन्तेजाम किया और रात ९ बजे हम पिने बैठ गये चारो का एक एक पैग लग गया अब माहौल गर्माने लगा था | मैंने झट से अपने लैपटॉप में फिर से वही ब्लू फिल्म चला दी | अब फिर मैंने एक पैग लगाया और अब माहौल एकदम गरम हो चूका था संजय की वाइफ मेरे बाजु में बैठ गयी और मेरी वाइफ संजय के बगल में बैठ कर उसके लंड को हिलाने लगी | इधर संजय की वाइफ मेरा लंड अपने मुह में लेकर ऊपर निचे करने लगी | मैंने बोला चलो पहले सब लोग कपडे निकाल लो फिर सुरु करते है |

सबने कपड़े निकाल लिए अब मैंने बोला हम एक एक करके चोदेगे पहले शीला की चुदाई करेंगे फिर अंजलि की शीला मेरी वाइफ का नाम है और अंजलि संजय की वाइफ का नाम है | वो लोग भी मेरी बात मान गये फिर क्या शीला और अंजलि एक दुसरे के मुह में मुह डाल कर चूसने लगी मैंने धीरे से अपनी अंगुली अंजलि की चूत में घुसा दिया उसकी चूत से पानी टपक रहा था चूत एकदम फुल गयी थी टाइट भी लग रही थी साली ने आज ही क्लीन सेव किया था | फिर मैंने अपनी वाइफ की चूत टच किया उसकी चूत की भी हालत अंजलि जैसे ही थी | अब संजय को बोला भाई चल सुरु हो जा और संजय का लंड भी ७.५ इंच लम्बा और ४ इंच मोटा मेरा लंड उससे भी बड़ा है ८.३ इंच और मोटाई उसके बराबर ही है | अब संजय निचे लेट गया और शीला उसके लंड को चूत में घुसा कर उसके लंड पर बैठ गयी और मै बेड के निचे खड़ा होकर उसकी चूत पर तेल मला और धीरे से घुसाने लगा शीला की चूत इतनी बड़ी नहीं थी की ४ – ४ इंच को दो लंड एक साथ आसानी से घुस जाए काफी मसक्कत के बाद मेरा लंड भी शील की चूत में बैठ गया | संजय निचे से धक्के मार रहा था और उसके दोनों बूब्स को भी मसल रहा था | अंजली हमें देखकर अपनी चूत रगड़ रही थी | आप यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

हमारी घमासान चुदाई का युद्ध सुरु हो चूका था शीला के मुह से आह आह एस आह आह आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह बेबी और तेज और तेज येस्स मै आने वाली हूँ और तबतक शील की चूत से पानी निकल गया अभी तो हमने सुरु ही किया था की शीला झड़ गयी | पर संजय नहीं रुका मै भी नहीं रुका हम धक्के पर धक्के मारते रहे तब तक शीला फिर से गर्म हो गयी और इस बार फिर उसके मुह से आह आह येस्स्स्स आह्ह्हह्हआह्ह्ह्हआह्ह्ह्ह आह्ह्हह्ह और तेज आह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह होने वाला है आह्ह्हह्ह और फिर से शीला झड़ने लगी अब इस बार उसकी चूत से पेशाब की तेज धार भी निकलने लगी संजय के ऊपर पेशाब का पूरा पानी गिर गया अब शील पूरी तरह से निढाल हो चुकी थी | और उसे येसा लग रहा था बहुत थक गयी हो शीला बोली बेबी अब बस फिर हमने अंजलि को उठा लिया इस बार निचे मै था और संजय बेड के निचे खड़ा था अंजलि भी मेरे लंड को अपनी चूत में डाल कर बैठ गयी | उसकी चूत शीला की चूत से ज्यादा टाइट लग रही थी अब अंजलि मेरे लंड को चूत में फसा कर बैठ चुकी थी फिर संजय ने भी पीछे से घुसा दिया अंजलि के मुह से चिल्लाने की आवाज आने वाली थी पर मैंने उसके मुह में अपनी जीभ डाल दी उसकी आवाज गू गू करके अन्दर ही रह गयी अब हम दोनों का लंड अंजलि की चूत में घुसा चूका था |

एक बार फिर से घमासान युध सुरु हो गया अब मैंने संजय को बोला भाई अब अंजलि की चूत में ही झड़ेगे संजय भी बोला ठीक है भाई पर उसके पहले अंजलि की चूत ठंडा करनी है मै भी बोला भाई अभी मै १ घंटे तक लगातार बिना झड़े चोद सकता हूँ | हम धक्के पर धक्का मार रहे थे इतने में अंजलि ने जोर की आवाज के साथ मुझे कश के पकड़ ली और झड़ने लगी | आप यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | हमने भी अपनी रफ़्तार तेज की हम भी सोच रहे थे की अंजलि के साथ झड़ेगे पर अंजलि पहले ही झड़ गयी फिर भी हम धक्के मारते रहे | और फिर से अंजलि गर्म हो गयी अब हम भी झड़ने वाले थे हमने कश के अंजलि को पकड़ के धक्के मारने सुरु किये और उसकी चूत से जोर की पेशाब निकलने लगी मेरा लंड गर्म पानी से नहा लिया अंजलि की आवाज इतनी तेज थी की सायद कोई सुने तो लगता की कोई किसी को पिट रहा है | अब हम दोनों ने अंजलि की चूत में अपने वीर्य से लबालब भर दिया था उसकी चूत से हमारा वीर्य बूंद बूंद कर गिर रहा था |

हम चारो निढाल होकर बेड पर लुढ़क गये आज पहली बार मुझे चोदने के बाद थकान लग रही थी | फिर हमने रात को १ बजे खाना खाया और फिर सो गये अब हमारा प्लान पुरे हफ्ते का था की रोज रात में एक राउंड चुदाई करेगे | दोस्तों वो पूरा हफ्ता मुझे याद है इस बात को लगभग ६ महीने हो गये संजय अपनी वाइफ के साथ कनाडा चला गया है मुझे भी बुला रहा है बोला भाई आजा इधर यहाँ पर मैंने अपने ऑफिस के एक अमेरिकन को पटा लिया है वो भी शादी शुदा है उसकी वाइफ भी तैयार है तू भी इधर ही आजा खूब मज़ा करेगे दोस्तों अगले हफ्ते मै भी जा रहा हूँ संजय ने उधर हो मेरे लिए भी जॉब ढूढ़ लिया है |

अब वहा पहुचने के बाद आगे की चुदाई लिखुगा तबतक आप लोग पढ़ते रहिये मस्ताराम डॉट नेट पर लाखो कहानियां है आप लोग मस्ताराम डॉट नेट को अपने दोस्तों से शेयर करना ना भूले |